तीसरी लहर से बचाव को ले बना पीकू वार्ड, आक्सीजन बेड की संख्या बढ़ी

छपरा। सारण में कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग दूसरी लहर से सबक लेते हुए अस्पताल में बेड की संख्या से लेकर अन्य स्वास्थ्य उपकरण व दवा का स्टाक कर रहा है। नीति आयोग के सदस्य डा. बीके पाल समेत अन्य स्वास्थ्य विशेषज्ञ अगस्त के अंतिम सप्ताह में तीसरी लहर की संभावना व्यक्त कर रहे है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से तैयारी में जुट गया है।

JagranSat, 31 Jul 2021 11:45 PM (IST)
तीसरी लहर से बचाव को ले बना पीकू वार्ड, आक्सीजन बेड की संख्या बढ़ी

छपरा। सारण में कोरोना की संभावित तीसरी लहर से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग दूसरी लहर से सबक लेते हुए अस्पताल में बेड की संख्या से लेकर अन्य स्वास्थ्य उपकरण व दवा का स्टाक कर रहा है। नीति आयोग के सदस्य डा. बीके पाल समेत अन्य स्वास्थ्य विशेषज्ञ अगस्त के अंतिम सप्ताह में तीसरी लहर की संभावना व्यक्त कर रहे है। इसके बाद स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह से तैयारी में जुट गया है।

इसके लिए अस्पताल में विशेष कोविड केयर सेंटर में सुविधा को तेजी से बढ़ाया जा रहा है। कोरेाना की तीसरी लहर बच्चों पर असर ज्यादा करेगा इसलिए छोटे बच्चों के लिए पीकू वार्ड भी बनाया गया है। 150 आक्सीजन बेड बनेगा

कोरोना संकट की तीसरी लहर से निपटने के लिए सदर अस्पताल में 150 आक्सीजन बेड बनाया गया है। दूसरी लहर में आक्सीजन बेड की संख्या बहुत कम थी। आक्सीजन सिलिडेर को ले मरीजों के स्वजन रात में दुकानों में नंबर लगाते थे। उसके अलावा यहां 350 अन्य कोविड मरीजों के लिए बेड है। उस पर आवश्कता पड़ने पर आक्सीजन सिलेंडर लगाया जाएगा। आक्सीजन सिलेंडर व कंस्ट्रेंटर मशीन भी है उपलब्ध :

स्वास्थ्य विभाग के पास पर्याप्त मात्रा में आक्सीजन सिलेंडर एवं आक्सीजन कंस्ट्रेंटर मशीन का भंडारण है। इसे सदर अस्पताल में रखा गया है। डीपीएम अरविद कुमार ने बताया कि आक्सीजन सिलेंडर से कंस्ट्रेंटर मशीन को जरूरत पड़ने पर उपयोग किया जाएगा। इसमें वहां भंडारण से लेकर रिफिलिग कहां से होगी, सबकी प्लानिग की जा रही है।

अस्पताल में बच्चों को ले 10 बेड का पीकू वार्ड :

सदर अस्पताल के पीकू(पीडियाट्रिक इंटेसिव केयर यूनिट) वार्ड में छह से बढ़ाकर 10 बेड कर दिया गया है।

कोरोना की तीसरी लहर से पहले इस वार्ड को विशेष रूप से आधुनिक सुविधा से लैस कर दिया जाएगा ताकि कोविड की चपेट में आने वाले बच्चों को यहां विशेष उपचार मिल सके। इसमें हाई केयर बेड के साथ ही आक्सीजन पाइप लाइन, ओपन केयर सिस्टम एवं अन्य उपकरण लगा है। कोरोना मरीजों को ले छह बेड का आइसीयू :

कोरोना संक्रमण की आगामी संभावनाओं को देखते हुए छह बेड का आइसीयू (इंटेंसिव केयर यूनिट) भी तैयार किया गया है। यह वेंटिलेटर,आइसीयू मेंट्रेस , बेडसाइट मानिटर समेत अन्य उपकरण से लैस है। सारण में आबादी के अनुसार आइसीयू बेड की उपलब्धता कम है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.