एनएच, गांधी सेतु व अशोक राजपथ पर रेंगते रहे वाहन

एनएच, गांधी सेतु व अशोक राजपथ पर रेंगते रहे वाहन

महात्मा गांधी सेतु राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 30 और अशोक राजपथ पर रविवार को जाम लगा रहा।

JagranMon, 01 Mar 2021 01:40 AM (IST)

पटना सिटी : महात्मा गांधी सेतु, राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 30 और अशोक राजपथ पर रविवार को छुट्टी होने के बावजूद वाहनों की गति पूरे दिन रुकती रही। जाम तथा रेंगते वाहनों के बीच फंसे वाहनों पर सवार लोग परेशान हुए। जरूरी काम को निकले लोग लेट से पहुंचे। छुट्टी मनाने परिवार के साथ निकले लोगों के जाम में फंसने पर उनकी छुट्टी की किरकिरी हुई। गांधी सेतु, बाइपास, जीरो माइल, पहाड़ी पर, नंद लाल छपरा स्थित एनएच पर वाहनों की कतार लगी रही। तैनात पुलिस कर्मियों ने बताया कि गांधी सेतु के पश्चिमी लेन से ही वाहनों की आवाजाही होने तथा कई वाहनों के खराब होने से रह-रह कर जाम लगता रहा। सुबह में सेतु व एनएच पर वाहनों का अत्यधिक दबाव रहा। अशोक राजपथ पर त्रिपोलिया, पत्थर की मस्जिद, चौधरी टोला, महेंद्रू में कई जगहों पर मुख्य सड़क खोद कर छोड़ दिए जाने के कारण जाम लगता रहा।

आइडब्ल्यूएआइ ने करार के मुताबिक पांच जहाजों में से दूसरा लाल बहादुर शास्त्री जहाज शिपिग कंपनी को सौंपा - राष्ट्रीय जलमार्ग में मालवाहक जहाज का परिचालन शुरू, गायघाट स्थित बंदरगाह से चावल का भूसा लेकर रवाना होगा जहाज जागरण संवाददाता, पटना सिटी : राष्ट्रीय जलमार्ग संख्या एक में गंगा के रास्ते मालवाहक जहाजों के ट्रायल के बाद अब विधिवत परिचालन शुरू हो गया है। शिपिग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के कैप्टन शांतनु ने बताया कि वाराणसी से 35 टन चावल का भूसा लेकर लाल बहादुर शास्त्री जहाज पटना पहुंचा है। इस जहाज पर पटना स्थित बंदरगाह से 35 टन चावल का भूसा लोड किया जा रहा है। कोलकाता से 6 टन दाल रवींद्रनाथ टैगोर जहाज पटना बंदरगाह पहुंचा। इस जहाज पर 10 कंटेनर में पटना से चावल लोड कर उसे मंगलवार को कोलकाता भेजा जाएगा। प्रभारी निदेशक ने बताया कि पटना से भेजे जा रहे चावल के भूसा से कोलकाता में इथेनॉल और जानवरों का चारा तैयार किया जाएगा।

वहीं, भारतीय अंतर्देशीय जलमार्ग प्राधिकरण के प्रभारी निदेशक अरविद कुमार ने गायघाट स्थित बंदरगाह पर 300 टन की क्षमता का लाल बहादुर शास्त्री मालवाहक जहाज शिपिग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया के कैप्टन शांतनु को सौंपा। उन्होंने व्यापारियों के साथ बैठक कर बताया कि जलमार्ग से माल ढुलाई अपेक्षाकृत सस्ता, सरल व सुरक्षित है। निदेशक ने कहा कि करार के अनुसार कुल पांच मालवाहक जहाज कॉर्पोरेशन को सुपुर्द किया जाना है। इनमें से रविद्र नाथ टैगोर जहाज पहले ही दिया जा चुका है। लाल बहादुर शास्त्री के बाद अब तीसरा जहाज डॉक्टर होमी जहांगीर भाभा एक महीने के अंदर सौंप दिया जाएगा।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.