जिले में 58 फीसद हुई गेहूं अधिप्राप्ति, अंतिम दिन 3406 एमटी हुई खरीद

धान का कटोरा कहा जाने वाला रोहतास जिला गेहूं अधिप्राप्ति में राज्य में दूसरे स्थान पर है। अधिप्राप्ति को ले तय समय खत्म होने के बाद लक्षय के करीब 58 फीसद गेहूं की ही खरीद हुई है। मंगलवार तक जिले में निर्धारित 45 हजार एमटी के विरुद्ध 209 पैक्स व व्यापार मंडल के माध्यम से मात्र 26024 एमटी की खरीदारी की गई है।

JagranTue, 15 Jun 2021 06:01 PM (IST)
जिले में 58 फीसद हुई गेहूं अधिप्राप्ति, अंतिम दिन 3406 एमटी हुई खरीद

जागरण संवाददाता, सासाराम : रोहतास। धान का कटोरा कहा जाने वाला रोहतास जिला गेहूं अधिप्राप्ति में राज्य में दूसरे स्थान पर है। अधिप्राप्ति को ले तय समय खत्म होने के बाद लक्षय के करीब 58 फीसद गेहूं की ही खरीद हुई है। मंगलवार तक जिले में निर्धारित 45 हजार एमटी के विरुद्ध 209 पैक्स व व्यापार मंडल के माध्यम से मात्र 26024 एमटी की खरीदारी की गई है, जिसमें 9774 एमटी गेहूं राज्य खाद्य निगम को जमा करा दिया गया है। लक्ष्य के 58 फीसद हुई खरीदारी :

सहकारिता विभाग के अनुसार गेहूं खरीद के लिए तय समय 15 जून तक 4453 किसानों से जिले में 26024 एमटी गेंहू की खरीद हुई है। जिले के लिए गेहूं अधिप्राप्ति के लिए 45 हजार एमटी लक्षय सरकार की ओर से रखा गया था। न्यूनतम समर्थन मूल्य 1975 रुपये प्रति क्विटल निर्धारित है। समर्थन मूल्य पर खरीद को ले सभी प्रखंडों में व्यापार मंडल व पैक्सों को अधिकृत किया गया है। अबतक 201 पैक्स व आठ व्यापार मंडल को गेहं खरीदने के लिए चयन किया गया है। 2706.100 एमटी खरीद के साथ शिवसागर प्रखंड प्रथम स्थान पर है, जबकि 2395.700 एमटी के साथ दिनारा दूसरे व 2314.000 एमटी के साथ सासाराम तीसरे नंबर है। कहते हैं किसान :

चेनारी के किसान सुरेंद्र सिंह, करगहर के रविद्र सिंह आदि ने बताया कि बाजार में गेहूं का रेट मुश्किल से 1600 रुपये प्रति क्विटल तक है। लिहाजा गेहूं बेचना किसानों के लिए घाटे का सौदा हो रहा है। जबकि पैक्स समितियों में गेहूं बिक्री करना टेढ़ी खीर है। वहां नियमानुसार गेहूं की अधिप्राप्ति नहीं हो रही है। कई तरह के खर्च दिखाकर समर्थन मूल्य देने में आनाकानी कर रहे हैं। कहते हैं पैक्स अध्यक्ष :

इस वर्ष पैक्स व व्यापार मंडल को गेहूं अधिप्राप्ति के लिए कोई लक्ष्य नहीं दिया गया था। सिर्फ जिला स्तर पर ही 45 हजार एमटी खरीद का लक्ष्य रखा गया है। खराब मौसम व लाकडाउन के चलते खरीदारी की गति थोड़ी धीमी रही है। सबसे ज्यादा परेशानी चावल का उठाव नहीं होने से है। चवल नहीं गिरने से क्रय समितियों पर ब्याज का भार बढ़ रहा है, जबकि किसान भाइयों के खाते में काफी पहले ही राशि भेज दी गई है।

प्रदीप सिंह, अध्यक्ष

पैक्स व व्यापार मंडल, शिवसागर प्रखंड किसान अबतक कुल खरीद (एमटी)

अकोढ़ीगोला 248 1566.000

बिक्रमगंज 179 1080.000

चेनारी 331 2095.700

दावथ 156 726.500

डेहरी 234 1377.000

दिनारा 460 2395.700

काराकाट 253 1195.500

करगहर 358 2101.600

कोचस 237 1989.000

नासरीगंज 138 769.000

नौहट्टा 126 621.000

नोखा 379 1850.500

राजपुर 214 1094.800

रोहतास 144 702.000

संझौली 85 540.000

सासाराम 358 2314.000

शिवसागर 397 2706.100

सूर्यपुरा 65 324.000

तिलौथू 91 575.500

कुल 4453 26023.900

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.