बख्तियारपुर में एक गांव के 30 समेत कुल 35 लोग मिले संक्रमित

बख्तियारपुर में एक गांव के 30 समेत कुल 35 लोग मिले संक्रमित

बख्तियारपुर। बख्तियारपुर में गुरुवार को कोरोना विस्फोट हुआ। कोरोना की जांच में 35 संक्रमित पाए गए। जबकि एक ही गांव रवाईच में 30 लोग पॉजिटिव पाए गए हैं।

JagranFri, 23 Apr 2021 01:36 AM (IST)

बख्तियारपुर। बख्तियारपुर में गुरुवार को कोरोना विस्फोट हुआ। कोरोना की जांच में 35 संक्रमित मिले, जिनमें अकेले रवाईच गांव के 30 लोग संक्रमित पाए गए। इससे रवाईच गांव में संक्रमितों की संख्या 73 पहुंच गई है। इससे गांव में हड़कंप मच गया है। रवाईच गांव में कोरोना का हब बनने से स्वास्थ्य विभाग भी हैरान है। प्रखंड में संक्रमितों की संख्या 359 पहुंच गई है। रवाईच निवासी सह नगर सभापति शशि देवी ने गुरुवार को स्वयं जांच करवा ग्रामीण व शहरवासियों से अधिकाधिक जांच करवाने एवं कोविड का वैक्सीन लेने की अपील की है। इधर, संक्रमितों का आरोप है कि पीएचसी द्वारा हम लोगों को सिर्फ होम आइसोलेशन में रहने की बात बताई गई है। न ही दवा मिला है और न ही कोई स्वास्थ्यकर्मी हाल चाल लेने आते हैं।

प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ बीरेंद्र कुमार सिन्हा ने बताया कि गुरुवार को रवाईच गांव में एक सौ लोगों की एंटीजन किट से जांच की गई, जिसमें 20 लोग पॉजिटिव निकले हैं, वही पीएचसी में 90 लोगों की एंटीजन किट से जांच की गई जिसमें 15 लोग पॉजिटिव निकले। जिसमें 10 लोग अकेले रवाईच गांव के थे। रवाईच गांव में पॉजिटिव की संख्या 73 पहुंच गई है, साथ ही बताया कि 264 लोगों को कोविड वैक्सीन दी गई। आरटीपीसीआर जांच 52 लोगों का किया गया। प्रभारी ने बताया कि प्रखंड क्षेत्र में अब तक पॉजिटिव की संख्या 359 पहुंच गई है, सभी को होम आइसोलेशन में रहने की सलाह दी गई है। बख्तियारपुर बाजार में उड़ रहीं शारीरिक दूरी के नियम की धज्जियां

बख्तियारपुर। कोरोना दिन-ब-दिन भले भयावह रूप अख्तियार कर रहा हो, लेकिन बख्तियारपुर बाजार में इन दिनों शारीरिक दूरी बनाए रखने के नियमों का पालन नहीं हो रहा है। गुरुवार को बगैर मास्क के दुकानदार एवं ग्राहक खरीद बिक्री में मशगूल दिखे। इस संबंध में नगर परिषद के कार्यपालक पदाधिकारी रोशन कुमार ने बताया कि गुरुवार को दुकानदारों को चेतावनी दी गई है। वही लोगों से मास्क पहनने की अपील की गई है। दोबारा पकड़े जाने पर शुक्रवार से कार्रवाई की जाएगी।

नहीं मिल पाई ऑक्सीजन, जदयू नेता की अचानक मौत

बिहटा। जदयू के जिला सचिव प्रेमनाथ राम की बुधवार की रात अचानक मौत हो गई। इससे परिजनों में कोहराम मच गया है। बताया जा रहा कि उन्हें समय पर ऑक्सीजन वाला बेड नहीं मिल पाया, इस कारण उनकी मौत हो गई।

बताया जाता है कि महज छह दिन बाद प्रेमनाथ राम के इकलौते बेटे का तिलक था। इसको लेकर वे तैयारियों में जुटे थे। बुधवार को दिन में कार्ड बांटकर आने के बाद प्रेमनाथ को लगा कि उनके पेट में गैस हो गई है। इससे मन थका हुआ है और घबरा रहा है। उन्होंने इसकी सूचना परिजनों को दी। आनन-फानन में उन्हें अस्पताल ले जाया गया। जहां उनका ऑक्सीजन लेवल काफी गिरा मिला। उन्हें पटना ले जाने की सलाह दी गई। कोरोना की इस महामारी के बीच उन्हें कहीं ऑक्सीजन वाला बेड नहीं मिला। इस कारण उनकी मौत हो गई। सूचना मिलते ही परिजनों में शोक की लहर दौड़ गई। शादी वाले घर में कारुणिक क्रंदन से माहौल गमगीन हो गया। गुरुवार को उनका दाह संस्कार किया गया। उनके निधन पर प्रखंड अध्यक्ष राजू यादव, पूर्व विधायक सूर्यदेव त्यागी, मीडिया समन्वयक अजय कुमार पिटू, बिपिन बिहारी सहित अन्य ने शोक जताया है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.