देश की पहली क्रिप्टोकरेंसी यूनिकॉर्न फर्म कॉइन डीसीएक्स बना रही है आइपीओ लॉन्च करने की योजना

भारत की पहली क्रिप्टोकरेंसी यूनिकॉर्न कंपनी कॉइन डीसीएक्स जल्द ही अपना आइपीओ लाने की योजना बना रही है। कंपनी के सह-संस्थापक नीरज खंडेलवाल के अनुसार भारत की पहली क्रिप्टोक्यूरेंसी यूनिकॉर्न कॉइन डीसीएक्स सरकारी नियमों की अनुमति मिलते ही एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश को आगे बढ़ाने की योजना बना रही है।

Abhishek PoddarMon, 29 Nov 2021 02:26 PM (IST)
देश की पहली क्रिप्टोकरेंसी यूनिकॉर्न फर्म कॉइन डीसीएक्स अपना आइपीओ लाने की योजना बना रही है

नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। भारत की पहली क्रिप्टोकरेंसी यूनिकॉर्न कंपनी कॉइन डीसीएक्स जल्द ही अपना आइपीओ लाने की योजना बना रही है। कंपनी के सह-संस्थापक नीरज खंडेलवाल के अनुसार, भारत की पहली क्रिप्टोकरेंसी यूनिकॉर्न कॉइन डीसीएक्स सरकारी नियमों की अनुमति मिलते ही एक प्रारंभिक सार्वजनिक पेशकश को आगे बढ़ाने की योजना बना रही है। ब्लूमबर्ग के मुताबिक, खंडेलवाल ने एक टीवी प्रोग्राम को इंटरव्यू देते हुए यह बताया कि, "इस साल की शुरुआत में कॉइनबेस ग्लोबल इंक की यूएस लिस्टिंग के समान शेयर बिक्री भारत के डिजिटल परिसंपत्ति उद्योग के लिए विश्वास का एक महत्वपूर्ण वोट होगा। जैसे ही सरकार हमें अनुमति देती हैं, हम अपना आईपीओ लाने के लिए प्रयास करेंगे। एक आईपीओ उद्योग को वैधता देता है, जैसे कि कॉइनबेस आईपीओ ने क्रिप्टो बाजारों में बहुत विश्वास दिया है। इसी तरह हम कॉइन डीसीएक्स के आईपीओ के साथ समान स्तर का विश्वास पैदा करना चाहते हैं।"

खंडेलवाल ने अपने बयान में यह भी कहा कि, "फर्म आने वाले सरकारी नियमों के आधार पर सटीक समयरेखा तय करेगी। हम निश्चित रूप से उद्योग को आगे बढ़ाने के लिए आइपीओ लाना चाहते हैं। कॉइन डीसीएक्स की विस्तार योजनाएं भारत में उद्योग के भविष्य के लिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी की सरकार क्रिप्टोकरेंसी को विनियमित करने के लिए एक बिल लाने की तैयारी कर रही है।"

भारतीय रिजर्व बैंक ने स्पष्ट किया है कि, वह आधिकारिक डिजिटल मुद्रा बनाते समय सभी निजी क्रिप्टोकरेंसी पर प्रतिबंध लगाना चाहता है। सरकार ब्लॉकचेन तकनीक को बढ़ावा देने के लिए अपवादों के लिए तैयार है। भारतीय नियामक तेजी से क्रिप्टो के बढ़ते उद्योग के प्रति अपने रुख पर आगे-पीछे हुए हैं। सरकार ने साल 2018 में क्रिप्टो लेनदेन पर प्रभावी रूप से प्रतिबंध लगा दिया था, लेकिन पिछले साल सुप्रीम कोर्ट ने उस प्रतिबंध को हटा दिया था। पिछले सप्ताह प्रकाशित एक जनमत सर्वेक्षण के अनुसार, उसमें शामिल हुए आधे से अधिक लोग क्रिप्टोकरेंसी को वैध बनाने के खिलाफ थे।

"खंडेलवाल ने कहा कि प्रस्तावित कानून का सकारात्मक प्रभाव पड़ेगा क्योंकि यह निवेशकों और कॉइन डीसीएक्स जैसी फर्मों के लिए स्पष्टता प्रदान करता है। इस समय आने वाला बिल क्रिप्टो के लिए बढ़ते निवेशक आधार की सरकार की ओर से प्रगति और वास्तव में स्वीकृति का संकेत देता है।"

कॉइन डीसीएक्स ने इस साल फेसबुक इंक के सह-संस्थापक एडुआर्डो सेवरिन के बी कैपिटल ग्रुप के नेतृत्व में निवेशकों से 6.70 बिलियन रुपये (90 मिलियन डॉलर) जुटाए थे। उस समय के मुख्य कार्यकारी अधिकारी और सह-संस्थापक सुमित गुप्ता के मुताबिक, फंडिंग राउंड ने फर्म का मूल्य 1.1 बिलियन डॉलर आंका गया था।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.