BPSC Recruitment 2021: बीपीएससी ने 67वीं परीक्षा में दो बड़े बदलाव, पद और नोटिफिकेशन की तारीख बढ़ी

BPSC Recruitment 2021 बीपीएससी ने 67वीं प्रतियोगिता परीक्षा को लेकर दो बड़े बदलाव किए हैं। नाटिफिकेशन की तारीख के साथ पद भी बढ़ा दिया गया है। अब इस परीक्षा के तहत 555 पदों पर नियुक्ति होगी। प्रखंड अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण पदाधिकारी के 52 पद बढ़ गए हैं।

Akshay PandeyTue, 21 Sep 2021 09:37 PM (IST)
67वीं प्रतियोगिता परीक्षा को लेकर दो बड़े बदलाव किए हैं। सांकेतिक तस्वीर।

नलिनी रंजन, पटना। बिहार लोक सेवा आयोग (बीपीएससी) ने 67वीं प्रतियोगिता परीक्षा को लेकर दो बड़े बदलाव किए हैं। नाटिफिकेशन की तारीख के साथ पद भी बढ़ा दिया गया है। अब इस परीक्षा के तहत 555 पदों पर नियुक्ति होगी। आयोग ने प्रखंड अनुसूचित जाति एवं जनजाति कल्याण पदाधिकारी के 52 पद बढ़ा दिए हैं। वहीं परीक्षा के लिए अब नाटिफिकेशन 22 या 23 सिंतबर को जारी किया जा सकता है। बीपीएससी ने 67वीं प्रतियोगिता परीक्षा को लेकर तैयारी कर ली है। इसके लिए 12 दिसंबर को परीक्षा ली जाएगी। बता दें कि अबतक डीएसपी के लिए कोई भी पद नहीं आए हैं।

बिहार लोक सेवा आयोग के परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि 67वीं के लिए करीब सात दिनों के अंदर रिक्ति आ जाएगी। 67वीं परीक्षा में सबसे अधिक ग्रामीण विकास पदाधिकारी के पद हैं। इसमें 133 पोस्ट हैं। नगर कार्यपालक पदाधिकारी के 110 पोस्ट हैं। इसी तरह 88 पद बिहार प्रशासनिक सेवा के हैं। 

पद का नाम  रिक्ति

योजना विभाग में सहा. निदेशक 52

प्रखंड पंचायती राज पदाधिकारी 18

ग्रामीण विकास पदाधिकारी 133

नगर कार्यपालक पदाधिकारी 110

बिहार प्रशासनिक सेवा 88

सहायक निदेशक सामाजिक सुरक्षा 12

राजस्व पदाधिकारी 36

सहायक कर आयुक्त 21

बिहार शिक्षा सेवा 12

जिला अंकेक्षण पदाधिकारी 5

आपूर्ति निरीक्षक 4

सीडीपीओ 4

निर्वाचन पदाधिकारी 4

नियोजन पदाधिकारी 2

श्रम अधीक्षक 2

65वीं संयुक्त परीक्षा के परिणाम का इंतजार

65वीं संयुक्त परीक्षा का साक्षात्कार खत्म हो चुका है। आयोग के संयुक्त सचिव सह परीक्षा नियंत्रक अमरेंद्र कुमार ने बताया कि 523 पदों के लिए इंटरव्यू संपन्न हो गया है। इसमें डिप्टी कलेक्टर के 30 पद व डीएसपी के 62 पद निर्धारित हैं। कुछ अभ्यर्थियों की मेडिकल रिपोर्ट में आपत्ति से दोबारा जांच कराई जा रही है। पीएमसीएच के अधीक्षक की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाई गई है। कई अभ्यर्थियों के कान व आंख के दिव्यांगता को लेकर इंदिरा गांधी इंस्टीट्यूट आफ मेडिकल साइंस में कुछ जांच कराने की भी अनुशंसा की है। मेडिकल बोर्ड की रिपोर्ट आने के एक सप्ताह 10 दिनों के भीतर फाइनल रिजल्ट जारी कर दिया जाएगा। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.