पटना में दारोगा को पटककर किन्नरों ने छीन ली रिवाल्वर, छोटी सी बात पर बड़ा बवाल

दारोगा के घर किन्नर का दल पहुंच गया और जमकर हंगामा किया। इस दौरान उनकी सर्विस रिवाल्वर छीन ली। सूचना मिलकर मौके पर पहुंची रामकृष्णनगर थाना पुलिस ने किसी प्रकार पंचायत करा दारोगा का असलहा दिलवा कर मामले को शांत किया।

Akshay PandeyPublish:Fri, 03 Dec 2021 10:33 PM (IST) Updated:Fri, 03 Dec 2021 10:33 PM (IST)
पटना में दारोगा को पटककर किन्नरों ने छीन ली रिवाल्वर, छोटी सी बात पर बड़ा बवाल
पटना में दारोगा को पटककर किन्नरों ने छीन ली रिवाल्वर, छोटी सी बात पर बड़ा बवाल

संवाद सूत्र, फुलवारीशरीफ (पटना): रामकृष्णनगर थाना पुलिस शुक्रवार को एक अजीब घटना के कारण परेशान रही। जगनपुरा में एक दारोगा के घर किन्नर का दल पहुंच गया और जमकर हंगामा किया। इस दौरान उनकी सर्विस रिवाल्वर छीन ली। सूचना मिलकर मौके पर पहुंची रामकृष्णनगर थाना पुलिस ने किसी प्रकार पंचायत करा दारोगा का असलहा दिलवा कर मामले को शांत किया। बेउर थाने में तैनात दारोगा दिनेश कुमार सिंह जगनपुरा में मकान बनाकर रहते हैं। शनिवार को उनके बेटी की शादी है। शादी का उत्साह घर में चल रहा था। बेटी के विवाह की खबर मिलने पर चार- पांच किन्नर उनके घर पहुंच गए और नेग में पांच हजार रुपये की मांग करने लगे। दारोगा दिनेश ने 11 सौ रुपये दिए मगर उन्होंने लेने से इनकार कर दिया और हंगामा करने लगे। 

- नेग के रुपये को लेकर बढ़ी बात, दारोगा की बेटी की शादी पर पहुंचे थे किन्नर - दारोगा ने 11 सौ रुपये बढ़ाए, किन्नर पांच हजार रुपये लेने पर अड़े थे  - डराकर भगाने के लिए दारोगा ने जब लहराई रिवाल्वर तो बिगड़ गई बात - सूचना पर रामकृष्णनगर पुलिस पहुंची, काफी देर बाद वापस मिली रिवाल्वर

हंगामा होता देख दारोगा ने डराने के उद्देश्य से अपनी सरकारी रिवाल्वर निकाल लहराने लगे कि अगर नहीं भागे तो गोली मार देंगे। यह देख किन्नरों ने अपने अन्य साथियों को फोन कर बुलाया लिया। चंद ही मिनट में चार-पांच दर्जन किन्नर दिनेश कुमार के घर आ धमके। घर पर धावा बोलते हुए दारोगा को पकड़ पटक दिया और उनकी सरकारी रिवाल्वर छीन ली। इस घटना के बाद शादी वाले घर में हंगामा मच गया। लोगों ने इस बात की जानकारी रामकृष्ण नगर थाने को दी। खबर मिलने के साथ ही रामकृष्णनगर थाना पुलिस जगनपुरा में दारोगा के घर पहुंची और किसी प्रकार हंगामा कर रहे किन्नरों को समझाकर सरकारी हथियार वापस दिलवाया। पंचायत करने में पुलिस के पसीने छूट गए। करीब तीन घंटे तक पुलिस को माथापच्ची करनी पड़ी, तब जाकर किन्नर शांत हुए और जुर्माना लगाकर मुंह मांगी रकम लेकर निकले।