Pulwama Attack: सरहद पर सीना ताने था, वो लौटकर अब न आएगा

पटना, जेएनएन। अपने लाल को आखिरी बार छोड़ने के लिए कारवां निकला था। हर आंखें डबडबा रही थीं। शहीद संजय कुमार सिन्हा की अंतिम यात्रा का गवाह मसौढ़ी के साथ पूरा पटना बना। भारत माता की जय के नारे से गगन गुंजायमान हो रहा था पर शहीद की याद में रुंधा हो गया गला साथ नहीं दे रहा था। संजय तो देश के लिए 14 फरवरी को ही अमर हो गए थे पर अंतिम विदाई शनिवार को दी गई।

आतंकी हमले में शहीद हुए तारेगना के संजय कुमार सिन्हा को श्रद्धांजलि देने के लिए फतुहा श्मशान घाट पर उप मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक समेत जनसैलाब उमड़ पड़ा। घाट पर हर ओर तिरंगा दिखाई दे रहा है। भारत माता की जय के साथ संजय सिन्हा अमर रहे के नारे लगाए जा रहे हैं।

हौसला बनाए रहें, जल्द होगी कार्रवाई

शहीद का पार्थिव शरीर पहुंचने से पहले घाट पर उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी, पथ निर्माण मंत्री नंद किशोर यादव, शिक्षा मंत्री कृष्णनंदन वर्मा, सहकारिता मंत्री राणा रणधीर सिंह आदि पहुंच गए हैं। नम आंखों से लोग अपने लाल को श्रद्धांजलि देने फूल-माला लेकर निकले हैं तो आक्रोश में जगह-जगह पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगा रहे हैं। घाट पर पहुंचे उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी ने कहा कि हौसला बनाए रहें। जवानों को खोने का बदला लिया जाएगा। हमें सेना पर भरोसा है। वे समय आने पर उचित कार्रवाई करेगी।

छात्राओं ने निकाला मौन जुलूस

शहर में जगह-जगह शहीद संजय कुमार सिन्हा को श्रद्धांजलि दी गई। बख्तियारपुर में छात्राओं ने शहीद की याद में मौन जुलूस निकाला। इस दौरान छात्राओं के हाथों में तिरंगा झंडा लहराता रहा। वहीं बिहटा में छोटे-छोटे स्कूली बच्चों की संवेदना देखने को मिली। बच्चों ने कैंडल जलाकर शरीदों को याद किया।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.