कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर श्रद्धालुओं की सेवा व सहायता में तैनात रहेंगे 450 स्काउट गाइड कैडेट्स

जागरण संवाददाता हाजीपुर शहर के ऐतिहासिक गजेंद्रमोक्ष धाम कोनहारा घाट सहित पावन ना

JagranPublish:Sat, 13 Nov 2021 11:24 PM (IST) Updated:Sat, 13 Nov 2021 11:24 PM (IST)
कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर श्रद्धालुओं की सेवा व सहायता में तैनात रहेंगे 450 स्काउट गाइड कैडेट्स
कार्तिक पूर्णिमा स्नान पर श्रद्धालुओं की सेवा व सहायता में तैनात रहेंगे 450 स्काउट गाइड कैडेट्स

जागरण संवाददाता, हाजीपुर :

शहर के ऐतिहासिक गजेंद्रमोक्ष धाम कोनहारा घाट सहित पावन नारायणी नदी के विभिन्न घाटों पर कार्तिक पूर्णिमा स्नान के दौरान जुटने वाले लाखों श्रद्धालुओं की सुविधा एवं सहायता के लिए जिला प्रशासन के स्तर से हरेक तैयारी की जा रही है। जिलाधिकारी उदिता सिंह के निर्देश पर जिला प्रशासन के अनेक वरीय अधिकारी और नगर परिषद प्रशासन इसकी तैयारी में जुट हैं। इस दौरान घाटों का निर्माण, रोशनी, पेयजल, साफ-सफाई के साथ ही अस्थायी शौचालय और यूरिनल आदि की व्यवस्था जोर-शोर के साथ की जा रही है। इस दौरान स्नानार्थियों की सहायता एवं सुविधा के लिए अनेक उपाय किए जा रहे हैं, वहीं घाटों पर बांस-बल्ले की बैरिकेडिग कार्य कराया जा रहा है। घाटों पर चेजिग रूम, वाच टावर और झरना भी लगाए जाएंगे।

कार्तिक पूर्णिमा स्नान के लिए यहां जुटने वाली लाखों श्रद्धालुओ की भीड़ नियंत्रित करने के साथ यातायात की सुचारू व्यवस्था में स्काउट-गाइड कैडेट्स सभी चौक-चौराहे, ड्राप गेट और सभी घाटों पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की सेवा में तैनात रहेंगे। इस दौरान वाहनों की आवाजाही एवं नदी घाटों पर भीड़ नियंत्रण के लिए भारी संख्या में पुलिस बल के साथ ही स्काडट एवं गाइड कैडेट्स को भी लगाया जा रहा है। इसकी तैयारी के मद्देनजर शनिवार को स्थानीय स्काउट भवन में जिला शिक्षा पदाधिकारी समर बहादुर सिंह ने कार्तिक पूर्णिमा स्नान श्रद्धालुओं की सेवा में लगाए जा रहे स्काउट-गाइड कैडेट्स के साथ स्काउट शिक्षक-शिक्षिकाओं एवं स्काउट प्रभारियों की विशेष बैठक् बुलाकर उन्हें इस सेवा कार्य के लिए प्रशिक्षित किया।

उन्होंने निर्देश देते हुए कहा कि सभी घाटों एवं चौक-चौराहे पर विगत वर्षों की तरह इस वर्ष भी स्काउट-गाइड कैडेट्स के साथ तैनात रहकर स्काउट शिक्षक श्रद्धालुओं की बेहतर ढंग से सेवा एवं सहायता कार्य करेंगे। डीईओ ने बताया कि मेला सेवा शिविर में 450 स्काउट-गाइड कैडेट्स के साथ 85 शिक्षक एवं शिक्षिकाओं को प्रतिनियुक्त किया गया है। जिला संगठन आयुक्त ऋतुराज के संचालन में सभी स्काउट शिक्षक एवं शिक्षिकाएं करेंगे कार्य। यहा सेवा कार्य दो पालियों में होगी। मेला शिविर शहर के राज्य संपोषित बालिका उच्च विद्यालय हाजीपुर में 17 नवंबर से 20 नवंबर तक लगाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि स्काउट एवं गाइड कैडेट्स सभी घाटों के साथ ही सभी प्रमुख चौक-चौराहों एवं मार्गों पर पुलिस के सहयोग के लिए पूरी तरह से मुस्तैद रहें। इस अवधि में शहर के त्रिमूर्ति चौक, गांधी चौक, डाकबंगला चौक, स्टेशन चौक आदि सभी प्रमुख चौक-चौराहे पर पुलिस बल के साथ स्काउट एवं गाइड कैडेट्स ट्रैफिक कंट्रोल की भी कमान संभालेंगे।

पूर्णिमा स्नान को लेकर तैयारी की समीक्षा करते हुए डीईओ ने बताया कि जिले के स्काउट एवं गाइड के साथ इसके प्रभारी शिक्षक-शिक्षिकाएं हमेशा से जिला प्रशासन को सहयोग प्रदान करने के लिए तत्पर रहे हैं। स्काउट-गाइड के माध्यम से बच्चों का सर्वांगीण विकास होता है और ऐसे आयोजनों में बच्चे समाज सेवा कर अपने आप को प्रफुल्लित समझते हैं। उन्होंने जिले के सभी विद्यालयों के प्रधान को भी अपने पत्र के माध्यम से सूचित किया है कि अपने विद्यालय से चयनित स्काउट एवं गाइड कैडेट्स को मेला सेवा शिविर में निश्चित रूप से शिक्षकों के साथ प्रतिनियुक्त करें और इस कार्य में अपना सहयोग दें। इस मौके पर अवधेश कुमार प्रधानाध्यापक उत्क्रमित माध्यमिक विद्यालय रहीमापुर, स्काउट मास्टर सौरभ कुमार, स्काउट मास्टर अभिषेक रंजन, उमेश कुमार सिंह, विभा रानी, अनु कुमारी आदि स्काउट शिक्षक-शिक्षिकाएं उपस्थित थे।