रात के वक्‍त मंत्री के बंगले पर पहुंचे एसएसपी और डीएम, बिहार विधानसभा में बवाल के बाद टेंशन में अफसर

Bihar Politics मंत्री ने इस वाकये के बाद विस गेट पर ही खुले तौर पर नाराजगी जताई और सदन के अंदर भी जाकर सरकार और विस अध्‍यक्ष से कार्रवाई के लिए कहा। गुरुवार की ही रात डीएम और एसएसपी ने मंत्री के आवास पर जाकर मुलाकात की।

Shubh Narayan PathakPublish:Fri, 03 Dec 2021 08:19 AM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 09:35 AM (IST)
रात के वक्‍त मंत्री के बंगले पर पहुंचे एसएसपी और डीएम, बिहार विधानसभा में बवाल के बाद टेंशन में अफसर
रात के वक्‍त मंत्री के बंगले पर पहुंचे एसएसपी और डीएम, बिहार विधानसभा में बवाल के बाद टेंशन में अफसर

पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Politics: बिहार विधानसभा के गेट पर श्रम संसाधन मंत्री जीवेश कुमार की गाड़ी को रोकने को लेकर हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। मंत्री की गाड़ी को रोककर पटना के डीएम डा. चंद्रशेखर सिंह और एसएसपी उपेंद्र शर्मा के वाहन को विधानसभा में पहले प्रवेश देने को लेकर गुरुवार को विधानसभा में जमकर हंगामा हुआ। मंत्री ने इस वाकये के बाद विस गेट पर ही खुले तौर पर नाराजगी जताई और सदन के अंदर भी जाकर सरकार और विस अध्‍यक्ष से कार्रवाई के लिए कहा। इस मामले में वरीय अधिकारियों के दखल के बाद गुरुवार की ही रात डीएम और एसएसपी ने मंत्री के आवास पर जाकर मुलाकात की। बताया कि यह सब गलतफहमी में हो गया।

मंत्री से मिले डीएम-एसएसपी

देर शाम मंत्री जीवेश कुमार के आवास पर जाकर डीएम व एसएसपी ने पूरे मामले में मंत्री को सफाई दी। दोनों कहा कि उन लोगों की कोई गलती है। पुलिस कर्मियों से गफलत चूक हुई है, लेकिन मंत्री ने दो टूक कहा कि निलंबन से कम कुछ भी मंजूर नहीं है। हालांकि आज सुबह मंत्री के तेवर थोड़े नर्म जरूर नजर आ रहे हैं। इस मामले ने विपक्ष को एक बड़ा मुद्दा दे दिया है। राज्‍य में अफसरशाही के हावी होने का आरोप पहले से लगता रहा है। विपक्ष के साथ ही सत्‍ता पक्ष के विधायक और मंत्री भी यह सवाल लगातार ही उठाते रहे हैं।

ये भी पढ़ें, बिहार सरकार के मंत्री बोले- मेरी गाड़ी को रोककर डीएम-एसपी को बढ़ाया आगे, विधानसभा गेट पर हंगामा

एसीएस व डीजीपी आज देंगे रिपोर्ट

विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने गुरुवार की शाम को गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव चैतन्य प्रसाद और डीजीपी एसके सिंघल को तलब किया। विधानसभा अध्यक्ष ने अपने कार्यालय कक्ष में उप मुख्यमंत्री तारकिशोर प्रसाद एवं रेणु देवी, संसदीय कार्य मंत्री विजय कुमार चौधरी और प्रभारी गृह मंत्री विजेंद्र प्रसाद यादव के साथ वीडियो फुटेज देखी और पूरे मामले की समीक्षा की। इस दौरान अपर मुख्य सचिव और डीजीपी भी मौजूद थे। समीक्षा के बाद विधानसभा अध्यक्ष ने अपर मुख्य सचिव व डीजीपी को इस मामले से जुड़ा वीडियो फुटेज देखकर जांच करने और इसकी रिपोर्ट शुक्रवार को सुबह 10 बजे तक सौंपने का निर्देश दिया। इसके साथ ही अमर्यादित आचरण के लिए दोषी अधिकारी को चिह्नित कर सभा सचिवालय को सूचित करने का आदेश दिया है।

एसएसपी की गाड़ी पास कराने के लिए रोका था

सूत्रों की मानें तो घटनास्‍थल की सीसीटीवी फुटेज जांच की गई है। इसमें पता चला है कि गेट पर तैनात सुरक्षाकर्मियों ने डीएम और एसएसपी की गाड़ी को पास कराने के लिए मंत्री को रोक दिया था। यह भी बताया जा रहा है कि तब डीएम की गाड़ी जरूर गुजरी थी, लेकिन डीएम उसमें थे नहीं।