लोजपा ने रीना को राज्यसभा प्रत्याशी बनाने का प्रस्ताव ठुकराया, चिराग ने जताया आभार- चाहत रह गई अधूरी

रीना पासवान और चिराग पासवान। जागरण आर्काइव। -

बिहार में राज्यसभा की एक सीट के लिए हो रहे उप चुनाव के बहाने लोजपा से करीबी बढ़ाने की महागठबंधन की चाहत पूरी नहीं हो पाई। लोजपा ने साफ कह दिया है कि वह उप चुनाव में अपना उम्मीदवार नहीं देगी।

Publish Date:Tue, 01 Dec 2020 07:02 PM (IST) Author: Akshay Pandey

राज्य ब्यूरो, पटना। राज्यसभा की एक सीट के लिए हो रहे उप चुनाव के बहाने लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) से करीबी बढ़ाने की महागठबंधन की चाहत पूरी नहीं हो पाई। लोजपा ने साफ कह दिया है कि वह उप चुनाव में अपना उम्मीदवार नहीं देगी। पूर्व केंद्रीय मंत्री और लोजपा के संस्थापक रामविलास पासवान के निधन से यह सीट रिक्त हुई है। पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) के उम्मीदवार बनाए गए हैं। रामविलास पासवान भी उप चुनाव में ही राज्यसभा के लिए चुने गए थे। तब यह सीट भाजपा नेता और केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के लोकसभा के लिए चुने जाने के कारण रिक्त हुई थी। इसका कार्यकाल 2024 तक है। 

लोजपा के मीडिया प्रभारी कृष्ण सिंह कल्लू ने मंगलवार को बताया कि मुख्य रूप से राजद और महागठबंधन के कुछ अन्य नेताओं की ओर से रामविलास पासवान की पत्नी रीना पासवान को राज्यसभा उम्मीदवार बनाने का प्रस्ताव आया था। लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने उस प्रस्ताव को मानने से इनकार कर दिया। महागठबंधन ने राजग उम्मीदवार के खिलाफ चुनाव लड़ने पर रीना पासवान को बिना शर्त समर्थन देने की पेशकश की थी। 

भाजपा से संबंध नहीं बिगाड़ना चाहती लोजपा

इधर, राजनीतिक प्रेक्षकों का मानना है कि बिहार चुनाव में राजग से कटूता के बाद लोजपा अब भाजपा के केंद्रीय नेतृत्व से संबंध नहीं बिगाड़ना चाहती है। यही वजह है कि लोजपा अपने कार्यकर्ताओं को 2025 के विधानसभा चुनाव की तैयारी के लिए तो कह रही है, लेकिन 2024 के लोकसभा चुनाव की तैयारी पर कुछ नहीं कह रही है।  

लोजपा विधायक का वोट मिलेगा राजग को

मीडिया प्रभारी कल्लू ने बताया कि लोजपा ने महागठबंधन के नेताओं की ओर से रीना पासवान को राज्यसभा उम्मीदवार बनाए जाने के प्रस्ताव पर आभार प्रकट किया है, लेकिन राजग उम्मीदवार सुशील कुमार मोदी के खिलाफ अपना उम्मीदवार देने से मना कर दिया है, क्योंकि वह केंद्र में राजग का हिस्सा है। विधानसभा में लोजपा के सिर्फ एक विधायक हैं। वे राजग उम्मीदवार सुशील कुमार मोदी के पक्ष में मतदान करेंगे। 

कांग्रेस बोली, रीना को भाजपा बनाए उम्मीदवार

महागठबंधन में शामिल कांग्रेस ने अब भाजपा पर रीना पासवान को राज्यसभा भेजने का दबाव बनाया है। कांग्रेस प्रवक्ता राजेश राठौर ने मंगलवार को कहा कि पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी हठधर्मिता छोड़ें और रीना पासवान को राज्यसभा भेजें। भाजपा को यह नहीं भूलना चाहिए कि बिहार विधानसभा में उसे 74 सीटें लोजपा और चिराग पासवान की बदौलत ही मिली हैं। यदि चिराग पासवान ने राजग में शामिल जदयू के खिलाफ प्रत्याशी नहीं दिए होते तो आज भाजपा का भी वही हाल होता तो जदयू का है। राठौर ने कहा कि भाजपा को यह नहीं भूलना चाहिए कि जब तक रामविलास पासवान जीवित रहे, भाजपा उनके नाम पर देशभर में दलितों का वोट हासिल करती रही। पासवान के दुनिया से जाते ही भाजपा उनके उपकारों की भूल गई है। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.