कोरोना के रिस्क जोन में है वैशाली, बचाव को ले मास्क व सतर्कता जरूरी : डीएम

कोरोना के रिस्क जोन में है वैशाली, बचाव को ले मास्क व सतर्कता जरूरी : डीएम

वैशाली। पर्व-त्योहार के बाद कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले में वैशाली जिला रिस्क जोन में आ

Publish Date:Fri, 27 Nov 2020 11:48 PM (IST) Author: Jagran

वैशाली। पर्व-त्योहार के बाद कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामले में वैशाली जिला रिस्क जोन में आ गया है। हालांकि जिला प्रशासन और स्वास्थ्य विभाग ने इसके लिए पूरी तैयारी कर रखी है, लेकिन इसके बढ़ते खतरों के बीच आम लोगों से मास्क का प्रयोग करने के साथ ही संक्रमण से बचाव में विशेष सतर्कता बरतने की अपील की जा रही है। कार्तिक पूर्णिमा स्नान को लेकर यहां कोनहारा घाट सहित अन्य घाटों पर पहुंचने वाले श्रद्धालुओं से फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन करने तथा नदी में सामूहिक डुबकी लगाने से परहेज करने की अपील की गई है। जिला प्रशासन स्नान के दौरान विशेष तैयारी कर रहा है।

डीएम उदिता सिंह एवं एसपी मनीष ने शुक्रवार को संयुक्त प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए कहा कि इस वर्ष कार्तिक पूर्णिमा का शुभ मुहुर्त 29 नवंबर की रात 12.30 बजे से लेकर 30 नवंबर को 2.26 बजे तक है। इस मौके पर यहां कोनहारा घाट सहित हाजीपुर के आसपास के घाटों पर लाखों की संख्या में श्रद्धालु पवित्र स्नान के लिए पहुंचते हैं। इसके लिए विभिन्न 17 घाटों को चिन्हित कर यहां प्रशासनिक इंतजाम किए जा रहे हैं। स्नानार्थियों की सुरक्षा के लिए घाटों पर बैरिकेडिग की गई है। इसके अलावा घाटों और उसके पहुंच पथों पर साफ-सफाई, पीने के पानी, रोशनी, वाच टावर, चेंजिग रूम, अस्थायी शौचालय आदि की व्यवस्था कराई जा रही है।

डीएम ने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा स्नान के मौके पर नदियों में निजी नावों का परिचालन पूर्णत: बंद रहेगा। वहीं घाटों पर मास्क का प्रयोग और फिजिकल डिस्टेंसिग का पालन अनिवार्य रहेगा। प्रशासकीय स्तर पर घाट के पास कंट्रोल रूम संचालित किया जाएगा। वहीं संवेदनशील स्थानों पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं। कोनहारा घाट के पास वृद्धजन एवं महिलाओं के स्नान के लिए 25 प्वाईंट का झरना लगाया जाएगा। इसके साथ ही यहां 6 बेड का अस्थायी अस्पताल खोला जा रहा है, जिसमें मेडिकल एवं आवश्यक दवाइयों के साथ चिकित्सक और पारा मेडिकल स्टॉफ प्रतिनियुक्त रहेंगे। घाटों पर पब्लिक एड्रेस सिस्टम की व्यवस्था उपलब्ध रहेगी। गंगा स्नान में 60 वर्ष से अधिक उम्र तथा 10 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को डुबकी लगाने से बचने की सलाह दी गई है। शादी-विवाह में जुलूस व बैंड-बाजा के इस्तेमाल पर रहेगी रोक

शादी-विवाह के दौरान बरात जुलूस, डीजे और बैंड-बाजा पर रोक रहेगी। वहीं सभी वैवाहिक कार्यक्रमों में स्टॉफ सहित दोनों पक्ष से केवल 100 लोग ही शामिल हो सकेंगे। कोविड-19 के बढ़ते संक्रमण को लेकर उठाए गए एहतियाती कदम के तहत यह आदेश लागू कर दिया गया है। डीएम ने बताया कि वैवाहिक कार्यक्रमों में कोविड-19 मानकों का पालन करना तथा फेस्कमास्क का प्रयोग अनिवार्य किया गया है। इस मौके पर सभी के लिए सैनिटाइजर का इस्तेमाल तथा होटलों- मैरिज हॉल में उपयोग के बाद मास्क और अन्य समाग्रियों के निबटान की उचित व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया गया है। वैवाहिक कार्यक्रमों के अलावा श्राद्ध् और कार्तिक पूर्णिमा स्नान को लेकर भी कई तरह के दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। बिदुपुर अंचल के प्रधान सहायक हुए कोरोना पॉजिटिव संवाद सूत्र, बिदुपुर : बिदुपुर अंचल के प्रधान सहायक कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। शुक्रवार को कार्यालय में कामकाल के दौरान उन्हें अचानक सिरदर्द शुरू हुआ था। इसके बाद उन्हें पीएचसी भेजा गया। इस दौरान जब उनकी कोरोना जांच हुई तो वह पॉजिटिव पाए गए। प्रधान सहायक के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने की खबर जैसे ही अंचल एवं प्रखंड कार्यालय में पहुंची, अधिकारियों एवं कर्मचारियों में हड़कंप मच गया। सीओ लाला प्रमोद श्रीवास्तव ने बताया कि प्रधान सहायक के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद कार्यालय के अन्य कर्मियों की भी कोरोना जांच के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंन कहा कि कार्यालय को सैनिटाइज कराने की व्यवस्था की जा रही है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.