पगलवा की हत्‍या के मामले में एक गिरफ्तार, कोबरा के साथ हुए झगड़े की कड़ी तलाश रही पटना पुलिस

Patna Crime टेंपो लगाने के विवाद में दीपक की बदमाशों ने कर दी थी हत्या दीपक हत्याकांड का आरोपित शातिर बदमाश विश्वकर्मा गिरफ्तार पूछताछ में स्वीकारी संलिप्तता वर्ष 2006 में बैंक के गेट पर 50 लाख लूट में शामिल था गिरफ्तार बदमाश

Shubh Narayan PathakMon, 27 Sep 2021 12:32 PM (IST)
पटना सिटी में हुई हत्‍या के मामले में एक गिरफ्तार। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पटना सिटी, जागरण संवाददाता। पटना के आलमगंज थाना क्षेत्र में महावीर घाट मार्ग में दिनदहाड़े चार सितंबर को बदमाश दीपक उर्फ पगलवा की दूसरे गुट के अपराधियों ने गोली मारकर हत्या कर दी थी। हत्या के बाद दीपक की पत्नी के बयान पर पांच लोगों को नामजद किया गया था। पुलिस ने माखनपुर ईदगाह निवासी नामजद विश्वकर्मा उर्फ संतोष को बिहटा थाना क्षेत्र से शनिवार की रात गिरफ्तार किया। अन्य नामजदों की खोज में छापेमारी जारी है। थानाध्यक्ष सुधीर कुमार ने बताया कि गिरफ्तार विश्वकर्मा साव उर्फ संतोष ने पूछताछ में बताया कि अगस्त में दीपक उर्फ पगलवा का खड़ा कुआं निवासी मौसेरा भाई विक्की उर्फ कोबरा से मेरे भतीजा पवन, कल्लू तथा जितेंद्र के साथ घर के समीप टेंपो लगाने को लेकर विवाद हुआ था।

संतोष ने पुलिस को बताया कि जन्माष्टमी को दीपक उर्फ पगलवा मित्रों के साथ विश्वकर्मा के घर पहुंचा। उसने विश्वकर्मा के भतीजा पवन, कालिया, जितेंद्र तथा भांजा को बुला टेंपो विवाद को सुलझाने की बात कही। मामला सुलझने के बजाय उलझ गया और दोनों पक्ष एक दूसरे को देख लेने की धमकी दी। इसके बाद वहां से दोनों पक्ष के लोग घर चले गए।

मोबाइल पर दोनों ने एक दूसरे दी थी हत्या की धमकी

दो सितंबर की रात विश्वकर्मा साव और दीपक उर्फ पगलवा के बीच मोबाइल पर लगभग एक घंटे तक बातचीत हुई। बात के दौरान दोनों ने एक दूसरे की हत्या की धमकी मोबाइल पर दी थी। इसी दौरान विश्वकर्मा साव को पता चला कि दीपक महावीर घाट पर ठीकेदारी का फार्म भरने के दिन में जाएगा। इसके बाद जून में जेल से बाहर आए माखनपुर ईदगाह का अपराधी बिट्टू पासवान को विश्वकर्मा का भतीजा पवन ने बुलाकर दीपक की हत्या की साजिश रची।

चार सितंबर को राजू पासवान, पवन कुमार तथा कल्लू पिस्तौल के साथ महावीर घाट मोड़ के पास पहुंचे। उनलोगों ने दुकानदार को चाय बनाने के लिए कहा। उसी समय दीपक कुमार और विश्वकर्मा भी चाय पीने दुकान पर पहुंचा। पहले से दुकान पर घात लगाए तीनों बदमाशों ने दीपक को गोलियों से भून डाला। कांड में विश्वकर्मा का भतीजा जितेंद्र तथा उसके भाई ने लाइनर का काम किया।

50 लाख लूट में था शामिल

थानाध्यक्ष ने बताया कि वर्ष 2006 में अगस्त माह के प्रथम सप्ताह में अगमकुआं थाना क्षेत्र के कांटी फैक्ट्री रोड में पीएनबी बैंक के बाहर विश्वकर्मा साव तथा उसके अन्य साथी 50 लाख रुपये लूट कर बाइक से फरार हो गए थे। वह सुल्तानगंज थाना क्षेत्र से डकैती, आलमगंज से हत्या कांड में जेल जा चुका है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.