टीईटी अभ्यर्थियों के समर्थन में उतरे तेजस्वी यादव, बोले- मांगें पूरी नहीं हुईं तो बैठ जाऊंगा धरने पर

सदन में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव। जागरण आर्काइव।

तेजस्वी यादव नियुक्ति पत्र मांग रहे 94 हजार टीईटी अभ्यर्थियों के समर्थन में उतर आए। कहा कि उनकी मांगें पूरी की जाए नहीं तो वह खुद भी धरना पर बैठ जाएंगे। उन्होंने सरकार पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार नियुक्तियों में धांधली कर रही है।

Publish Date:Thu, 21 Jan 2021 11:26 AM (IST) Author: Akshay Pandey

राज्य ब्यूरो, पटना। नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव नियुक्ति पत्र मांग रहे 94 हजार टीईटी अभ्यर्थियों के समर्थन में बुधवार को उतर आए। उन्होंने सरकार को चेताया कि उनकी मांगें पूरी की जाएं नहीं तो वह खुद भी धरने पर बैठ जाएंगे। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) विधायक ने सरकार पर तानाशाही रवैया अपनाने का आरोप लगाया और कहा कि सरकार नियुक्तियों में धांधली कर रही है। सिपाही और दारोगा बहाली के बाद अब शिक्षकों की नियुक्ति में भी मनमानी की जा रही है। गौरतलब है कि मंगलवार को धरना दे रहे टीईटी अभ्यर्थियों पर पुलिस ने लाठीचार्ज किया था, जिसमें कई को चोटें लगी थीं। इस दौरान काफी देर तक गहमागहमी मची रही। अब मामले ने राजनीतिक रंग ले लिया है। 

फोनकर बोले- शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन करने का सबको अधिकार

गर्दनीबाग धरनास्थल पर बुधवार शाम अभ्यर्थियों के बीच पहुंचे तेजस्वी ने मौके से ही मुख्य सचिव से फोन पर बात की और कहा कि शांतिपूर्ण तरीके से आंदोलन करने का सबको अधिकार है। तेजस्वी ने कहा कि शिक्षकों की कौन सी सूची तैयार की जा रही है कि अभी तक बहाली की प्रक्रिया बार-बार टल रही है। न मुख्यमंत्री बात करने के लिए तैयार हैैं और न ही शिक्षा मंत्री। मीडिया से बातचीत में तेजस्वी ने कहा कि लोकतंत्र में विरोध प्रदर्शन का अधिकार है। मेरा सिर्फ इतना कहना है कि इन्हें न्याय मिलना चाहिए। उन्होंने अभ्यर्थियों को शांतिपूर्ण प्रदर्शन के लिए पटना में दो दिनों की व्यवस्था करने का आश्वासन भी दिया। 

तेजस्वी का आरोप- मांगों को किया जा रहा अनसुना

तेजस्वी यादव ने कहा कि सरकार इनकी मांगों को लगातार अनसुना कर रही है। इसलिए विपक्ष को समर्थन में आना पड़ा है। इंसाफ मिलने तक इन्हें मेरा सहयोग मिलता रहेगा। राजद का नारा है कि बिहार में लोगों को रोजगार मिलना चाहिए। पढ़ाई, दवाई, कमाई और सिंचाई के मुद्दे पर हम कोई समझौता नहीं करने वाले हैैं। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.