पटना में छात्रा से सामूहिक दुष्‍कर्म के एक दोषी को 20 साल की सजा, कोचिंग से कर लिया था अगवा

2015 में पटना के कदमकुआं थाना क्षेत्र के कोचिंग से छात्रा को अगवा कर सामूहिक दुष्‍कर्म करने के एक दोषी को कोर्ट ने 20 साल की सजा सुनाई है। मामले में अन्‍य चार अभियुक्‍तों का ट्रायल चल रहा है।

Vyas ChandraThu, 16 Sep 2021 07:53 AM (IST)
पटना में दुष्‍कर्मी को मिली 20 साल की सजा। सांकेतिक तस्‍वीर

पटना, न्यायालय संवाददाता। नाबालिग छात्रा को अगवा कर सामूहिक दुष्कर्म के मामले में अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह पाक्सो के विशेष न्यायाधीश अवधेश कुमार की अदालत ने एक अभियुक्त पवन कुमार उर्फ नीलू को 20 साल कैद की सजा सुनाई है। मामले के अन्य चार आरोपितों का ट्रायल अदालत में अभी चल रहा है। अदालत ने अभियुक्त पर 15 हजार रुपये आर्थिक जुर्माना भी लगाया है। अभियुक्त कदमकुआं थाना क्षेत्र के राजेंद्र नगर रोड नंबर एक का निवासी है। मामला कदमकुआं थाना में दर्ज कांड से जुड़ा है।अदालत ने आरोपित को मोहल्ले की नाबालिग छात्रा को अगवा कर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म का दोषी पाया है। 

2015 में कोचिंग जाते समय किया था अगवा 

स्पेशल पीपी सुरेश चंद्र प्रसाद ने बताया कि पीड़‍िता को साढ़े सात लाख रुपये दिलाने का भी आदेश अदालत ने जिला विधिक सेवा प्राधिकार के सचिव को दिया है। अदालत ने कहा है कि डेढ़ लाख रुपये नाबालिग को दिलाया जाए और छह लाख रुपये पीडि़ता की सुरक्षा के लिए बैैंक में फिक्स डिपोजिट करा दिया जाए। अदालत ने आदेश की कापी पटना के जिलाधिकारी को भेजी है। अभियुक्तों ने नाबालिग छात्रा को 1 फरवरी 2015 को कोचिंग से उठाकर स्प्रे छिड़ककर बेहोश किया और उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म किया था। 

शादी में गई बच्‍ची से दुष्‍कर्म मामले में कार चालक दोषी करार

उधर वैशाली के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश षष्टम सह पाक्सो के विशेष न्यायाधीश आशुतोष कुमार झा ने करीब पांच वर्ष पूर्व एक बरात में सम्मिलित होने गई नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म किए जाने के मामले में सुरेंद्र राय को दोषी करार किया है। जिले के जंदाहा थाना क्षेत्र में शादी समारोह के दौरान करीब पांच वर्ष पूर्व यह घटना हुई थी। कोर्ट ने मामले में सजा के बिंदु पर सुनवाई के लिए 21 सितंबर की तिथि मुकर्रर की है। इस संबंध में मिली जानकारी के अनुसार जंदाहा थाना क्षेत्र के एक गांव में दस वर्षीय बच्ची अपने मौसेरा भाई के साथ उसकी शादी में भाग लेने के लिए 11 जुलाई 2016 को गई थी। कार में गहना, कपड़े एवं अन्य सामान रखे गए थे। इसे लेकर बच्ची एवं गाड़ी के चालक महुआ थाना क्षेत्र के मुकुंदपुर पंचमुखी चौक निवासी सुरेंद्र राय को गाड़ी में ही छोड़ दिया गया था। अन्य लोग खाने-खिलाने में लग गए।

गाड़ी में बैठी नाबालिग बच्ची को नींद आ गई और वह सो गई। इसी बीच गाड़ी का चालक बच्ची को सोई अवस्था में गाड़ी में ही लेकर गांव स्थित प्राथमिक विद्यालय में ले गया तथा उसके साथ दुष्कर्म करने लगा। इधर गहना एवं कपड़े की जरूरत पड़ने पर बरात के लोग गाड़ी तक पहुंचे तो गाड़ी वहां से गायब थी। लोगों ने गाड़ी की खोजबीन की तो वह स्‍कूल परिसर में खड़ी मिली। वहां चालक को दुष्कर्म करते हुए पकड़ लिया। इस घटना को लेकर पीड़िता के पिता के बयान पर जंदाहा थाना में प्राथमिकी दर्ज की गई। इस मामले में पुलिस ने 30 सितंबर 2016 को न्यायालय में आरोप पत्र समर्पित किया।  

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.