प्रमंडल का दूसरा धूमपान मुक्त जिला बना पूर्णिया

प्रमंडल का दूसरा धूमपान मुक्त जिला बना पूर्णिया

पूर्णिया। पूर्णिया सूबे का 17वां और प्रमंडल का दूसरा धूमपान मुक्त जिला बन गया है। समाहरणालय

JagranWed, 02 Sep 2020 09:17 PM (IST)

पूर्णिया। पूर्णिया सूबे का 17वां और प्रमंडल का दूसरा धूमपान मुक्त जिला बन गया है। समाहरणालय सभा कक्ष में आयोजित जिला तंबाकू नियंत्रण समन्वय समिति की बैठक में बुधवार को जिलाधिकारी राहुल कुमार ने इसकी औपचारिक घोषणा की। इस दौरान सभी वरीय पदाधिकारियों द्वारा धूमपान मुक्त घोषणापत्र पर हस्ताक्षर किया गया।

जिलाधिकारी ने जिला वासियों से अपील करते हुए कहा कि तंबाकू से तैयार होने वाले सभी पदार्थों यथा बीड़ी, सिगरेट, गुटखा, खैनी, हुक्का से अनेक बीमारियां होती हैं, इसलिए इसका सेवन न करें। जिलावासियों के सहयोग से पूर्णिया धूमपान मुक्त जिला घोषित हुआ है। अब पूर्णिया को तंबाकू मुक्त जिला बनाने के लिए हम सब मिलकर प्रयास करें। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार कोविड-19 से लड़ रहे हैं उसी प्रकार हमें तंबाकू को समाप्त करने हेतु लड़ाई लड़नी होगी।

=======

तय मानकों को किया पूरा

तम्बाकू नियंत्रण हेतु राज्य सरकार की तकनीकी सहयोगी संस्था सोशियो इकोनॉमिक एंड एजुकेशनल डेवलपमेंट सोसाइटी (सीड्स) के कार्यपालक निदेशक दीपक मिश्रा ने तम्बाकू नियंत्रण कार्यक्रम के राज्य स्वास्थ्य समिति के द्वारा समय-समय पर स्वतंत्र एजेंसी से अनुपालन सर्वेक्षण कराया जाता है। सार्वजनिक स्थानों पर धूमपान पर प्रतिबंध के अनुपालन की बेहतर स्थिति के अनुसार जिलों को धूमपान मुक्त घोषित किया जाता है। इस साल के शुरुआत में पूर्णिया समेत 16 जिलों में तम्बाकू नियंत्रण अधिनियम (कोटपा 2003) के अनुपालन को लेकर एक स्वतंत्र एजेंसी से सर्वेक्षण कराया गया था। पूर्णिया जिले में कोटपा की धारा 4 का अनुपालन प्रतिशत 91.5 पाया गया है। सर्वेक्षण में धूमपान मुक्त के तय मानकों के आधार पर पूर्णिया को धूमपान मुक्त जिला घोषित करने निर्णय किया गया।

=======

सार्वजनिक स्थलों पर धूमपान दंडनीय अपराध

कार्यक्रम के दौरान एसपी विशाल शर्मा ने कहा कि धूमपान मुक्त जिला घोषित होने के बाद अब जिला वासियों की जिम्मेवारी और बढ़ गई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार पूरे राज्य को नशामुक्त बनाने हेतु कृतसंकल्पित है। नशामुक्त बिहार की परिकल्पना तभी साकार होगी जब राज्य तंबाकू मुक्त हो जायेगा। अब सार्वजनिक स्थलों यथा सिनेमा हॉल, बस स्टैंड, रेलवे स्टेशन, सार्वजनिक सड़क, शिक्षण संस्थानों, कार्यालयों सहित अन्य स्थानों पर धूमपान करना एक दंडनीय अपराध है। उल्लंघनकर्ताओं के खिलाफ विशेष सघन अभियान चलाया जाएगा। सार्वजनिक स्थानों पर नियमों का उल्लंघन करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

=======

डीडीसी की निगरानी में चलेगा अभियान

जिलाधिकारी ने तंबाकू नियंत्रण हेतु जिले में गठित त्रिस्तरीय छापामार दस्ते के सभी सदस्यों को शैक्षणिक संस्थानों के 100 गज के अंदर स्थित सभी तम्बाकू उत्पाद बेचने वाले दुकानदारों को हटवाते हुए नियमित रूप से छापेमारी करने का निर्देश दिया। उन्होंने कहा कि यह अभियान उप विकास आयुक्त (डीडीसी) की निगरानी में चलेगा। इस कार्य में जिला तंबाकू नियंत्रण के नोडल पदाधिकारी और वरीय उपसमाहर्ता डीडीसी को सहयोग करेंगे। इस मौके पर उप विकास आयुक्त मनोज कुमार, सिविल सर्जन डॉ. उमेश शर्मा, नगर आयुक्त विजय कुमार सिंह, तम्बाकू नियंत्रण के नोडल पदाधिकारी डॉ विष्णु अग्रवाल, सीड्स के जिला कार्यक्रम प्रबंधक मनोज कुमार झा, जिला स्वास्थ्य समिति के कार्यक्रम प्रबंधक ब्रजेश कुमार सिंह, सभी अनुमंडल पदाधिकारी, सभी प्रखंड विकास पदाधिकारी, सभी प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी सहित थाना अध्यक्ष उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.