Dussehra Tragedy FLASHBACK: दशहरा में हर साल याद आते हैं पटना व अमृतसर के ये हादसे, जानिए इनका फ्राइडे कनेक्‍शन

Dussehra FLASHBACK हर साल दशहरा में रावण दहन के दौरान पटना के गांधी मैदान में मची भगदड़ तथा अमृतसर में हुए ट्रेन हादसे की याद आ जाती है। दोनों घटनाएं शुक्रवार को हुईं थीं और संयोग हीं है कि आज भी दशहरा शुक्रवार को पड़ा है।

Amit AlokFri, 15 Oct 2021 10:28 AM (IST)
साल 2014 के दशहरा के दिन पटना गांधी मैदान में जलता रावण तथा भगदड़ के बाद की फाइल तस्‍वीरें।

पटना, आनलाइन डेस्‍क। Dussehra Tragedy FLASHBACK दशहरा में रावण के पुतला दहन की परंपरा पुरानी है। पटना के गांधी मैदान में सैकड़ों साल से होता आ रहा यह कायक्रम कोरोनावायरस संक्रमण (CoronaVirus Infection) के कारण दो सालों से बंद है। पिछले साल यह कार्यक्रम नहीं हुआ तो इस साल इसका आयोजन प्रतीकात्‍मक रूप से अन्‍यत्र किया जा रहा है। वैसे, जब भी दशहरा में रावण दहन की बात होती है, पटना के गांधी मैदान में साल 2014 में हुआ वो हादसा (Patna Gandhi Maidan Stampede) बरबस याद आ जाता है, जिसमें कार्यक्रम के बाद शाम में लौटती भीड़ की भगदड़ ने 42 लोगों की जान ले ली थी। दशहरा में रावण दहन के हीं दौरान अमृतसर में भी भीड़ ट्रेन की चपेट में आ गई थी (Amritsar Train Accident)। उस हादसे में पांच दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई थी। यह इत्‍तफाक हीं है कि उक्‍त दोनों हादसे शुक्रवार के दिन हुए थे और यह महज संयोग है कि आज भी दशहरा शुक्रवार को हीं है।

भगदड़ में चली गई थी 42 की जान, सौ से अधिक घायल

पटना के गांधी मैदान में साल 2014 का तीन अक्‍टूबर भुलाए नहीं भूलता। पटना के कुर्जी निवासी अनंत शर्मा कार्यक्रम देखने गांधी मैदान गए थे। वे बताते हैं कि कार्यक्रम ठीक से हो गया। इसके बाद वे मैदान से बाहर आ गए। अचानक भगदड़ की शोर सुनकर लौटे तो नजारा देख होश खो बैठे। गांधी मैदान के केवल दो दरवाजों से निकलती आम लोगों की भीड़ एक-दूसरे पर चढ़ी जा रही थी। इसी दौरान एक दरवाजे पर भगदड़ मच गई। जो गिरा वह कुचलता चला गया। तब पटना विश्‍वविद्याल के छात्र रहे अक्षय सिंह कहते हैं कि बाद में जब भीड़ छंटी, सामने मौत का वीभत्‍स नजारा था, जिसे देखकर रूह कांप गई। आंकड़ों की बात करे तो हादसे के अगले दिन भगदड़ में 42 लोगों की मौत और सौ से अधिक लोगों के घायल होने की बात सामने आई।

भीड़ को निकालने की नहीं थी बेहतर प्रशासनिक व्‍यवस्‍था

विदित हो कि पटना गांधी मैदान के कुल नौ दरवाजों में से चार उस दिन बंद थे। शेष पांच में से तीन दरवाजे वीवीआआइपी के लिए रिजर्व थे। आम लोगों के लिए केवल दो दरवाजे हीं थे। जबकि, कार्यक्रम में भारी भीड़ उमड़ पड़ी थी। भारी भीड़ को बाहर निकालने की मुकम्‍मल प्रशासनिक व्‍यवस्‍था भी नहीं थी।

हादसे के बाद विलंब से आए वरीय प्रशासनिक अधिकारी

खास बात यह भी थी कि हादसे के बाद वरीय प्रशासनिक अधिकारी विलंब से पहुंचे थे। रावण दहन कार्यक्रम के दौरान मौजूद रहे तत्‍कालीन मुख्‍यमंत्री जीतनराम मांझी (Jitan Ram Manjhi) कार्यक्रम के बीच से अपने पैतृक गांव के लिए निकल गए थे। बताया जाता है कि बाद में जब तत्‍कालीन केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने मांझी से हादसे की बात की तो उन्होंने जानकारी नहीं रहने की बात कही थी। तब सत्तारूढ़ महागठबंधन के साथ रहे राष्‍ट्रीय जनता दल (RJD) के अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव (Lalu Prasad Yadav) ने भी घटना के पीछे प्रशासनिक लापरवाही को जिम्‍मेदार बताया था।

दशहरा के दिन हीं अमृतसर में हुआ था बड़ा रेल हादसा

इस घटना के चार साल बाद दशहरा के दिन हीं अमृतसर में रावण दहन के दौरान बड़ा रेल हादसा हुआ था। अमृतसर के जोड़ा फाटक इलाके में 19 अक्तूबर 2018 के दिन दशहरे का रावण दहन कार्यक्रम हो रहा था। लोगों की भारी भीड़ रेल ट्रैक पर खड़ा होकर कार्यक्रम देख रही थी। इतने में ट्रेन आ गई। शोर के बीच लोगों ने ट्रेन का हॉर्न नहीं सुना और वह लोगों को कुचलते हुए गुजर गई। इस दर्दनाक हादसे में पांच दर्जन से अधिक लोगों की मौत हो गई। जबकि, डेढ़ सौ से अधिक लोग घायल हो गए। कार्यक्रम में तत्कालीन कैबिनेट मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू और उनकी विधायक पत्नी डा. नवजोत कौर को बुलाया गया था।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.
You have used all of your free pageviews.
Please subscribe to access more content.
Dismiss
Please register to access this content.
To continue viewing the content you love, please sign in or create a new account
Dismiss
You must subscribe to access this content.
To continue viewing the content you love, please choose one of our subscriptions today.