दहशत की चादरों में लिपटा योगियामठ, पुलिस करा रही माहौल को सामान्य

समस्तीपुर। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के आधारपुर पंचायत के योगियामठ गांव में सोमवार को हुए ट्रिपल

JagranWed, 23 Jun 2021 11:20 PM (IST)
दहशत की चादरों में लिपटा योगियामठ, पुलिस करा रही माहौल को सामान्य

समस्तीपुर। मुफस्सिल थाना क्षेत्र के आधारपुर पंचायत के योगियामठ गांव में सोमवार को हुए ट्रिपल मर्डर के बाद गांव में तीसरे दिन भी सन्नाटा पसरा रहा। पूरा गांव दहशत की चादरों में लिपटा है। अधिकांश लोग अपने-अपने घरों में दुबके हैं। मृतक और आरोपित दोनों के घर मातमी सन्नाटा है। जबकि, बड़ी संख्या में अधिकारी और पुलिस बल गांव में तैनात हैं। आसपास इक्के दुक्के दुकान खुले नजर आए। प्रशासनिक स्तर पर गांव के छह स्थानों पर दंडाधिकारी, पुलिस अधिकारी व सशस्त्र बलों की तैनाती की गई है। जबकि, पटना और दरभंगा जिला के बीएमपी जवान इलाके में कैंप कर रहे हैं। दो-दो शिफ्ट में अधिकारी व जवानों की डयुटी लगी है। पूरा इलाका पुलिस छावनी में तब्दील नजर आ रहा है। पुलिस प्रशासन की ओर से दोनों पक्षों में सामंजस्य बिठाने की लगातार पहल की जा रही है। अब लोगों की नजर में श्रवण, मैडम सनौव्वर और मो. अनवर की यादें ही शेष रह गई है। जबकि अनवर के पापा मो. नूर आलम आज भी पटना में इलाजरत हैं। वहीं पुलिस प्रशासन के लिए मुख्य आरोपित मो. हसनैन की गिरफ्तारी चुनौती बनी हुई है।

......................

उपमुखिया हसनैन व मृतक भतीजे को किया नामजद दोनों पक्षों ने हत्या के मामले में थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। उपमुखिया की गोली का शिकार बने श्रवण की ओर से उसके भाई रंजन राय के फर्द बयान पर प्राथमिकी दर्ज की गई है। इसमें गांव के उपमुखिया मो. हलीम के पुत्र मो. हसनैन और उसके भजीता अनवर को नामजद किया गया है। बताया कि गांव में जलजमाव की समस्या को लेकर 21 जून को श्रवण और अनवर के बीच विवाद हुआ। 21 जून की सुबह जब श्रवण घर से चाय पीने जोगियामठ चौक की ओर जा रहा था। रास्ते में हसनैन और उसके भतीजा अनवर ने उसका पीछा किया। इस क्रम में ग्रामीण मदन राय के घर के निकट हसनैन ने सामने से आकर श्रवण के सीने में गोली दाग दी। इसके पूर्व हसनैन ने श्रवण को हत्या की धमकी दी थी।

