राजद नेता तेजस्वी यादव ने राज्यपाल को लिखा पत्र, कहा-नीतीश कुमार की सरकार को करें बर्खास्त

बिहार विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव। जागरण आर्काइव।

Bihar Politics बजट सत्र के दौरान विधायकों के साथ पुलिस की मारपीट के मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राज्यपाल फागू चौहान को पत्र लिखकर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई और राज्य सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है।

Akshay PandeyFri, 09 Apr 2021 07:41 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, पटनाः बजट सत्र के दौरान विधायकों के साथ पुलिस की मारपीट के मामले में नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव ने राज्यपाल फागू चौहान को पत्र लिखकर दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई और राज्य सरकार को बर्खास्त करने की मांग की है। इसके पहले उन्होंने स्पीकर से भी यही मांग की थी और साक्ष्य के तौर पर पूरे घटनाक्रम का वीडियो फुटेज भी दिया था। 

सीएम के इशारे पर भंग की गई सदन की मर्यादा

तेजस्वी  यादव ने अपने पत्र में घटना के लिए राज्य सरकार पर इल्जाम लगाया। कहा, सीएम के इशारे पर ही सदन की मर्यादा भंग की गई है। राज्य विशेष सशस्त्र पुलिस विधेयक को जबरन पास कराने के लिए सदन के अंदर पुलिस के जूते से सदस्यों के सम्मान को लहूलुहान किया गया है। 

जनभावना के विपरीत तरीके से पास कराया गया विधेयक

तेजस्वी ने पत्र में राज्यपाल को बताया कि विधेयक को सदन की मर्यादा तोड़कर जनभावना के विपरीत तरीके से पास कराया गया। विपक्ष का शांतिपूर्ण विरोध सत्ता पक्ष को नागवार गुजरा और मुख्यमंत्री के इशारे पर पुलिस ने सदन के अंदर सदस्यों पर हिंसक कार्रवाई की। 

विधानसभा की गौरवशाली परंपरा को पहुंची चोट

तेजस्वी ने लिखा कि बिहार दिवस के अगले दिन 23 मार्च को सदन में जिस तरह से आपराधिक घटना को अंजाम दिया गया, उससे विधानसभा की गौरवशाली परंपरा को चोट पहुंची है। विपक्षी दलों के सभी सदस्यों पर मुख्यमंत्री के आदेश से पुलिस ने बल प्रयोग किया, जिसमें कई सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए। उनमें से कई अभी भी अस्पतालों में इलाजरत हैैं। महिला विधायकों के साथ भी बदसलूकी की गई। 

विधानसभा में हुआ था हंगामा

बता दें कि पिछले महीने की 23 तारीख को बिहार सशस्‍त्र पुलिस विधेयक 2021 के विरोध में हंगामे के कारण तीन बार कार्यवाही स्‍थगित करनी पड़ी थी। विधायकों ने सदन की कार्यवाही रोकने के लिए स्‍पीकर को उनके चैंबर में ही बंधक बना लिया था। इसके बाद पुलिस ने नेताओं को खींच-खींचकर हटाया था। कई राजद नेताओं को मुक्‍का मारा और सदन से बाहर फेंक दिया गया था। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.