शहर से गांव तक दिवाली के बिखरे रंग व रोशनी,

जिलेभर में गुरुवार को दीपावली का त्योहार पूरे हर्ष और उल्लास के साथ मना। शहर से गांव तक दिवाली के तमाम रंग व रोशनी बिखरती रही। रंग-बिरंगी रोशनी से सारा वातावरण जगमगा उठा। कोरोना महामारी की रफ्तार धीमी पड़ने से लोगों में त्योहार को लेकर उत्साह देखा गया।

JagranPublish:Sat, 06 Nov 2021 12:24 AM (IST) Updated:Sat, 06 Nov 2021 12:24 AM (IST)
शहर से गांव तक दिवाली के बिखरे रंग व रोशनी,
शहर से गांव तक दिवाली के बिखरे रंग व रोशनी,

सीतामढ़ी । जिलेभर में गुरुवार को दीपावली का त्योहार पूरे हर्ष और उल्लास के साथ मना। शहर से गांव तक दिवाली के तमाम रंग व रोशनी बिखरती रही। रंग-बिरंगी रोशनी से सारा वातावरण जगमगा उठा। कोरोना महामारी की रफ्तार धीमी पड़ने से लोगों में त्योहार को लेकर उत्साह देखा गया। लोग बाजारों में खरीददारी देखे गए। प्रदूषण को देखते हुए इस बार पटाखे छोड़ने पर प्रतिबंध भी लगा हुआ था। सांसद सुनील कुमार पिटू, विधान पार्षद देवेश चंद्र ठाकुर, डीएम सुनील कुमार यादव समेत तमाम गण्यमान्य ने जिलेवासियों को बुराई पर अच्छाई और अंधकार पर प्रकाश की जीत के प्रतीक इस पर्व पर सुख-समृद्धि के लिए शुभकामनाएं व बधाई दी। इसके पहले बीती रात तक दिवाली पर बाजार गुलजार रहा। लोगों ने खुशियों का त्योहार मनाने के लिए पटाखे, दीये, मिठाइयां, गणेश जी लक्ष्मी जी की मूर्तियां, पूजन सामग्री के साथ सजावटी सामान की जमकर खरीदारी की। करीब दो साल तक कोरोना की काली छाया से राहत मिलने के बाद इस बार दिवाली की धूम स्वाभाविक थी। शाम ढलते ही सीतामढ़ी जिला मुख्यालय समेत ग्रामीण अंचल रोशनी में नहा उठा। रंग-बिरंगी झालरें एवं लाइट्स से मकान-दुकान जगमगाने लगे। आतिशबाजी के शोर से वातावरण गुंजायमान होता रहा। घरों पर लक्ष्मी-गणेश की पूजा-अर्चना श्रद्धा-भक्ति के साथ की गई। प्रसाद वितरण के साथ एक-दूसरे का मुंह मीठा कराया गया और दिवाली की खुशियां सेलिब्रेट करते हुए मुबारकबाद दी गई। देव दीपावली पर जगमग हुआ पुनौराधाम व जानकी स्थान, जले दीप

सीतामढ़ी । देव दीपावली पर पुनौराधाम व जानकी स्थान स्थित जानकी मंदिर हजारों दीपों से जगमगा उठा। पुनौराधाम जानकी मंदिर में मां जानकी जीर्णोद्धार पर्यटन स्थल विकास समिति की ओर से 11 हजार दीये जलाएं गए। इसके अलावा पूरे मंदिर परिसर को रंगीन बल्बों से सजाया गया था। शाम ढलते ही बड़ी संख्या श्रद्धालु पहुंचकर सीता कुंड के तट पर दीये जलाएं। समिति के प्रबंधक अनिल कुमार व सहयोगी श्रवण कुमार ने कहा कि श्रद्धालुओं के बीच महा आरती के बाद प्रसाद का वितरण किया गया। मंदिर के महंत कौशल किशोर दास द्वारा पूजन आरती के बाद श्रद्धालुओं के बीच प्रसाद वितरण किया गया। इधर, जानकी स्थान जानकी मंदिर में दीपावली पर मंदिर को सजाया गया था। उर्विजा कुंड सहित पूरे मंदिर परिसर में 5100 दीये जलाए गए। श्री सीता जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र सीतामढ़ीधाम के अध्यक्ष आलोक कुमार के नेतृत्व में बड़ी संख्या में समिति सदस्यों व श्रद्धालुओं ने मंदिर सहित उर्विजा कुंड के तट पर दीया जलाकर माता जानकी का आशीर्वाद लिया। इसके अलावा शहर के विभिन्न मठ-मंदिरों कोट बाजार स्थित दक्षिणमुखी हनुमान मंदिर, वैष्णो माता मंदिर, रामविलास मंदिर, पीली कुटी, राधे कृष्ण मंदिर, बाजार समिति हनुमान मंदिर, बउआ हनुमान मंदिर, स्टेशन परिसर स्थित हनुमान मंदिर, अंचल गली स्थित वैदेही वल्लभ निकुंज मंदिर, राजोपट्टी शिव मंदिर, रघुनाथपुरी स्थित सिया-पिया कुंज मंदिर, डुमरा शंकर चौक स्थित काली मंदिर, कैलाशपुरी स्थित चंडीधाम में दीपोत्सव का आयोजन किया गया।