Patna Weather Forecast: पिछले साल 27 सितंबर की बारिश में डूबा था पटना, इसबार प्रशासन अलर्ट

पटना में गुरुवार को मौसम बदल गया है। सुबह बदरी के बाद दोपहर में बारिश हुई।
Publish Date:Thu, 24 Sep 2020 01:52 PM (IST) Author: Akshay Pandey

पटना, जेएनएन। पिछले साल 27 सितंबर की भारी बारिश में पटना डूब गया था। भारत मौसम विज्ञान विभाग ने इस साल भी 23 से 27 सितंबर के बीच भारी बरसात की संभावना को देखते हुए पटना सहित कई जिलों में अलर्ट जारी किया है। गुरुवार को सुबह बदरी के बाद दोपहर में राजधानी में बारिश हुई। पटना मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले 72 घंटे के लिए राज्य के अधिकांश जिलों में भारी बारिश के साथ व्रजपात का अलर्ट जारी किया है। केंद्र के कार्यकारी प्रमुख आनंद शंकर के अनुसार, राज्य के उत्तर-पश्चिम और गंगा नदी से सटे जिलों में कहीं-कहीं अत्यधिक वर्षा होने का पूर्वानुमान है। इस कारण जानमाल की क्षति होने के साथ निचले स्थानों में जलजमाव, यातायात बाधित, बिजली सेवा बाधित रहने और नदी के जल स्तर में बढ़ोत्तरी की संभावना है। उन्होंने बिजली चमकने की स्थिति में किसानों और नागरिकों को पक्के घर में शरण लेने की सलाह दी है। 

दक्षिण-पश्चिम मानसून सक्रिय

राज्य में बीते 24 घंटे में दक्षिण-पश्चिम मानसून अत्यधिक सक्रिय रहा। राज्य के एक या दो स्थानों पर भारी बारिश हुई। बीते 24 घंटों के दौरान बिहार के अधिकांश स्थानों पर मध्यम वर्षा हुई। अधिकतम 31.3 और न्यूनतम तापमान 23.8 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

पटना नगर निगम व बुडको अलर्ट मोड पर

भारी बारिश की आशंका के मद्देनजर नगर विकास विभाग, पटना नगर निगम व बुडको अलर्ट मोड पर है। बुडको के एमडी रमण कुमार ने सभी संप हाउसों में डीजल का भंडारण कर तैनात कर्मियों को अलर्ट रहने का निर्देश दिया हैै। पटना शहर में 39 स्थायी संप हाउस और दो दर्जन से अधिक अस्थायी संप हाउस हैं। इसके साथ एक दर्जन से अधिक स्थानों पर मशीन लगा दी गई है। जलजमाव वाले स्थलों पर कई मशीन मुस्तैद करने की तैयारी है।

महापौर सीता साहू व नगर आयुक्त हिमांशु शर्मा ने सभी नगर निगम कर्मियों को अलर्ट पर रहने को कहा है। मोहल्ले के नाले से लेकर बड़े नालों के पानी के बहाव पर विशेष रूप से ध्यान देने का निर्देश दिया है। कहीं भी पानी बहाव में रुकावट आते ही बहाव की व्यवस्था में जुट जाने का निर्देश दिया है।

जलजमाव पर अतिरिक्त पंप लगाने का निर्देश

सभी सफाई निरीक्षकों को अपने-अपने क्षेत्र के संप हाउसों की निगरानी करते रहने को कहा गया है। साथ ही जलजमाव होने की स्थिति में अतिरिक्त पंप लगाने का निर्देश दिया है। महापौर ने बताया, सितंबर 2019 की भारी बारिश होने के बाद संप हाउस बंद रह गया था। इस कारण पटना में जगह-जगह जलजमाव हो गया था। इस वर्ष सभी संप हाउस चालू स्थिति में हंै। संप हाउसों को ऊंचा कर दिया गया है। नालों की सफाई करा दी गई है। पानी निकल जाएगा। नगर निगम व बुडको अलर्ट में रहेगा। अब बारिश के पानी से पटना नहीं डूबेगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.