Gold ETF योजनाओं की परिसंपत्तियां अप्रैल-जुलाई अवधि में बढ़कर 5,000 करोड़ रुपये के पार

नई दिल्ली, (पीटीआइ)। गोल्ड एक्सचेंज ट्रेडेड फंड्स (ईटीएफ) के मैनेजमेंट के भीतर आने वाले एसेट्स चालू वित्त वर्ष के शुरुआती चार महीनों में बढ़कर 5,079.22 करोड़ रुपये पर पहुंच गई हैं। दरअसल, अप्रैल-जुलाई अवधि में तीन फीसद गिरावट के चलते निवेशकों ने सोने में ज्यादा निवेश करना मुनासिब समझा है। निवेश सलाहकार कंपनी मॉर्निंगस्टार के आंकड़ों के अनुसार इस साल अप्रैल से गोल्ड ईटीएफ की प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियों में इजाफा हो रहा है।

अप्रैल-जुलाई अवधि में बीएसई सेंसेक्स में 1,191.79 अंको की गिरावट देखी गई है। जुलाई में सेंसेक्स में करीब पांच फीसद तक की भारी गिरावट रही। मॉर्निंगस्टार इंवेस्टमेंट एडवाइजर इंडिया में वरिष्ठ शोध विश्लेषक हिमांशु श्रीवास्तव ने कहा कि 2012 में उच्चतम स्तर छूने के बाद लंबे समय से निवेशक गोल्ड ईटीएफ या कोष में निवेश नहीं कर रहे थे। हालांकि गोल्ड की कीमतें बढ़ने बाद इस साल इसमें सुधार है।

हाल में वैश्विक अर्थव्यवस्था में काफी उतार-चढ़ाव देखे जाने के बाद सोना फिर से सुरक्षित निवेश बन गया है। मालूम हो कि अप्रैल में गोल्ड ईटीएफ के प्रबंधन अधीन परिसंपत्तियों का मूल्य 4,594.06 करोड़ रुपये था जो मई में बढ़कर 4,606.69 करोड़ रुपये, जून में 4,931.16 करोड़ रुपये और जुलाई में 5,079.22 करोड़ रुपये पर पहु्ंच गया है।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
Next Story