नालंदाः आखिर खुशबू को रात में घर से निकलते किसने देखा? लड़की के मामले में उलझी पुलिस की गुत्थी

नालंदा में नौ अप्रैल को लड़की की कर दी गई थी निर्मम हत्या। प्रतीकात्मक तस्वीर।

बिहार के नालंदा में नौ अप्रैल को एक बड़ी वारदात सामने आई थी। जिस लड़की की शादी के डेट तय थी उसकी निर्मम हत्या कर दी गई। वारदात के तीन दिन बाद भी पुलिस किसी नतीजे पर नहीं पहुंची है।

Akshay PandeySun, 11 Apr 2021 04:31 PM (IST)

संवाद सूत्र, थरथरी (नालन्दा): थरथरी थाना क्षेत्र के द्वारिका बिगहा में हुई युवती खुशबू कुमारी की गला रेत कर नृशंस हत्या की जांच में पुलिस अभी किसी ठोस नतीजे पर नहीं पहुंची है। हत्या का आरोप लड़की के मंगेतर पर लगा है। लेकिन यह थ्योरी समझ से परे है। न तो पुलिस को और न ही पब्लिक को यह बात गले उतर रही है कि यदि किसी को लड़की पसंद न हो तो वह उस लड़की की हत्या क्यों करेगा। उसने शादी से इनकार क्यों नहीं किया? मृतका खुशबू के पिता अशोक चौहान का यह दावा करना कि नूरसराय के नीरपुर निवासी जिस आजाद कुमार से शादी तय हुई थी, उसको किसी और लड़की से विवाहेत्तर संबंध था। पुलिस इस ऐंगल पर भी जांच कर रही है। इस हत्याकांड में बड़ा सवाल यह भी है कि खुशबू को रात में घर से निकलते किसने देखा?

चाची बोलीं, उस रात का कुछ याद नहीं

अब तक किसी ने यह दावा नहीं किया है। खूशबू अपनी विधवा चाची मंजू देवी के साथ सोती थी। मंजू का भी कहना है कि जिस रात वह गायब हुई, उसे कुछ नहीं मालूम। वह नींद में थी। खुशबू का मंगेतर आजाद भी चाची के मोबाइल फोन पर बात करता था। यह सवाल उठ रहा है कि देर रात खुशबू घर से बाहर कैसे और किन परिस्थितियों में गई या ले जाई गई। क्या ऐसा तो नहीं कि खुशबू को घर का या होने वाले ससुराल पक्ष का कोई ऐसा भेद मालूम हो जिसे खुलने पर किसी पक्ष को बड़ा नुकसान होने का खतरा हो। जिस कारण उसे रास्ते से हटाने का निर्णय ले लिया हो। पुलिस मंजू देवी से भी प्रारम्भिक पूछ-ताछ की है। फोन कॉल डिटेल, पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट के आधार पर जांच आगे बढ़ रही है।

रूह कंपा देने वाली थी वारदात

याद दिला दें,अशोक चौहान के तीन पुत्रियों में सबसे छोटी रही खुशबू की शादी आगामी 20 जून को नीरपुर के आजाद कुमार के साथ होनी थी। 17 फरवरी को वर पक्ष के लोग खुशबू को छेका-चुमामन के लिए आये थे। इस रस्म के दौरान आए लड़के के दोस्तों ने लौटकर बताया था लड़की दुबली पतली एवं नाटी है। खुशबू बिहारशरीफ के केएसटी कॉलेज में कला संकाय में प्रथम वर्ष की पढ़ाई कर रही थी। सम्भावना के आधार पर दावा किया जा रहा है कि बीते आठ अप्रैल की रात दस बजे के बाद मंजू देवी जब सो रही थी तब खुशबू घर से निकली होगी। कहा जा रहा है कि मंगेतर आजाद ने फोन कॉल कर उसे बाहर में मिलने का भरोसा दे दबाव देकर बुलाया होगा। खून के निशान के आधार पर दावा किया जा रहा है उस युवती को गांव से सटे पूरब अमरौरा गांव के खेत में ले जाकर दोनों हाथ बांध गला काट हत्या कर दी गई। लटकते सिर सहित शव को लाकर बृजनन्दन प्रसाद के खलिहान में गेंहू के भूसे की ढेर में छुपा दिया। थाना पुलिस मंगेतर की गिरफ्तारी के लिए छापेमारी कर रही है। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.