पटना में घरों के गेट पर लगेगा QR Code, कचरा उठते ही कंट्रोल रूम में कोड हो जाएगा ग्रीन

पटना में घरों से कूड़ा उठाने जाता नगर निगम का वाहन।
Publish Date:Tue, 22 Sep 2020 02:13 PM (IST) Author: Akshay Pandey

मृत्युंजय मानी, पटना। नगर निगम अब क्यूआर कोड से आपके घर के कचरे उठाव का लेखा-जोखा रखेगा। निगरानी के लिए निगम मुख्यालय में नियंत्रण कक्ष होगा। घर से कचरा उठते ही कंट्रोल रूप में कोड ग्रीन हो जाएगा। होल्डिंग टैक्स जमा करने वाले तीन लाख घरों के गेट पर क्यूआर कोड लगेगा। फरीदाबाद की कंपनी को जिम्मेदारी दी गई है। 

इस संबंध में सोमवार को कंपनी से करार हुआ। इसी सप्ताह कंपनी को कार्य प्रारंभ करने की अनुमति दे दी गई। पांच साल तक रखरखाव की जिम्मेदारी भी कंपनी की होगी। दिसंबर में क्यूआर कोड लगाने सहित सभी प्रक्रियाएं पूरी करने का लक्ष्य है। पटना स्मार्ट सिटी लिमिटेड की इंटेलिजेंट सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट परियोजना के संचालन एवं प्रबंधन का कार्य 12 करोड़ रुपये से होगा। 

कचरा उठाए जाने की जानकारी प्राप्त होगी ऑनलाइन 

पटना नगर निगम क्षेत्र में सभी होल्डिंग पर क्यूआर कोड लगाए जाएंगे। घर से कचरा उठाए जाने की जानकारी ऑनलाइन प्राप्त होगी। नगर निगम को डोर टू डोर सेवा की रियल टाइम मॉनिटरिंग, शुल्क वसूली एवं आम जनता की शिकायत निवारण में भी सहूलियत होगी। डोर-टू-डोर सेवा में कार्यरत निगम कर्मियों को स्मार्ट फोन मिलेंगे, क्यूआर कोड रीडर, घरों की जियो टैगिंग, कचरा गाड़ियों पर चिप लगेगी। कचरा उठते ही क्यूआर कोड ग्रीन हो जाएगा। डोर टू डोर वाहन अपने निर्धारित रूट से बाहर नहीं चलेंगे। नगर निगम मुख्यालय में नियंत्रण कक्ष व डिस्प्ले बोर्ड लगेंगे। डोर टू डोर वाहन में खराबी उत्पन्न होने के बाद दूसरी गाड़ी भेजी जाएगी। मकान मालिकों के मोबाइल पर भी कचरा उठने की जानकारी मिलेगी। कोई समस्या होने पर शिकायत दर्ज करने की सुविधा भी उपलब्ध रहेगी।

क्यूआर कोड रेड रहने पर तत्काल कार्रवाई

कचरा नहीं उठने पर क्यूआर कोड रेड हो जाएगा। अधिकारी त्वरित कार्रवाई करेंगे। 20 से अधिक वाहन अतिरिक्त रहेंगे। नगर निगम के सभी अंचल मुख्यालयों में भी नियंत्रण कक्ष रहेगा। यहां से भी निगरानी की व्यवस्था की गई। 

इंटेलिजेंट सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट के तहत उठेगा कचरा 

पटना नगर निगम के आयुक्त हिमांशु शर्मा ने कहा कि इंटेलिजेंट सॉलिड वेस्ट मैनेजमेंट परियोजना के तहत प्रत्येक घर से कचरा उठेगा। एक घर नहीं छूट पाएगा। एकरनामा हो गया। दिसंबर तक तैयारी पूरी हो जाएगी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.