सारण में जागरण अभियान के बाद पहुंची डीएपी खाद की खेप

गेहूं की बोआई शुरू होते ही डीएपी व एनपीके खाद की समस्या खड़ी हो गई थी। खाद के लिए प्रतिदिन भटकते व चितित किसानों की समस्या को दैनिक जागरण ने प्रमुखता से उठाया था। दिघवारा गड़खा जलालपुर मढौरा सहित कई प्रखंडों में किसानों से बातचीत कर डीएपी व अन्य खाद की किल्लत की खबर प्रकाशित कर दैनिक जागरण ने जिम्मेदार तंत्र का ध्यान आकृष्ट किया। खबर का असर हुआ कि प्रखंडों के बिस्कोमान गोदाम तक सोमवार की शाम व मंगलवार की सुबह खाद की खेप पहुंची। जानकारी मिलते ही किसानों की भीड़ जमा हो गई।

JagranTue, 30 Nov 2021 11:01 PM (IST)
सारण में जागरण अभियान के बाद पहुंची डीएपी खाद की खेप

सारण। गेहूं की बोआई शुरू होते ही डीएपी व एनपीके खाद की समस्या खड़ी हो गई थी। खाद के लिए प्रतिदिन भटकते व चितित किसानों की समस्या को दैनिक जागरण ने प्रमुखता से उठाया था। दिघवारा, गड़खा, जलालपुर, मढौरा सहित कई प्रखंडों में किसानों से बातचीत कर डीएपी व अन्य खाद की किल्लत की खबर प्रकाशित कर दैनिक जागरण ने जिम्मेदार तंत्र का ध्यान आकृष्ट किया। खबर का असर हुआ कि प्रखंडों के बिस्कोमान गोदाम तक सोमवार की शाम व मंगलवार की सुबह खाद की खेप पहुंची। जानकारी मिलते ही किसानों की भीड़ जमा हो गई। इनसेट करें :

दिघवारा में बिस्कोमान भवन पर खाद लेने को किसानों की उमड़ी भीड़

- किसानों ने कहा : धन्यवाद जागरण संसू, दिघवारा : दिघवारा बिस्कोमान गोदाम भवन पर डीएपी खाद की खेप पहुंचने पर किसानों ने दैनिक जागरण को धन्यवाद दिया है। प्रखंड मुख्यालय स्थित बिस्कोमान गोदाम भवन पर डीएपी पहुंचते ही खाद के लिए मारामारी शुरू हो गई। अहले सुबह से ही महिला पुरुष खाद के लिए लाइन में लगे है। प्रशासनिक व्यवस्था नदारद रहने से खाद वितरण स्थल पर कुव्यवस्था का आलम रहा। भीड़ में शामिल किसान धक्का मुक्की कर किसी तरह खाद हासिल करना चाह रहे थे।

बताया गया कि तीन हजार बोरियों के सापेक्ष मात्र आठ सौ बोरी डीएपी खाद पहुंची है। किसान सुजीत कुमार सिंह निजामचक, रविद्र सिंह टरवां, चंदन कुमार उन्हचक, अरुण कुमार नवलटोला, अवधेश बैठा बस्तीजलाल, मनीष कुमार, नीतू देवी, सविता देवी निजामचक, ललीता देवी रामदासचक, श्रद्धा देवी मानुपुर, नीतू शर्मा शीतलपुर बस्तीजलाल आदि ने बताया कि खाद के लिए सुबह से ही लाइन में लग रहे हैं। भीड़ इतनी है कि खाद मिल नहीं पायी है। डीएपी पर ही पैदावार का दारोमदार है। ऐसे में खाद किसानों को ससमय सरकार द्वारा उपलब्ध नहीं कराने से रबी फसल की बोआई पर संकट है। खाद के कारण खेतीबाड़ी प्रभावित हो रही है। इधर बिस्कोमान गोदाम प्रबंधक प्रियंका ने बताया कि 3000 बोरी डीएपी खाद की मांग के सापेक्ष अभी 800 बोरी ही डीएपी उपलब्ध हो पायी है। भीड़ को संभालना मुश्किल हो रहा है। पुलिस प्रशासन से सहयोग नहीं मिल पाया है। इनसेट करें :

गड़खा बिस्कोमान गोदाम पर खाद लेने के लिए बेकाबू हुए किसान, पुलिस की मौजूदगी में शुरू हुआ खाद का वितरण

संसू, गड़खा : गड़खा प्रखंड क्षेत्र में आलू व रबी की बोआई जोरों पर है। इस बीच गड़खा प्रखंड के किसानों में डीएपी खाद खरीदने को लेकर आपाधापी मची है। प्रखंड कार्यालय स्थित बिस्कोमान गोदाम में जैसे ही सोमवार को खाद की पहली खेप पहुंची गांवों में किसानों तक ये बात फैल गई। मंगलवार को सुबह से ही ठंड में सैकड़ों महिला-पुरुष खाद खरीदने के लिए लंबी कतार लगाकर धक्का मुक्की करते देखे गए। लोगों की भीड़ इतनी थी कि उसे नियंत्रित करने के लिए गड़खा थाना पुलिस को बुलानी पड़ी। पुलिस की मौजूदगी में खाद का वितरण किया गया। बिस्कोमान प्रबंधक निर्मल कुमार ने बताया कि काफी दिनों के बाद डीएपी की रैक बिस्कोमान में आयी। इसी कारण से इतनी भीड़ हुई है।

बताया कि पहली खेप में डीएपी का 2400 पैकेट आया है। किसानों में वितरण किया जा रहा। अब खाद की कमी नहीं होगी।

किसानों ने जागरण को सराहा

गलिमापुर के रविद्र सिंह, रामपुर के ललन सिंह, कदना के गणेश सिंह , महम्मदपुर के पारस सिंह, केवानी गांव शिवनाथ सिह, पंचभीड़िया के गणेश प्रसाद यादव, मीरपुर जुअरा के अशोक सिंह आदि ने कहा कि किसानों की पीड़ा को महसूस कर दैनिक जागरण ने अच्छी पहल की। कुदरबाधा के श्रीनिवास सिंह ने कहा कि दैनिक जागरण ने अपने दायित्वों का बेहतर निर्वहन किया।

बोले जिला कृषि पदाधिकारी :

जिले के किसी प्रखंड में खाद की कमी नहीं होने दी जाएगी। एक खेप खाद सोमवार को आयी है। उनका वितरण किया जा रहा है। तीन दिसंबर को और अधिक मात्रा में खाद आने पर अन्य प्रखंडों में उपलब्ध करा दी जाएगी।

केके वर्मा, जिला कृषि पदाधिकारी, सारण।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.