Sushant Singh Rajput Death: सुशांत मामले में महाराष्‍ट्र व बिहार में ठनी; भड़के CM नीतीश ने कहा- यह बात ठीक नहीं

Sushant Singh Rajput Death: सुशांत मामले में महाराष्‍ट्र व बिहार में ठनी; भड़के CM नीतीश ने कहा- यह बात ठीक नहीं

Sushant Singh Rajput Case सुशांत की मौत की जांच के लिए गए बिहार के आइपीएस अधिकारी को मुंबई में क्‍वारंटाइन कर दिया गया है। मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने इसपर नाराजगी जताई है।

Publish Date:Mon, 03 Aug 2020 11:31 AM (IST) Author: Amit Alok

पटना, स्‍टेट ब्‍यूरो/ एएनआइ। Sushant Singh Rajput Case: बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले (Sushant Singh Rajput Death Case) की जांच कर रही पटना पुलिस (Patna Police) को मुंबई पुलिस के असहयोग के साथ अब पूरी प्रशासनिक व्‍यवस्‍था के विरोध का भी सामना करना पड़ रहा है। मुंबई में जांच कर रही पटना पुलिस की टीम का नेतृत्‍व कर रहे आइपीएस अधिकारी विनय तिवारी को वहां 14 दिनों के लिए क्‍वारंटाइन (Quarantine) कर दिया गया है। इसे लेकर बिहार के मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। मुख्‍यमंत्री ने कहा कि यह ठीक बात नहीं है। इस मामले में बिहार व महाराष्‍ट्र की सरकारें आमने-सामने दिख रहीं हैं। घटनाक्रम पर विचार करते हुए आगे की रणनीति तय करने के लिए बिहार के डीजीपी ने हाई लेवल बैठक की। उधर, मुंबइ के पुलिस कमिश्‍नर ने भी अपनी बात रखी है। अब बिहार सरकार ने इस मामले की सीबीआइ जांच की अनुशंसा कर दी है। जबकि महाराष्‍ट्र सरकार मुंबई पुलिस को जांच में सक्षम मान रही है।

मुंबई में असहयोग झेल रही पटना पुलिस की टीम

विदित हो कि बीजे 14 जून को सुशांत सिंह राजपूत मुंबई के अपने फ्लैट में मृत मिले थे। सुसाइड माने गए गए इस मामले की मुंबई पुलिस की जांच से सुशांत का परिवार संतुष्‍ट नहीं है। सुशांत के पिता केके सिंह ने बेटे की गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती पर धन उगाही, ब्‍लैकमेल, प्रताड़ना व सुसाइड के लिए उकसाने जैसे कई गंभीर आरोपों में पटना में एफआइआर दर्ज करा दी है। दर्ज एफआइआर के आधार पर मामले की जांच के लिए पटना पुलिस मुंबई में है। वहां उसे मुंबई पुलिस व प्रशासन के विरोध व असहयोग का सामना करना पड़ रहा है। इस मामले में बिहार व महाराष्‍ट्र की सरकारें भी आमने-सामने हो गईं हैं।

मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर ने रखी अपनी बात

इस मामले में मुंबई के पुलिस कमिश्‍नर परमवीर सिंह ने भी अपनी बात रखी है। उन्‍हाेंने कहा है कि सुशांत के पिता, तीन बहनों और जीजा के बयान मुंबई पुलिस ने 16 जून को दर्ज किए थे। उस समय उन्होंने कोई संदेह नहीं उठाया और न ही जांच में किसी तर‍ह की चूक की शिकायत की। फिर अब ये बातें क्‍यों उठ रहीं हैं?

सीएम नीतीश बोले: जो हुआ, ठीक नहीं हुआ

पटना के ज्ञान भवन परिसर में मुख्‍यमंत्री ने सोमवार को कहा कि मुंबई में सुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की जांच करने गए पटना सिटी के एसपी विनय तिवारी को बीएमसी द्वारा क्वारंटाइन किए जाने की जानकारी मिली है। जो कुछ हुआ है, वो ठीक नही है। यह राजनीतिक नहीं, कानूनी मामला है। बिहार पुलिस अपनी कानूनी जिम्मेदारी निभा रही है और निभाएगी। इस मामले में बिहार के डीजीपी महाराष्‍ट्र के डीजीपी से बात करेंगे। दूसरी तरफ बिहार के डीजीपी कहते हैं कि महाराष्‍ट्र के डीजीपी उनका फोन तक रिसीव नहीं कर रहे हैं।

मुंबई में देर रात 14 दिनों के लिए किया क्‍वारंटाइन

विदित हो कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले की जांच के लिए पटना के सिटी एसपी विनय तिवारी रविवार को मुंबई पहुुंचे। वहां उन्‍होंने मामले की जांच कर रही पुलिस टीम के साथ बैठक कर जांच की प्रगति की जानकारी ली। इसी दौरान रात करीब 11 बजे मुंबई महानगरपालिका की टीम ने कोरोना वायरस संक्रमण का हवाला देते हुए सिटी एसपी को 14 दिनों के लिए क्वारंटाइन कर दिया। इसके साथ उनके हाथ पर मुहर भी लगा दी। देर रात एसएसपी उपेंद्र कुमार शर्मा ने इस बात की पुष्टि की। बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने भी देर रात ही इस संबंध में ट्वीट किया।

सुशांत मामले में बिहार और महाराष्ट्र सरकार में ठनी

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के मामले में बिहार व महाराष्‍ट्र की सरकारों में ठन गई है। महराष्‍ट्र के मुख्‍यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मामले की जांच में मुंबई पुलिस को सक्षम बताया है। महाराष्‍ट्र सरकार बिहार पुलिस की जांच के खिलाफ है। बिहार में दर्ज एफआइआर की जांच मुंबई स्‍थानांतरित करने को लेकर मुख्‍य आरोपित रिया चक्रवर्ती की सुप्रीम कोर्ट मे दायर याचिका का जब सुशांत के पिता व बिहार सरकार ने कोर्ट में विरोध किया तो महाराष्‍ट्र सरकार भी रिया की याचिका के समर्थन में कोर्ट पहुंच गई है। इस बीच मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा कि बिहार पुलिस कानूनी व संवैधानिक अधिकारों के तहत काम कर रही है। ताजा घटनाक्रम की बात करें तो सरकार ने मामले की सीबीआइ जांच की अनुशंसा कर दी है। जबकि, महाराष्‍ट्र सरकार मुंबई पुलिस को जांच में सक्षम मानती है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.