बिहार में घटेगी बालू की कीमत, खनन मंत्री जनक राम ने बताई वजह; बोले- अवैध खनन पर जारी रहेगी कार्रवाई

Bihar Sand Rate बिहार सरकार के भूतत्व और खान मंत्री जनक राम ने कहा कि बालू के अवैध खनन व उसकी ब्रिकी पर रोक लगाने के बाद सरकार नियमानुसार इसकी ब्रिकी कराने का प्रयास कर रही है। बालू की कीमतों में आई तेजी को जल्द कम कर लिया जाएगा।

Shubh Narayan PathakSat, 24 Jul 2021 09:27 AM (IST)
बिहार में बालू की कीमतों में गिरावट की संभावना। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

गोपालगंज, जागरण संवाददाता। Bihar Sand Rate: बिहार सरकार के भूतत्व और खान मंत्री जनक राम ने कहा कि बालू के अवैध खनन व उसकी ब्रिकी पर रोक लगाने के बाद सरकार नियमानुसार इसकी ब्रिकी कराने का प्रयास कर रही है। बालू की कीमतों में आई तेजी को जल्द कम कर लिया जाएगा। जल्द ही बालू 35 से 40 रुपये फिट की दर से लोगों को मिलने लगेगा। प्रेस वार्ता में उन्होंने कहा कि सरकार अवैध खनन पर रोक लगाने के साथ बिचौलियों पर भी कार्रवाई कर रही है। विभाग बिचौलियों के विरुद्ध कार्रवाई में जुटा है। इससे बालू की दर में काफी कमी आएगी।

अवैध खनन में लगी नावों को किया जा रहा जब्‍त

खनन मंत्री ने कहा कि राज्‍य के अलग-अलग हिस्‍सों में नदी से बड़े-बड़े मोटर नाव की मदद से अवैध खनन करने का कार्य किया जा रहा था। अवैध खनन पर रोक लगाने के साथ ही मोटर नाव को जब्त किया जा रहा है। पकड़े जा रहे वाहनों से पचीस गुना जुर्माना वसूला जा रहा है। मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना में भी बालू की जरूरत है। ऐसे में अगर बालू का दर आसमान छुएगा तो गरीबों का आवास कैसे बनेगा, इसकी ङ्क्षचता सरकार कर रही है।

बिहार सरकार के खनन विभाग ने हाल के दिनों में अवैध खनन के खिलाफ कार्रवाई तेज कर दी है। इस मामले में सरकार की काफी बदनामी और राजस्‍व का नुकसान दोनों वजहों से हर विभाग को सक्रिय किया गया है। अवैध बालू खनन के मामले में पुलिस और परिवहन विभाग के बड़े अफसरों तक पर कार्रवाई की गई है। पिछले महीने में विभाग ने अवैध खनन के खिलाफ 4180 जगह छापेमारी की और 785 केस दर्ज किए गए। इस दौरान 538 लोगों को गिरफ्तार किया गया। छह हजार से अधिक वाहन पकड़े गए जबकि 20.65 करोड़ रुपये जुर्माना भी वसूल किया गया।

 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.