छपरा के सदर अस्पताल में कोरोना टीकाकरण का हुआ आगाज, सफाईकर्मी को दिया गया पहला टीका

छपरा सदर अस्‍पताल में कोरोना का टीका लगवाने वालों को दिया गया गुलाब का फूल। जागरण

छपरा सदर अस्पताल में कोविड-19 टीकाकरण का आगाज शनिवार को किया गया। पहला टीका सदर अस्पताल के जीएनएम स्थित कोरोना के आइसोलेशन वार्ड के सफाई कर्मी शिवनंदन बांसफोड़ को लगाया गया। दूसरा टीका जीएनएम सेंटर पर सफाई कर्मी के रूप में कार्य करने उसकी पत्नी अकिली देवी को लगाया गया।

Publish Date:Sat, 16 Jan 2021 03:40 PM (IST) Author: Shubh Narayan Pathak

छपरा, जागरण संवाददाता। लंबे इंतजार के बाद सदर अस्पताल में कोविड-19 टीकाकरण का आगाज शनिवार को किया गया। पहला टीका सदर अस्पताल के जीएनएम स्थित कोरोना के आइसोलेशन वार्ड के सफाई कर्मी शिवनंदन बांसफोड़ को लगाया गया। दूसरा टीका जीएनएम सेंटर पर सफाई कर्मी के रूप में कार्य करने उसकी पत्नी अकिली देवी को लगाया गया। सदर अस्पताल के पारामेडिकल संस्थान पर आयोजित टीकाकरण का कार्य जिलाधिकारी नीलेश रामचंद्र देवरे की उपस्थिति एवं देखरेख में किया गया। इस दौरान सिविल सर्जन डॉ माधवेश्वर झा सहित सदर अस्पताल मे अनेक चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मी व्यवस्था बनाने में मौजूद रहे।

इस दौरान सदर अस्पताल के अनेक चिकित्सा कर्मी एवं चिकित्सकों ने भी टीका लिया। इस दौरान सदर अस्पताल में काफी संख्या में पुलिस बल को भी तैनात किया गया था। वहीं टीकाकरण केंद्र पर भी पुलिस कर्मियों की तैनाती की गई थी। जिससे कि टीकाकरण के लिए अफरातफरी नही हो और अनावश्यक रूप से कोई अन्य व्यक्ति वहां प्रवेश नहीं कर सके। हालांकि टीकाकरण केंद्र पर उन्हीं लोगों को बुलाया गया था, जिनके टीकाकरण की तिथि तय थी। टीकाकरण केंद्र पर पहले दिन 100 लोगों का ही टीकाकरण किया जाना था। इसको लेकर पहले दिन चिन्हित सभी व्यक्तियों को स्वास्थ्य समिति के द्वारा मैसेज दिया गया था।

स्वास्थ्य कर्मिेयाें को दिया गुलाब का फूल

टीकाकरण के पहले दिन सदर अस्पताल पहुंचनेवाले प्रारंभ के पांच लोगों को स्वास्‍थ्‍य विभाग  के द्वारा गुलाब का फूल दिया गया। इस दौरान टीकाकरण के उपरांत सभी स्वास्थ्य कर्मियों को आधे घंटे तक अस्पताल के वेटिंग कक्ष में रुकना पड़ा, जहां उनके विश्राम करने एवं सोने के लिए बेड भी लगाया गया था। वहीं उनके मनोरंजन के लिए उस कक्ष में टीवी लगाया गया था। ताक‍ि उनके इंतजार का समय आसानी से कट सके और उनको किसी प्रकार की शिकायत नहीं हो। वैसे किसी भी परिस्थिति से निपटने के लिए स्वास्थ्य विभाग पूरी तरह मुस्तैद था। वहां चिकित्सकों की टीम मौजूद थी ।

पहले टीका लेने वाले चिकित्सक बने डा. हर्षित राज

सदर अस्पताल के पारामेडिकल सेंटर पर पहले टीका लेने चिकित्सक डॉ. हर्षित राज बने हैं। वह सदर अस्पताल में मेडिकल ऑफिसर के पद पर पदस्थापित हैं। हालांकि उनसे पहले टीका लेनेवालो में सदर अस्पताल के सफाईकर्मी दंपति शिवनंदन बांसफोड़ एवं उनकी पत्नी अकिली देवी के बाद तीसरे नंबर  पर 102 एंबुलेंस चालक पप्पू कुमार रहे तथा पांचवें नंबर पर सदर अस्पताल के फार्मासिस्ट दिनेश प्रजापति और अस्पताल प्रबंधक ने कोरोना का टीका लगवाया। लेकिन डॉ हर्षित राज चिकित्सक के रूप में पहले स्थान पर रहे हैं।

टीकाकरण के बाद सभी ने शेयर किया अनुभव

टीकाकरण के बाद चिकित्सक डा. हर्षित राज ने कहा कि यह टीका एक सामान्य टीके की तरह ही है। इसके लगवाने के बाद उनको कुछ भी अलग अनुुभव नहीं हुआ है। सावधानी के लिए सभी लोगों को यह टीका लगवाना चाहिए। जिससे कि कोरोना से सुरक्षा हो सके। वहीं शिवनंदन बांसफाेड़ अकिली देवी, पप्पू कुमार, दिनेश प्रजापति एवं राजेश्वर प्रसाद ने बताया कि टीकाकरण से कुछ भी महसुश नही हुआ है। यह सामान्य टीका की तरह ही है। उनकेा इस टीके के लगाये जाने के बाद कुछ भी परेशानी नहीं हुई है। सुरक्षा के दृष्टिकोण से सभी को यह टीका जरूर लगवाना चाहिए।

क्या कहते हैं सिविल सर्जन

इस मामले में सिविल सर्जन डा. माधवेश्वर झा ने बताया कि कोरोना का यह टीका पूरी तरह सुरक्षित है। पहले दिन जिसने भी यह टीका लगवाया है उनमें से किसी को भी कोई परेशानी नहीं हुई है। इस टीका को लगवाने के लिए सभी स्वास्थ्य कर्मियों को मैसेज किया जा रहा है। वे सभी निर्धारित तिथि पर आकर टीका जरूर लगवा लें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.