कार्तिक पूर्णिमा गंगा स्‍नान: शुभ मुहूर्त में दान-पुण्‍य से मिलेगा विशेष फल, चंद्रग्रहण भी लग रहा है आज

Karthik Purnima Ganga Snan Muhurt कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करने के साथ दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है। आज देव-दीपावली का पर्व मनाया जाएगा। एक और खास बात है कि आज चंद्र ग्रहण लग रहा है।

Shubh Narayan PathakPublish:Fri, 19 Nov 2021 07:29 AM (IST) Updated:Fri, 19 Nov 2021 07:29 AM (IST)
कार्तिक पूर्णिमा गंगा स्‍नान: शुभ मुहूर्त में दान-पुण्‍य से मिलेगा विशेष फल, चंद्रग्रहण भी लग रहा है आज
कार्तिक पूर्णिमा गंगा स्‍नान: शुभ मुहूर्त में दान-पुण्‍य से मिलेगा विशेष फल, चंद्रग्रहण भी लग रहा है आज

पटना, जागरण संवाददाता। Karthik Purnima Ganga Snan Muhurt: कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि पर बक्‍सर, भोजपुर, सारण, वैशाली, पटना, बेगूसराय, खगड़‍िया और भागलपुर सहित बिहार के तमाम जिलों के गंगा घाटों पर स्‍नान के लिए श्रद्धालुओं का हुजूम उमड़ पड़ा है। आज देव-दीपावली का पर्व मनाया जाएगा। एक और खास बात है कि आज चंद्र ग्रहण लग रहा है, हालांकि ज्‍यो‍तिषियों के अनुसार इसका असर बिहार में नहीं होगा। कार्तिक पूर्णिमा पर ग्रह-गोचरों का शुभ संयोग बना है। कार्तिक पूर्णिमा कृतिका नक्षत्र व परिघ योग के सुयोग में शुक्रवार को पूरे दिन मनाया जाएगा। वहीं काशी में देवताओं की दीपावली के रूप में देव दीपावली महा-उत्सव मनाया जाएगा।

गंगा स्‍नान और दान-पुण्‍य करने का विशेष महत्‍व

कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा स्नान करने के साथ दान-पुण्य करने का विशेष महत्व है। पंडित राकेश झा ने बताया कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन ही भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। कार्तिक पूर्णिमा पर दीपदान से दस यज्ञ  का फल मिलता है। मिथिला पंचांग के अनुसार गुरुवार 18 नवंबर को दोपहर 11.46 बजे से आरंभ होकर शुक्रवार को दोपहर 1.33 बजे तक पूर्णिमा रहेगी। वहीं बनारस पंचांग के अनुसार यह गुरुवार को दोपहर 11.34 बजे से आरंभ होकर शुक्रवार को दोपहर 1.20 बजे तक रहेगी। उदया तिथि में शुक्रवार को पूरे दिन पूर्णिमा का मान रहेगा।

स्‍नान-दान और पूजा के लिए ये मुहूर्त हैं शुभ

अभिजीत मुहूर्त - दोपहर 11.13 बजे से 11.56 बजे तक गुली काल मुहूर्त - सुबह 8.53 बजे से 10.14 बजे तक

42 स्पीड बोट के साथ 200 बचावकर्मी रहेंगे तैनात

कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर शुक्रवार को गंगा में निजी नावों का परिचालन पूरी तरह प्रतिबंधित रहेगा। गंगा घाटों पर स्नान करने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा के लिए एनडीआरएफ की 42 स्पीड बोट के साथ 200 बचावकर्मी तैनात किए गए हैं। राजधानी में यातायात और घाटों पर भीड़ प्रबंधन के लिए जिलाधिकारी डा. चंद्रशेखर ङ्क्षसह और एसएसपी ने दंडाधिकारी और पुलिस बल को प्रतिनियुक्त किया है। गांधी घाट, भद्र घाट और दीघा घाट पर एनडीआरएफ के चिकित्सा अधिकारी की मौजूदगी में मेडिकल कैंप रहेगा। देर रात से एनडीआरएफ की जलीय एंबुलेंस मेडिकल स्टाफ के साथ घाटों के किनारे पैट्रोलिंग करती रहेगी। एनडीआरएफ की एक टीम को दीदारगंज पटना में अलर्ट पर रखा गया है।