पीयू में मैथिली भाषा एवं साहित्य की दशा-दिशा पर सेमिनार आज

पीयू में मैथिली भाषा एवं साहित्य की दशा-दिशा पर सेमिनार आज

पूर्णिया। पूर्णिया विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर मैथिली विभाग की ओर से मैथिली भाषा एवं साहित्य की दशा

Publish Date:Fri, 06 Dec 2019 11:00 PM (IST) Author: Jagran

पूर्णिया। पूर्णिया विश्वविद्यालय के स्नातकोत्तर मैथिली विभाग की ओर से मैथिली भाषा एवं साहित्य की दशा-दिशा पर एक दिवसीय सेमिनार शनिवार को होगा। इसका आयोजन पूर्णिया कॉलेज के सेमिनार हॉल में प्रात: 10 बजे से किया गया है। सेमिनार के उद्घाटन सत्र में एसकेएमयू, झारखंड के प्रो. बीकेमिश्र, बीएनएमयू, मधेपुरा के प्रो. ललितेश मिश्र एवं टीएमबीयू, भागलपूर के प्रो.केष्कर ठाकुर वर्तमान समय में मैथिली भाषा एवं साहित्य की दशा-दिशा पर अपना व्याख्यान देंगे।

सेमिनार के द्वितीय तकनीकी सत्र में मैथिली भाषाक नव पीढ़ीमे लोकप्रियता, मैथिली भाषाक दशा-दिशा, आधुनिक मैथिली कथामे नारीक स्थिति, आधुनिक मैथिली उपन्यासमे दलित वर्ग, मैथिली साहित्यमे संस्कार गीत, समकालीन मैथिलीक यात्रा साहित्य, समकालीन मैथिलीक संस्मरण साहित्य, मैथिली पत्रकारिता: प्रिंट एवं इलेक्ट्रॉनिक मीडिया विषय पर प्रतिभागी अपने आलेख का पाठ करेंगे।

आयोजन समिति के संयोजक-सह-मैथिली विभाग के अध्यक्ष एवं डीन मानविकी प्रो. गौरी कान्त झा ने बताया कि पूर्णिया विश्वविद्यालय के अधीनस्थ सभी संबद्ध एवं अंगीभूत महाविद्यालयों के प्रधानाचायरें को सेमिनार में आमंत्रित किया गया है। इसके अतिरिक्त बिहार के सभी विश्वविद्यालयों के मैथिली विभाग को सेमिनार में भाग लेने की सूचना भेजी गई है। सेमिनार में पूर्णिया विश्वविद्यालय के अतिरिक्त बीएनएमयू, मधेपुरा, एलएनएमयू, दरभंगा, टीएमबीयू, भागलपूर के महाविद्यालयों में अध्ययनरत एवं कायऱ्रत मैथिली भाषी छात्र-छात्राओं, शोधार्थियों, अतिथि शिक्षक एवं शिक्षकों के सेमिनार में भाग लेने की संभावना है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.