आरोपित को छोड़ने की अफवाह पर आक्रोशित ग्रामीणों ने कालीबाग ओपी पर किया हमला, तोड़फोड़

आरोपित को छोड़ने की अफवाह पर आक्रोशित ग्रामीणों ने कालीबाग ओपी पर किया हमला, तोड़फोड़
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 12:52 AM (IST) Author: Jagran

बेतिया। दुर्घटना के बाद ट्रक ड्राइवर को छोड़ने की अफवाह पर उग्र भीड़ ने शनिवार की सुबह कालीबाग ओपी पर हमला बोल दिया। लाठी- डंडा से लैस दर्जनों की संख्या में पुरुष व महिलाओं ने ओपी परिसर में में तोड़-फोड़ और पत्थरबाजी भी की। हालांकि इसमें कोई पुलिस पदाधिकारी या जवान जख्मी नहीं है। आक्रोशितों ने परिसर में रखे गमला आदि को क्षति पहुंचाया है। लोगों का उग्र तेवर देखकर पुलिस ने लाठियां भांजी। जिसमें दो -तीन लोग चोटिल हो गए है। बाद में ग्रामीण ओपी का घेराव कर गेट के सामने धरना पर बैठ गए और मौके पर एसपी को बुलाने की मांग करने लगे। इसको लेकर कालीबाग ओपी के आसपास घंटों अफरा-तफरी की स्थिति रही। काफी मशक्कत के बाद एसडीएम विद्यानाथ पासवान और एसडीपीओ मुकुल परिमल पांडेय पहुंचे। लोगों को समझा- बुझाकर शांत कराया। बताया जाता है शनिवार की सुबह पुरानी गुदरी निवासी सब्जी व्यवसायी कृष्णा कुमार बाइक से सब्जी खरीदने बाजार समिति जा रहे थे। बाइक पर पड़ोसी रमेश साह भी बैठे थे। सुप्रिया रोड के किनारे खड़े एक ट्रक के खलासी ने तिरपाल पर बंधी रस्सी खोल कर दूसरी तरफ फेंका। रस्सी बाइक से जा रहे कृष्णा कुमार के गले में फंस गई और बाइक पर सवार दोनों गिरकर जख्मी हो गए। इसकी जानकारी मिलते ही व्यवसायी के परिजन वहां पहुंचे और ट्रक खलासी नितेश साह तथा ट्रक मालिक ध्रुव प्रसाद को जबरन बाइक पर बैठा कर अपने घर लेकर चले आए। दोनों को कमरे में बंद कर दिया। इसकी सूचना पर कालीबाग पुलिस पहुंची और बंधक बनाए ट्रक मालिक व खलासी को छुड़ाकर थाना लाई। इसके बाद अफवाह फैली कि पुलिस ने दोनों आरोपितों को छोड़ दिया। इसी अफवाह पर ग्रामीण थाने पहुंच गए। जबकि ट्रक मालिक व खलासी को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। थानाध्यक्ष मनीष कुमार ने बताया कि दर्जनों की भीड़ थाने में घुसते ही तोड़फोड़ शुरू कर दिया। जिन्हें हल्का बल प्रयोग कर खदेड़ दिया गया। वहीं पीड़ित कृष्णा कुमार की घायल बहन शीला कुमारी व प्रतिमा देवी ने आरोप लगाया कि भाई के साथ हुए हादसे की जानकारी लेने के लिए थाने पहुंची थी तो थानाध्यक्ष ने दोनों को मारपीट कर जख्मी कर दिया। इस घटना के बाद दर्जनों की संख्या में लोग थाना के गेट पर जमा हो गए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.