गंडक नदी के घाटों पर लगेंगे सीसी कैमरे व वाच टावर

जागरण संवाददाता हाजीपुर लोक आस्था महापर्व छठ पर प्रशासनिक तैयारियों के बीच सुरक्षा के

JagranMon, 08 Nov 2021 11:10 PM (IST)
गंडक नदी के घाटों पर लगेंगे सीसी कैमरे व वाच टावर

जागरण संवाददाता, हाजीपुर :

लोक आस्था महापर्व छठ पर प्रशासनिक तैयारियों के बीच सुरक्षा के अनेक उपाय किए जा रहे है। यहां गंडक नदी के सभी महत्वपूर्ण घाटों पर मिनी कंट्रोल रूम स्थापित किए जा रहे हैं, वहीं हर गतिविधियों के कड़ी नजर रखने के लिए कई स्थानों पर वाच टावर लगाए जा रहे हैं। महापर्व छठ का अ‌र्ध्यदान सीसीटीवी कैमरें की निगरानी में होगा, जिसका कंट्रोल रूम से क्लोज सर्किट मानीटरिग की जाएगी। घाटों पर सुरक्षा कर्मियों और बचाव दल के साथ ही सादे वेश में महिला-पुरुष पुलिस पदाधिकारियों की भी तैनाती की जा रही है। यहां गंडक और गंगा नदी में निजी नावों के परिचालन पर रोक के साथ आतिशबाजी पर प्रतिबंध लगाया गया है।

इस बीच जिलाधिकारी उदिता सिंह ने सोमवार को हाजीपुर में गंडक नदी के विभिन्न घाटों पर महापर्व छठ को लेकर चल रही तैयारियों का निरीक्षण किया। इस क्रम में उन्होंने संबंधित विभाग के अधिकारियों से यहां सभी आवश्यक कार्यों को तत्काल पूरा कराने का निर्देश दिया है। निरीक्षण के समय जिलाधिकारी के साथ उप विकास आयुक्त विजय प्रकाश मीणा भी उपस्थित थे। निरीक्षण में जिलाधिकारी ने ऐतिहासिक कोनहारा घाट और सीढ़ी घाट सहित अन्य घाटों पर चल रही तैयारी का जायजा लिया। उन्होंने काम करा रहे नगर परिषद अधिकारियों और कर्मचारियों को सभी आवश्यक तैयारी शीघ्र पूरा करा लेने का निर्देश दिया। मालूम हो कि शहर में ऐतिहासिक कोनहारा घाट सहित हथसारगंज घाट, इमली घाट, डोभा घाट, बालादास घाट, नया पुल घाट, तंगौल घाट, कदम घाट, पुराना पुल घाट, क्लब घाट, जुडिसियरी घाट, कलेक्ट्रिएट घाट, महेश्वर घाट, सीढ़ी घाट, कौशल्या घाट, विधायक घाट, बुटन दास, नमामि गंगे घाट आदि जगहों पर छठ पर्व अ‌र्घ्यदान के लिए बड़ी संख्या में श्रद्धालु जुटते हैं। महापर्व छठ के मौके पर टेलीफोन नंबर 06224-260220 पर जिला नियंत्रण कक्ष कार्यरत रहेगा। गंडक नदी के 3 घाटों को खतरनाक घोषित किया गया है, वहीं 8 घाट आंशिक रूप से प्रतिबंधित किए गए हैं। यहां 69 स्थलों पर दंडाधिकारी की प्रतिनियुक्ति हुई है, जबकि 14 स्थल पर ड्राप गेट की व्यवस्था के साथ 6 स्थलों को वाहन पार्किंग के लिए चिन्हित किया गया है।

अ‌र्घ्यदान के दौरान शहर में नहीं चलेंगे कोई भी मालवाहक वाहन

अनुमंडल पदाधिकारी अरुण कुमार ने बताया कि सभी महत्वपूर्ण एवं बडे़ घाटों पर मिनी कंट्रोल रूम के साथ सीसीटीवी कैमरा लगाया गया है। इसके अतिरिक्त वाच टावर से भी निगरानी की जाएगी। उन्होंने कहा कि घाटों के आसपास पार्किंग स्थल चिन्हित किया गया है जिसके लिए साइनेज लगाया जा रहा है। शहर में 14 स्थानों को चिन्हित कर ड्राप गेट बनाया जा रहा है, जहां से केवल छठ पूजा से संबंधित वाहन हीं आगे जाएंगे। इसके अलावा शहर के लिए यातायात परिचालन की अलग से व्यवस्था की गई है जो 10 नवंबर के दिन में 2 बजे से रात्रि के 8 बजे तक तथा पुन: रात्रि 2 बजे से 11 नवंबर को सुबह के 8 बजे तक लागू रहेगा। इस अवधि में महुआ मोड़ से मालवाहक वाहनों का प्रवेश वर्जित किया गया है। इमर्जेसी वाहनों को छोड़ कर पटना जाने वाली सभी वाहनों को बीएसएनएल गोलंबर के पास रोका जाएगा। कोनहारा की तरफ जाने वाली गैर छठव्रती गाड़ी त्रिमूर्ति चौक से आगे नहीं जाएगी। घाट पर संध्या एवं प्रात: कालीन अ‌र्ध्य के लिए जाने के समय कोई भी गाड़ी नखास चौक से मस्जिद चौक की ओर नहीं जाएगी। जबकि अ‌र्ध्य देकर लौटते समय मस्जिद चौक से नखास चौक की ओर गाड़ी नही चलेगी। तीन घाट खतरनाक घोषित और आठ पर आंशिक रूप से प्रतिबंध

एसडीओ सदर अरुण कुमार ने बताया कि हाजीपुर में गंडक नदी पर बालादास घाट, क्लब घाट एवं कौशल्या घाट को खतरनाक घोषित करते हुए यहां अ‌र्घ्यदान पर पूर्णरूप से प्रतिबंध लगाया गया है। इसके अलावा 8 घाटों बालादास घाट से नया सड़क पुल घाट तक, तंगौल घाट से सीताराम घाट तक, पुरानी रेल पुल सीढ़ी से महेश्वर घाट तक, सीढ़ी घाट पर नमामि गंगे घाट, कौशल्या घाट से विद्यायक घाट के बीच, विघायक घाट पर कच्चा घाट, चिकनौरा पोखर घाट, सूर्य पोखर घाट को आंशिक रूप से प्रतिबंधित किया गया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.