भोजपुर में हैवानियत, 12 साल की मूक-बधिर बच्ची को उठाकर ले गया और फिर किया दुष्कर्म

आरा में मूक-बधिर बच्‍ची से दुष्‍कर्म। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

Crime in Ara भोजपुर जिले में एक नबालिग मूक-बधिर दिव्यांग बच्ची के साथ दुष्कर्म किए जाने का बड़ा मामला सामने आया है। घटना इमादपुर थाना क्षेत्र की है। पुलिस ने आरोपित सुमन पासवान को गिरफ्तार कर लिया है। बच्ची की मेडिकल जांच आरा में हो रही है।

Publish Date:Mon, 25 Jan 2021 12:24 PM (IST) Author: Shubh Narayan Pathak

आरा, जागरण संवाददाता। Crime in Ara: भोजपुर जिले (Bhojpur District) में एक नाबालिग मूक-बधिर दिव्यांग बच्ची  के साथ दुष्कर्म किए जाने का बड़ा मामला सामने आया है। घटना आरा (Ara) से सटे इमादपुर (Imadpur) थाना क्षेत्र की है। वारदात के बाद पुलिस ने आरोपित सुमन पासवान (Suman Paswan) को गिरफ्तार कर लिया है। दुष्कर्म की शिकार बच्ची की मेडिकल जांच सोमवार को सदर अस्पताल, आरा (Sadar Hospital, Ara) में हो रही है। इसे लेकर पीड़िता के पिता के बयान पर एफआइआर दर्ज की गई है। मेडिकल के बाद कोर्ट में पीड़िता का बयान दर्ज कराया जाएगा।

घर से चापाकल पर पानी लाने गई थी बच्ची, कपड़े तक फाड़ डाले

बताया जाता हैं कि तरारी प्रखंड (Tarari Block) के इमादपुर थाना क्षेत्र के एक गांव की 12 वर्षीय बच्ची रविवार की देर शाम घर से चापाकल पर पानी लाने गई हुई थी। इसी दौरान आरोपित नाबालिग बच्ची को उठाकर बगल के खेत में लेकर चला गया और इसके  बाद जबरन उसके साथ दुष्कर्म किया। हवस के अंधे आरोपित ने कपड़े तक फाड़ दिए।  बच्ची मूक-बधिर थी, इसलिए वह हो-हल्ला भी नहीं कर सकी। बाद में पीड़िता ने अपने स्वजनों को फटा कपड़ा दिखाकर और इशारे से बताकर पूरी घटना की जानकारी दी।

सूचना मिलने पर हरकत में आई पुलिस

इधर नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म की सूचना मिलने के बाद इमादपुर थाना की पुलिस तत्काल हरकत में आ गई। इसके बाद थानाध्यक्ष साजिद हुसैन व दारोगा एसके पांडेय ने रात में ही गांव में छापेमारी की। इसके बाद आरोपित सुमन पासवान को धर दबोचा गया। पुलिस पीड़ित नाबालिग बच्ची का साक्ष्य के तौर पर वस्त्र भी जब्त कर लिया है। कपड़े में लगे स्वाब को भी प्रिर्जव किया जा रहा हैं। पुलिस के अनुसार इस मामले में केस दर्ज कर पीड़ित बच्ची का मेडिकल जांच कराई जा रही है। मेडिकल जांच के बाद पीड़ित बच्ची को कोर्ट में प्रस्तुत किया जाएगा। मेडिकल रिपोर्ट मिलने के बाद गिरफ्तार आरोपित के विरुद्ध कोर्ट में आरोप-पत्र समर्पित किया जाएगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.