काली कमाई को लेकर वैशाली थानाध्यक्ष के चार ठिकानों पर छापा, मिली 93% अधिक आय

वैशाली के लालगंज थाना प्रभारी चंद्रभूषण शुक्ला के ठिकानों पर आर्थिक अपराध इकाई की टीम छापेमारी कर रही है। अवैध शराब कारोबारियों से संबंध रखने के आरोप में ईओयू टीम यह कार्रवाई कर रही है। थानेदार के लालगंज समेत छपरा व सिवान स्थित ठिकानों पर छानबीन की जा रही है।

Vyas ChandraWed, 01 Dec 2021 10:13 AM (IST)
लालगंज थानेदार के ठिकानों पर ईओयू की रेड। जागरण

राज्य ब्यूरो, पटना : शराब के धंधेबाजों से गठजोड़ कर काली कमाई करने के आरोप में वैशाली के लालगंज के थानाध्यक्ष चंद्रभूषण शुक्ला पर बड़ी कार्रवाई हुई है। आर्थिक अपराध इकाई (ईओयू) की टीम ने आय से अधिक संपत्ति का मामला दर्ज कर बुधवार को थानेदार के चार ठिकानों पर एक साथ धावा बोला। लालगंज थानाध्यक्ष के कार्यालय एवं आवास के साथ हाजीपुर स्थित किराये के मकान, सिवान के रघुनाथपुर स्थित पैतृक आवास और छपरा शहर स्थित आवास की सघन तलाशी ली गई। इसमें आय के ज्ञात स्रोत से करीब 93 फीसद अधिक आय का पता चला है। अवैध रूप से अर्जित राशि को स्वजनों के बैंक खातों में जमा कर उसे वैध बनाने का प्रयास भी किया गया है। तलाशी में करीब नौ बैंक खातों से संबंधित कागजात, दो लाकर, जमीन के दस्तावेज, 92 हजार नकद, बीमा पालिसी में निवेश से जुड़े कागजात आदि बरामद किए गए हैं। इन्हें जल्द ही निलंबित करने की कार्यवाही की जा सकती है। 

पत्नी के नाम पर बेतिया में आवासीय व कृषि जमीन 

ईओयू अधिकारियों के अनुसार, चंद्रभूषण शुक्ला ने स्वयं, पत्नी एवं अपने स्वजनों के नाम पर काफी संपत्ति अर्जित की है। विभिन्न बैंक व वित्तीय संस्थानों में काफी राशि का निवेश भी किया गया है। थानेदार की पत्नी के नाम पर बेतिया में एक आवासीय भूखंड तथा एक कृषि भूखंड के कागज मिले हैैं। पिता के नाम पर छपरा में एक आवासीय मकान की जानकारी भी मिली है। थानेदार व पत्नी के बैंक खातों में 11.79 लाख रुपये जमा पाए गए। बीमा पालिसियों के प्रीमियम, म्यूचुअल फंड तथा गाड़ी की खरीद पर करीब 34.74 लाख रुपये खर्च किए गए हैं। इसके अलावा अन्य मद में 13.73 लाख की राशि खर्च की गई है।

64 लाख की आय, 89 लाख की संपत्ति

ईओयू की जांच में थानेदार चंद्रभूषण शुक्ला के वेतन एवं अन्य ज्ञान स्रोत से करीब 64 लाख की आय की जानकारी मिली है, जबकि कुल अर्जित परिसंपत्ति 89 लाख 46 हजार रुपये है। इसके अलावा कुल खर्च 34 लाख छह हजार रुपये पाया गया है। इस प्रकार उनकी संभावित बचत 29 लाख 93 हजार रुपये ही होनी चाहिए। इस प्रकार थाने के पास 59 लाख 62 हजार से अधिक की परिसंपत्ति पाई गई। बैंक खातों को फ्रीज करने की कार्रवाई की जा रही है। ईओयू के अनुसार, अग्रतर जांच में चल-अचल संपत्ति बढऩे की संभावना है।

(सिवान स्थित आवास के बाहर तैनात सीआरपीएफ के जवान। )

2009 में बने थे दारोगा, जनवरी से वैशाली में थानेदार 

चंद्रभूषण शुक्ला 2009 बैच के दारोगा के तौर पर पुलिस सेवा में आए थे। बिहार सशस्त्र पुलिस-6 मुजफ्फरपुर में प्रशिक्षण के बाद मार्च 2010 में बेतिया में योगदान दिया था। जून 2016 से जनवरी, 2019 तक पूर्वी चंपारण जिले में कार्यरत रहे। ईओयू के अनुसार, इस दौरान ही चंद्रभूषण ने काफी संपत्ति अर्जित की। वह जनवरी, 2019 से वैशाली में पदस्थापित हैं। 

बालू के बाद अब शराब धंधेबाज से गठजोड़ पर छापा 

बालू के अवैध खनन मामले में आरोपित पुलिस व प्रशासनिक अफसरों के ठिकानों पर पिछले दो-तीन माह से आर्थिक अपराध इकाई की टीम लगातार छापेमारी कर रही है। मगर हाल के दिनों में यह पहला मामला है, जब शराब धंधेबाजों से गठजोड़ में किसी वर्तमान थानाध्यक्ष के ठिकानों पर छापा मारा गया है। इसके पूर्व 30 अक्टूबर को राजधानी के जक्कनपुर थानाध्यक्ष कमलेश प्रसाद के ठिकानों पर छापेमारी की गई थी। उसमें आय से अधिक संपत्ति का मामला था। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.