Patna Rangmanch: पहली दिसंबर से कालिदास रंगालय में नाट्योत्‍सव का होगा आगाज

थियेटर के मंच पर फिर से लगेगा रंगों का मेला (प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर)। जागरण

नाटकों से गुलजार होगा कालिदास रंगालय लॉकडाउन के कारण मार्च में नहीं हो पाया था रंगमार्च की ओर से थियेटरवाला नाट्योत्सव मातृ-शक्ति को समर्पित नाट्योत्सव का एक दिसंबर से होगा आगाज पांच दिसंबर को नाट्योत्सव का होगा समापन महिला रंगकर्मी उज्ज्वला गांगुली को किया जाएगा सम्मानित

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 12:05 PM (IST) Author: Shubh Npathak

पटना, जेएनएन। कोरोना संक्रमण के कारण बेरंग पटना रंगमंच का रंग अब धीरे-धीरे लौट रहा है। कोरोना से बचाव की गाइडलाइन का पालन करते हुए कलाकार और नाटकप्रेमी अपनी हलचल बढ़ाने लगे हैं। लॉकडाउन के दौरान स्‍थगित किए गए आयोजनों को भी प्रदर्शन का अवसर मिलने लगा है। इसी कड़ी में कालिदास रंगालय में दिसंबर के पहले दिन से एक शानदार नाट्य उत्‍सव का आगाज होने जा रहा है। यह नाट्योत्‍सव पहले 16 से 20 मार्च के बीच ही होना तय किया गया था, लेकिन कोरोना संक्रमण के मामले सामने आने के बाद इसे तब स्‍थगित कर दिया गया था। इस खबर में आप जान पाएंगे कि नाट्योत्‍सव में किस दिन कौन सा नाटक दिखाया जाएगा।

कई नामचीन संस्‍थाओं के कलाकार दिखाएंगे प्रतिभा

आयोजक संस्था की सचिव नुपुर चक्रवर्ती ने बताया कि पहली दिसंबर से आयोजित पांच दिवसीय नाट्योत्सव के मौके पर विभिन्न संस्थाओं की ओर से बेहतरीन नाटकों का मंचन किया जाएगा। कार्यक्रम का उद्घाटन पद्मश्री डॉ. उषा किरण खान, समाजसेवी निवेदिता झा, डॉ. पल्लवी विश्वास, रंगकर्मी मोना झा, बिहार संगीत नाटक अकादमी की सहायक सचिव विभा सिन्हा करेंगे। नुपुर दर्शकों से आग्रह किया है कि प्रेक्षागृह में मास्क लगाने के साथ दर्शकों को शारीरिक दूरी का भी पालन करना होगा।

'अंधा कुआं' के साथ उठेगा नाट्य उत्‍सव का पर्दा

एक दिसंबर को 'अंधा कुआं' नाटक से नाट्योत्सव का पर्दा उठेगा। उन्होंने बताया कि यह नाट्योत्सव मातृ-शक्ति को समर्पित है। जिसमें सभी नाटक महिलाओं पर आधारित है। वही उद्घाटन के मौके पर छठा थियेटरवाला युवा सम्मान युवा महिला रंगकर्मी उज्ज्वला गांगुली को दिया जाएगा। दर्शकों की सुविधा को देखते हुए नाटकों की प्रस्तुति संस्था के फेसबुक पेज पर जीवंत होगी। ऐसे में लोग घर बैठे भी नाटक मंचन का आनंद उठा सकते हैं। इसके पश्चात नाटक को इंटरनेट मीडिया यू-ट्यूब पर भी अपलोड किया जाएगा।

तिथि - एक दिसंबर

नाटक - अंधा कुआं

लेखक - लक्ष्मी नारायण लाल

निर्देशक - उज्ज्वला गांगुली

प्रस्तुति - बिस्तार पटना

दो दिसंबर -

नाटक - चार बेटों वाली मां

नाट्यकार - मृत्युंजय शर्मा

निर्देशक - सरिता कुमारी

प्रस्तुति - जन विकल्प, सीतामढ़ी

तीन दिसंबर -

नाटक - ऐ लड़की

कहानी - कृष्णा सोबती

नाट्यकार एवं निर्देशक - समता राय

प्रस्तुति - कोरस, पटना

चार दिसंबर -

नाटक - एनकाउंटर

नाट्यकार - मनोज मानव

निर्देशक - अनामिका सिंह

प्रस्तुति - बयार, पटना

पांच दिसंबर -

नाटक - धुंध

कहानी - रवींद्र नाथ टैगोर

नाट्यकार - मृत्युंजय शर्मा

निर्देशक - नुपुर चक्रवर्ती

प्रस्तुति - रंग मार्च, पटना

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.