योजनाओं का ठीक से मॉनिटरिग नहीं होने से कई गांवों में समस्याएं बरकरार

बेतिया। प्रखंड के महुई पंचायत का समुचित विकास नहीं हो सका है। 18 हजार की आबादी वाले इस पंचायत में कई समस्याएं आज भी बरकरार है।

JagranMon, 27 Sep 2021 12:47 AM (IST)
योजनाओं का ठीक से मॉनिटरिग नहीं होने से कई गांवों में समस्याएं बरकरार

बेतिया। प्रखंड के महुई पंचायत का समुचित विकास नहीं हो सका है। 18 हजार की आबादी वाले इस पंचायत में कई समस्याएं आज भी बरकरार है। सड़क, शिक्षा, स्वास्थ्य की असुविधा यहां की प्रमुख समस्या हैं। जिसका निराकरण नहीं हो सका है। इस पंचायत अंतर्गत बनहवा परसा, महुई, सोनवर्षा, गुजरा मोतिहारी, बलुआ आदि गांव आते हैं। पंचायत के लोगों का कहना है कि सरकारी योजनाओं की मॉनिटरिग ठीक ढंग से नहीं होती, जिस कारण लोगों को योजनाओं का पूरा लाभ नहीं मिलता है। पंचायत की समस्याओं के समाधान को लेकर मुखिया के द्वारा काफी प्रयास किया गया। गली, मुहल्ले में पीसीसी व ईंट सोलिग के तहत सड़कों का निर्माण हुआ। बावजूद कई बुनियादी सुविधाओं का अभाव आज भी है। सबसे बड़ी समस्या तो स्वास्थ्य सुविधा की है। प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र हैं, लेकिन यहां कर्मी नहीं आते। लोग धुमली परसा पुल की मांग विगत कई वर्ष से करते आ रहे है। लेकिन लोगों को अब तक सिर्फ आश्वासन ही मिला है। हालांकि मुखिया जितेंद्र चौधरी आवास योजना, बृद्धा पेंशन योजन व राशन की समस्याओं का निराकरण के लिए प्रयास जारी रखे हैं।

--------------------------

बोले लोग :

फोटो- 15

पांच वर्ष में विकास के काफी काम हुआ है। मुखिया ने समस्याओं के निराकरण का काफी प्रयास किया है। समस्याओं के निराकरण के लिए मुखिया गंभीर है।

सचिन चौधरी, बलुवा

-----------------------------

फोटो-14

पंचायत में उपस्वास्थ उपकेन्द्र है। लेकिन कर्मियों के नहीं रहने के कारण इलाज के लिए लोगों को प्रखंड मुख्यालय जाना पड़ता है। मुखिया को इसके लिए आवाज उठाने की जरूरत है।

संतोष साह, सोनवर्षा

-----------------------

फोटो- 16

जनवितरण प्रणाली में कई अनियमितता है। पंचायत के विकास के लिए सरकार को भी ध्यान देने की जरूरत है। धुमली परसा पुल के लिए लोगों ने कई बार आवाज उठाई। लेकिन आज तक उस पर काम नहीं हुआ। शिक्षा व्यवस्था भी लचर है।

छोटेलाल चौधरी, ग्रामीण

-------------------

बोले मुखिया :

फोटो- 13

पंचायत के चतुर्दिक विकास के लिए मैने कोई कसर नहीं छोड़ा। विकास कार्य से लोग खुश हैं। मेरे कार्यकाल में पंचायत के लगभग सभी गांवों में पीसीसी व ईंट सोलिग से सड़कें बनी। इन्दिरा आवास योजना के तहत 375 लोगों को लाभ मिला। कबीर अंत्येष्टि योजना के तहत रुपये वितरण किया गया। 200 से अधिक लोगों को पेंशन योजना का लाभ मिला है।

जितेंद्र चौधरी, मुखिया

-----------------------------

पंचायत (एक नजर में)

जनसंख्या-- 15000

वार्ड -- 14

उपस्वास्थ्य केंद्र -- 01

स्कूल -- 10

पंचायत भवन --1

----------------------------

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.