कंगन घाट पर दस हजार विद्यार्थियों वाले विद्यालय की संतों ने रखी आधारशिला

कंगन घाट पर दस हजार विद्यार्थियों वाले विद्यालय की संतों ने रखी आधारशिला

तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब से सौ गज की दूरी पर स्थित कंगन घाट में बुधवार को विद्यालय का निर्माण शुरू हुआ।

JagranThu, 25 Feb 2021 01:30 AM (IST)

पटना सिटी : तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब से सौ गज की दूरी पर स्थित कंगन घाट में बुधवार को संत प्रमुखों द्वारा दस हजार विद्यार्थियों वाले विद्यालय की टक (आधारशिला) रखी गई। चार मंजिला विद्यालय भवन वर्ष 2022 के प्रकाश पर्व तक तैयार हो जाएगा। इससे पूर्व कंगन घाट गुरुद्वारा में विकास कार्य के लिए अतिरिक्त मुख्य ग्रंथी भाई बलदेव सिंह की देखरेख में रखे गए अखंड पाठ की समाप्ति हुई। इसके बाद जत्थेदार ज्ञानी रंजीत सिंह गौहर-ए-मस्कीन ने अरदास किया।

दस हजार विद्यार्थियों वाले विद्यालय की टक रखनेवाले संतों में सचखंडवासी बाबा हरवंश सिंह दिल्ली वाले के कारसेवक बाबा बचन सिंह, जत्थेदार ज्ञानी रंजीत सिंह गौहर-ए-मस्कीन, अतिरिक्त मुख्य ग्रंथी भाई बलदेव सिंह, प्रबंधक समिति के अध्यक्ष सरदार अवतार सिंह हित तथा बाबा सुखविदर सिंह सुक्खा थे। इसके अलावा प्रबंधक समति के पदाधिकारियों में महासचिव सरदार महेंद्र पाल सिंह ढिल्लन, सचिव सरदार महेंद्र सिंह छाबड़ा, सदस्यों में सरदार राजा सिंह, सरदार लखविदर सिंह, सरदार हरवंश सिंह, पूर्व महासचिव सरदार चरणजीत सिंह, पूर्व उपाध्यक्ष सरदार जीत सिंह, बाबा जसवीर सिंह बीरा जी, डॉ. बलदेव सिंह, बाबा गुरविदर सिंह उर्फ गुल्ला बाबा, दीपक लांबा, नवराज सिंह, सूरज सिंह, मनोहर सिंह बग्गा,जगजीत सिंह समेत अन्य थे। इस दौरान बताया गया कि यहां 100 कमरे का भीखन शाह यात्री निवास भी बनेगा। टक रखने के बाद प्रसाद वितरण किया गया। इसके बाद संत प्रमुख समेत अन्य तख्त श्रीहरिमंदिर जी पटना साहिब पहुंचे।

यहां माता नानकी किचेन की टक (आधारशिला) लंगर हॉल में रखी गई। यहां आधुनिक मशीन से एक लाख लोगों के लिए खाना बनाने के लिए ऑटोमेटिक मशीन लगाई जाएगी। अध्यक्ष ने बताया कि चार मंजिला भवन बनने के बाद बारा गली में स्थापित श्री गुरु गोविद सिंह उच्च तथा मध्य बालक व बालिका स्कूल में पढ़नेवाले सभी विद्यार्थियों को कंगन घाट में निर्मित भवन में लाया जाएगा। बारा गली में चारों विद्यालयों की जगह 500 कमरों वाला यात्री आवास बनेगा। इसके अलावा सोलर सिस्टम के लिए टक रखी गई। संतों को सिरोपा देकर सम्मानित किया गया। संत प्रमुखों समेत अन्य संगतों ने लंगर छके।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.