संवेदना के साथ बाढ़ पीड़ितों को पहुंचाएं हरसंभव सहायता: मंत्री

सहरसा। मंगलवार को विकास भवन के सभागार में श्रम संसाधन एवं सूचना प्रावैधिकी सह जिला के प्रभारी मंत्री जिवेश कुमार की अध्यक्षता में सहरसा जिलान्तर्गत बाढ़ एवं अतिवृष्टि के संदर्भ में समीक्षात्मक बैठक हुई। बैठक में जिलाधिकारी कौशल कुमार उप विकास आयुक्त साहिला विधायक गुंजेश्वर साह रत्नेश सादा युसूफ सलाहउद्दीन सभी राजनीतिक दलों के जिलाध्यक्ष एवं जिलास्तरीय तकनीकी एवं गैर तकनीकी विभागों के पदाधिकारी सभी अंचलाधिकारी उपस्थित थे।

JagranWed, 15 Sep 2021 07:32 PM (IST)
संवेदना के साथ बाढ़ पीड़ितों को पहुंचाएं हरसंभव सहायता: मंत्री

सहरसा। मंगलवार को विकास भवन के सभागार में श्रम संसाधन एवं सूचना प्रावैधिकी सह जिला के प्रभारी मंत्री जिवेश कुमार की अध्यक्षता में सहरसा जिलान्तर्गत बाढ़ एवं अतिवृष्टि के संदर्भ में समीक्षात्मक बैठक हुई। बैठक में जिलाधिकारी कौशल कुमार, उप विकास आयुक्त साहिला, विधायक गुंजेश्वर साह, रत्नेश सादा, युसूफ सलाहउद्दीन, सभी राजनीतिक दलों के जिलाध्यक्ष एवं जिलास्तरीय तकनीकी एवं गैर तकनीकी विभागों के पदाधिकारी, सभी अंचलाधिकारी उपस्थित थे।

बैठक में सर्वप्रथम जिलाधिकारी ने सहरसा जिलान्तर्गत बाढ़ एवं अतिवृष्टि के संदर्भ में पावर प्रजेंटेशन के माध्यम से अद्यतन स्थिति के संबंध में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कोसी नदी की भौगोलिक स्थिति एवं तटबंध की सुरक्षा के संदर्भ में विस्तार से बताया। कहा कि तटबंध के सुरक्षा के लिए चार प्रमंडल कार्यरत हैं उनके माध्यम से तटबंध की सतत निगरानी रखते हुए तटबंध का सु²ढ़ीकरण, सुरक्षा एवं बाढ़ निरोधक कार्रवाई की गई है। इस बाबत मंत्री ने बताया कि कोई भी बाढ़ व सुखाड़ पीड़ित नहीं छूटे इसका ध्यान रखा जाएगा। इसके लिए आपदा नियमों के अनुकूल फिर से पीड़ितों की सूची बनाने का निर्देश अधिकारियों को दिया गया है। साथ ही तटबंध के बाहर जिन किसानों के फसल की क्षति हुई है उन्हें मुआवजा मिले इसके लिए जिला कृषि पदाधिकारी को जांच कर रिपोर्ट बनाने का निर्देश दिया गया है। बाढ़ प्रभावितों को पूरी संवेदना के साथ हरसंभव सहायता उपलब्ध कराएं, कोई भी छूटे नहीं। अंचलाधिकारियों की आपदा प्रबंधन में अहम भूमिका है। स्वयं भ्रमण कर अपने-अपने क्षेत्रों में जरूरतमंदों की समस्या को देखें और यदि विस्थापन हुआ है तथा सामुदायिक किचन की आवश्यकता है तो तुरंत आरंभ कराएं। कहा कि मानव बल की क्षति में यथाशीघ्र मुआवजा राशि देना सुनिश्चित करें। पशु क्षति का आकलन करा लिया जाए तथा पशुचारा का भी मुक्कमल व्यवस्था सुनिश्चित कराएं। मंत्री ने कहा कि सहरसा नगर परिषद में जल-जमाव की समस्या के संदर्भ में स्थायी व्यवस्था का प्रस्ताव दें एवं वर्तमान में नगर क्षेत्र में यथाशीघ्र जल निकासी हेतु रूपरेखा तैयार कर यथाशीघ्र कार्रवाई करते हुए जल निकासी की व्यवस्था सुनिश्चित कराएं।

----

बाढ़ व बारिश से क्षतिग्रस्त सड़कों की जल्द हो मरम्मत

----

प्रभारी मंत्री ने जानकारी दी कि पथ निर्माण विभाग की 23 सड़कें बरसात में क्षतिग्रस्त हुई है। इसमें से 18 सड़कों को दुरुस्त कर लिया गया है। जबकि ग्रामीण कार्य विभाग सहरसा व सिमरी बख्तियारपुर प्रमंडल की 99 सड़कें क्षतिग्रस्त हुई है। क्षतिग्रस्त सड़कों को पानी हटते ही दुरुस्त करने का निर्देश दिया गया है।

---

पथ निर्माण विभाग के अभियंता पर दिखी नाराजगी

---

बैठक के दौरान बलुआहा पुल के समीप रेनकट के मुद्दे पर चर्चा के दौरान प्रभारी मंत्री पथ निर्माण विभाग के कार्यपालक अभियंता पर नाराज दिखे और बैठक में ही उन्हें हिदायत दी।

---

नगर में जलजमाव वाले मुहल्लों का लिया जायजा

---

बैठक के उपरांत प्रभारी मंत्री ने स्थानीय भाजपा नेताओं के साथ जलजमाव से जूझ रहे मुहल्लों का जायजा लिया। इस दौरान उन्होंने जल्द इस समस्या के निदान के लिए अधिकारियों को निर्देश दिया।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.