पहले मां को मारा, फिर चचेरे भाई को उसके बाद चाचा व बहनों को

अपनी मां शिक्षिका सनौव्वर खातून व चचेरे भाई अनवर की हत्या की वारदात को बताते हुए नुसरत प्रवीण ने बताया कि घटना के बाद सभी ने पहले मेरे घर का दरवाजा तोड़ दिया। फिर अंदर प्रवेश कर मेरी मां को बेरहमी से पीटा। साथ ही उसके कपड़े फाड़ दिए। बाद में उसे ले जाकर पानी भरे गडढ़े में डूबोकर मार डाला। आरोपितों ने मेरे घर में रखे सामान को लूटा, मां को बचाने आए चचेरे भाई को भी बुरी तरह पीट कर गर्दन व चेहरे को लहूलूहान कर दिया। उसे बचाने आए चाचा पर भी प्रहार किया। इतना ही नहीं मेरे अलावा अन्य दोनों बहनों के साथ भी मारपीट की। चलते-चलते दोनों घरों में मिट्टी तेल छिड़कर आग लगा दी गई। वहीं कार, बाइक को भी जला डाला गया। नुसरत प्रवीण द्वारा दिये गए आवेदन के बाद प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। इसमें रघुनाथ भगत के पुत्र रंजन कुमार उर्फ लोल्हा, महेंद्र भगत के पुत्र रघुनाथ भगत, राजेश भगत के पुत्र सनातन कुमार यादव, स्व. भोला भगत के पुत्र मनीष भगत, मदन भगत के पुत्र नरेश भगत, राम उचित भगत के पुत्र मदन भगत, स्व. लालबाबू भगत के पुत्र राम प्रवेश भगत, स्व. राम ज्योति भगत के पुत्र लखन भगत, स्व. रामउचित भगत के पुत्र भोला भगत, स्व. रामउचित भगत के पुत्र राम स्वराज भगत, मिथिलेश भगत के पुत्र राजू भगत सभी आधारपुर निवासी समेत 15-20 अज्ञात लोग घर का दरवाजा तोड़ अंदर घुस गए और मां को मारते-पीटते घर से बाहर खींच लिया। घर का सारा कपड़ा फाड़ डाला। उसके शरीर पर लोहे के रॉड व हथौड़ा से पीटकर छाती-पीठ आदि काट दिया। दो आरोपितों ने पास के पानी भरे गढ़े में डूबोकर उसकी हत्या कर दी। इसी दौरान अनवर दौरा हुआ आया और मां को बचाने की कोशिश किया तो सनातन ने उसके मुंह पर चाकू से वार कर दिया। इससे उसका मुंह कट गया। इसपर वह वहां गिर गया जहां सनातन ने उसके सिर पर कई बार ईंट से प्रहार किया। चाचा नूर आलम ने जब अनवर को बचाने की कोशिश की तो नरेश भगत ने लोहे के रॉड से प्रहार कर उनका सिर फोड़ दिया। अपनी दो बहनों के साथ मैं भी भागना चाही लेकिन मदन भगत ने लोहे के रॉड से दोनों के हाथ पर मारा जिससे उसके हाथ में गंभीर चोटें आई। इसके बाद सभी लोग घर में तोड़-फोड़ करने लगे। आलमारी के अंदर एक बैग में तीन लाख रुपये, तीन लैपटॉप और दो सोने के जेवर को भी लेकर राम प्रवेश भगत लेता चला गया। तीन आरोपितों ने मेरे एवं मेरे चाचा के घर पर मिट्टी तेल छिड़कर आग लगा दी। साथ ही इको स्पोर्टस कार, एक बुलेट, एक स्पेलेंडर में भी आग लगा दिया। सीएसपी से भी दो लाख 50 हजार रुपये निकालने की बात प्राथमिकी में कही गई है।

................................ दोषियों पर कार्रवाई हो व आश्रितों को 10 लाख का मुआवजे मिले

भाकपा माले जिला कमेटी की तीन सदस्यीय टीम बुधवार को आधारपुर गांव में मृतक के स्वजनों से मुलाकात की। ग्रामीणों से मिलकर घटना की जानकारी ली। पार्टी नेता सुरेन्द्र प्रसाद सिंह ने कहा कि जलनिकासी को लेकर मामूली विवाद तीन हत्याओं का कारण बन गया। समाज में इस तरह की घटना दुर्भाग्यपूर्ण है। टीम लीडर जीवछ पासवान ने राज्य सरकार और जिला प्रशासन से घटना की उच्च स्तरीय जांच कराने, दोषियों को चिह्नित कर गिरफ्तार करने, सभी मृतक के आश्रितों को 10 लाख रूपये मुआवजा देने की मांग की। उपेंद्र राय ने कहा कि जलनिकासी को लेकर मामूली विवाद में गांव के उपमुखिया हसनैन ने श्रवण राय की गोली मारकर हत्या कर दी। वहीं बेकाबू भीड़ ने उपमुखिया की पत्नी सनौव्वर खातुन और भतीजा अनवर की हत्या कर दी। क्षेत्र में लोगों से शांति व्यवस्था कायम रखने की अपील की।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.