बिहार की कानून व्‍यवस्‍था पर कुशवाहा का तंज: सवालों से गुस्‍सा जाते हैं CM नीतीश, इससे सुधार हो तो यह भी ठीक

उपेंद्र कुशवाहा एवं नीतीश कुमार। फाइल तस्‍वीरें।

बिहार में इन दिनों हुई कई बड़ी आपराधिक घटनाओं को लेकर कानून व्‍यवस्‍था पर सवाल खड़े हो रहे हैं। इसपर आरएलएसपी अध्‍यक्ष उपेंद्र कुशवाहा ने मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार को घेरा है। उन्‍होंने क्‍या कहा है जानिए इस खबर में।

Publish Date:Fri, 15 Jan 2021 04:24 PM (IST) Author: Amit Alok

पटना, राज्य ब्यूरो। राष्टीय लोक समता पार्टी (RLSP) के अध्यक्ष उपेंद्र कुशवाहा (Upendra Kushwaha) ने बिहार में कानून व्यवस्था (Law and Order) की बिगड़ती स्थिति पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) पर निशाना साधा है। शुक्रवार को उन्‍होंने कहा कि मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार कानून व्‍यवस्‍था के मामले को लेकर सवाल करने से गुस्सा हाे जा रहे हैं। अगर उनके गुस्‍सा करने से अपराधिक घटनाएं रुक जाती हैं और कानून व्यवस्था ठीक हो जाता है तो उन्हें बेशक गुस्सा करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य में अपराध बढ़ रहा है। एयरपोर्ट के पास गोली चल रही है। कानून व्‍यवस्‍था मुख्यमंत्री की जिम्मेवारी है। इससे वे भाग नहीं सकते हैं।

बीते कुछ समय के दौरान हुए कई बड़े व चर्चित अपराध

विदित हो कि बीते कुछ समय के दौरान बिहार में कई बड़े व चर्चित अपराध हुए हैं। राजधानी में भी बीते 12 जनवरी की शाम सरेआम इंडिगो एयरलाइंस के पटना एयरपोर्ट के स्‍टेशन मैनेजर की हत्‍या इसे लेकर विपक्ष हमलावर है। उपेंद्र कुशवाहा का बयान भी इसी की कड़ी है।

कानून व्यवस्था पर ध्यान देने की जरुरत, एक्‍शन लें सीएम

उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि यदि अधिकारी एक्शन नहीं ले रहे हैं तो मुख्‍यमंत्री को एक्शन में आना चाहिए। काम नहीं करने वाले पुलिस के जिम्मेवार अधिकरियों पर कारर्वाई होनी चाहिए। कानून व्यवस्था को ठीक करने पर ध्यान देने की जरुरत है। आज राज्य में अपराधियों का मन बढ़ा हुआ है, यह सभी देख रहे हैं। लालू-राबड़ी राज से नीतीश सरकार की तुलना के सवाल पर उपेंद्र कुशवाहा ने कहा कि इसकी जरुरत नही है। पहले क्‍या था, क्‍या नहीं थे; इसे  देखने के  बदले वर्तमान को ठीक करना जरूरी है।

उमेश कुशवाहा को लेकर टिप्‍पणी करने से किया इनकार

उपेंद्र कुशवाहा ने उमेश कुशवाहा को जनता दल यूनाइटेड (JDU) का प्रदेश अध्यक्ष बनाए जाने के सवाल पर कोई टिप्‍पणी करने से इनकार कर दिया। उन्‍होंने कहा कि यह जेडीयू का आंतरिक मामला है, इससे उनकी पार्टी को कोई फर्क नहीं पड़ता है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.