धूल फांक रहे टैब, कैसे हो मॉनीटरिंग

समस्तीपुर । जिले के स्वास्थ्य संस्थानों में कार्यरत एएनएम को ऑनलाइन रिपोर्टिग के लिए दिया जानेवाला टैब पिछले एक महीने से अधिक दिनों से स्टोर में धूल फांक रहे। ऐसे में एएनएम को कब और कैसे आधुनिक सेवा से लैस किया जाएगा, किसी के पास मुकम्मल जवाब नहीं। इस पर अभी तक निर्णय भी नहीं लिया जा सका है। जिले के अलग-अलग स्वास्थ्य संस्थानों में कार्यरत 629 नर्सों को इसकी सुविधा दी जानी है। रजिस्टर में एंट्री की जगह अब पूरा डाटा इन टैब में ही डालना है। इसकी मॉनीटरिग जिलास्तर पर स्वास्थ्य प्रशासन द्वारा की जानी है। मातृ और शिशु स्वास्थ्य सेवाओं की मॉनीटरिग के साथ ही उन्हें और अच्छा बनाने के लिए जिले की एएनएम को अपडेट किया जाना है। राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत एएनएम को टैब देना है। इसके लिए राज्य स्तर से जिला स्वास्थ्य प्रशासन को टैब भी उपलब्ध करा दिया गया है। इस पर वे एप के माध्यम से गर्भवती और शिशुओं से संबंधित ब्योरा आरसीएच (री-प्रोडक्टिव और चाइल्ड हेल्थ) पोर्टल पर भेज सकेंगी। सरकार महिलाओं और शिशुओं के स्वास्थ्य के लिए गंभीर हैं। गर्भवती महिलाओं के साथ ही नवजात का ख्याल रखने वाली एएनएम की सक्रियता बढ़ाने के लिए उन्हें हाईटेक किया जा रहा।

-------------------

एएनएम को टैब ऑपरेट की भी मिलेगी जानकारी

स्वास्थ्य विभाग की ओर से जिले की सभी एएनएम को प्रशिक्षित किया जाना है। एएनएम टैब को कैसे ऑपरेट करेंगी, इसको ऑपरेट करने के लिए क्या-क्या सावधानियां बरतनी होंगी आदि-आदि। विदित हो कि एएनएम टीकाकरण और संस्थागत प्रसव की जिम्मेदारी वहन कर रही हैं। गर्भवती और नवजात के सर्वे के आंकड़ों को ये लोग स्वास्थ्य केंद्र पहुंचकर ही रजिस्टर में दर्ज कर पाती हैं। ऐसे में जिले तक डाटा पहुंचने में काफी समय लग जाता है और उनके कार्यकलापों की भी जानकारी नहीं हो पाती। सरकार ने कार्यों में तेजी लाने और व्यवस्थाओं को दुरुस्त करने के लिए सभी एएनएम को टैबलेट वितरित करने की योजना बनाई है, जिसमें वे पूरा डाटा मौके पर आसानी से फीड कर सकेंगी।

---------------------

स्वास्थ्य सुविधाओं में करनी है व्यापक सुधार

टैब मिलने के बाद एएनएम को दिन में किए कार्यों का विवरण प्रशासन द्वारा तैयार अनमोल एप के माध्यम से आरसीएच पोर्टल पर फीड करना होगा। मुख्यालय से लेकर आला अधिकारी इसकी आसानी से मॉनीटरिग कर सकेंगे और आवश्यकता पड़ने पर दिशा-निर्देश भी दिए जाएंगे।

---------------------

टैब में ये जानकारियां होंगी दर्ज

- नए दंपती का पंजीकरण।

- गर्भवती महिलाओं का पंजीकरण।

- नवजात का पंजीकरण।

- उपस्वास्थ्य केंद्र के सभी ग्रामीणों का डाटा लिक।

---------------------

वर्जन

ग्रामीण क्षेत्र में रहनेवाली गर्भवती महिलाओं के साथ ही उनके शिशुओं की पूरी देखभाल समय पर हो। टीकाकरण में भी किसी प्रकार की परेशानी न हो। गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य परीक्षण के साथ ही पूरी निगरानी हो। इसके लिए अनमोल एप बनाया गया है। सभी एएनएम टैब पर पूरा डाटा फीड करेंगी। इसके लिए विभागीय स्तर पर प्रक्रिया चल रही है।

आदित्यनाथ झा,

डीपीसी, जिला स्वास्थ्य समिति, समस्तीपुर

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.