Omicron Guideline in Bihar: पटना के प्राइवेट स्कूलों को आनलाइन क्लास कराने का आदेश, ओमिक्रोन से बचाव को नई गाइडलाइन जारी

Omicron Guideline in Bihar प्राइवेट स्कूल आफलाइन क्लास कराने के साथ-साथ बच्चों को आनलाइन क्लास का विकल्प भी मुहैया कराएंगे। इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी अमित कुमार ने सभी निजी स्कूलों के प्राचार्यों एवं निदेशकों को निर्देश दिया है।

Akshay PandeySun, 05 Dec 2021 08:42 PM (IST)
पटना के प्राइवेट स्कूल आनलाइन क्लास का भी विकल्प देंगे। सांकेतिक तस्वीर।

जागरण संवाददाता, पटना: पटना जिले के सभी निजी विद्यालय (प्राइवेट स्कूल) आफलाइन क्लास कराने के साथ-साथ बच्चों को आनलाइन क्लास का विकल्प भी मुहैया कराएंगे। इस संबंध में जिला शिक्षा अधिकारी अमित कुमार ने सभी निजी स्कूलों के प्राचार्यों एवं निदेशकों को निर्देश दिया है। वर्तमान में जिले के अधिकांश निजी स्कूल आफलाइन क्लास संचालित कर रहे हैं। जिला शिक्षा अधिकारी के निर्देश के बाद वे आनलाइन सुविधा भी बच्चाें को मुहैया कराएंगे। शिक्षा विभाग ने तीस नवंबर को गृह विभाग द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया के तहत यह निर्देश दिया है। गृह विभाग ने कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रान के मद्देनजर गाइडलाइन जारी की है। नई गाइडलाइन के अनुसार स्कूलों में बच्चों एवं कर्मियों को मास्क का उपयोग करना होगा।

टीकाकरण के बाद ही कर्मियों के स्कूल में मिलेगा प्रवेश

जिला शिक्षा अधिकारी ने निर्देश दिया है कि टीकाकरण के बाद ही किसी कर्मी को स्कूल में प्रवेश दिया जाएगा। जो स्कूल कर्मी अब तक टीकाकरण नहीं कराये हैं, उन्हें स्कूलों में प्रवेश नहीं दिया जाएगा। स्कूल के वाहनों को प्रतिदिन सैनिटाइज करना होगा। विद्यालय में नामांकित छात्र-छात्राओं को जरा भी तबीयत खराब होने पर उसे आफलाइन शिक्षा व्यवस्था से अलग रखा जाएगा।

शाम में चल रही आनलाइन क्लास : एसोसिएशन

एसोसिएशन आफ पब्लिक स्कूल के अध्यक्ष डा.सीबी सिंह एवं कोषाध्यक्ष एके नाग ने कहा कि वर्तमान में आफलाइन क्लास के अलावा निजी विद्यालय आनलाइन क्लास भी चला रहे हैं। कम समय में कोर्स पूरा करने के लिए आफलाइन एवं आनलाइन का सहारा लिया जा रहा है।

पहले सरकारी स्कूलों में शुरू हो आनलाइन क्लास : संघ

बिहार पब्लिक स्कूल एण्ड चिल्ड्रेन वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष डा.डीके सिंह एवं उपाध्यक्ष एसएम सोहेल का कहना है कि सरकार पहले अपने स्कूलों में आनलाइन क्लास शुरू करें। सभी बच्चों की जान की कीमत बराबर है, चाहे सरकारी हो या निजी विद्यालय। सरकार केवल निजी विद्यालयों के लिए मनमाना निर्देश नहीं जारी करें, नहीं तो संघ ऐसे निर्देशों का विरोध करेगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.