बिहार में बारह जिलों के 102 परीक्षा केंद्रों पर हुई दारोगा भर्ती परीक्षा, 94 फीसद उपस्थिति

राज्य के 102 परीक्षा केंद्रों पर दारोगा भर्ती की मुख्य परीक्षा आयोजित होगी।

बीपीएसएससी की ओर से रविवार को राज्य के 102 परीक्षा केंद्रों पर दारोगा भर्ती की मुख्य परीक्षा आयोजित हुई। परीक्षा को लेकर सभी आवश्यक तैयारियां पहले ही पूरी कर ली गई थीं। इसके लिए 12 जिलों में परीक्षा केंद्र बनाए गए थे।

Publish Date:Sat, 28 Nov 2020 10:54 PM (IST) Author: Akshay Pandey

पटना, जेएनएन।  बिहार पुलिस अवर सेवा आयोग (बीपीएसएससी) ने दारोगा भर्ती के लिए राज्य के 102 केंद्रों पर मुख्य परीक्षा आयोजित की। परीक्षा दो पालियों में आयोजित हुई। आयोग के विशेष कार्य पदाधिकारी संजय कुमार ने बताया, सभी जिलों में परीक्षा शांतिपूर्ण ढंग से हुई है। परीक्षा के लिए भागलपुर, मुजफ्फरपुर, दरभंगा, पूर्णिया, रोहतास, गया, भोजपुर, नालांदा सहित 12 जिलों में 102 परीक्षा केंद्र बनाए गए थे। सभी जिलों से रिपोर्ट ले ली गई है, इसमें 94 फीसद अभ्यर्थी उपस्थित रहे। परीक्षा के लिए 50 हजार 76 अभ्यर्थियों को योग्य पाया गया था। इस परीक्षा के माध्यम से राज्य में 2476 पदों पर भर्ती होगी, जिसमें पुलिस अवर निरीक्षक, सहायक अधीक्षक जेल, अवर निरीक्षक परिचारी व सहायक अधीक्षक आदि पद शामिल हैं। 

सामान्य के लिए 75 रहेगा कटऑफ

प्रतियोगिता परीक्षा विशेषज्ञों के अनुसार, पहली पाली में सामान्य ङ्क्षहदी के प्रश्न रहे। इसमें मुख्यत: व्याकरण से प्रश्न आए। 100 प्रश्नों के लिए 200 अंक निर्धारित किए गए थे। प्रत्येक पांच गलतियों पर एक अंक काटने का प्रावधान था। इसका अंक मेरिट लिस्ट में नहीं जुड़ेगा। दूसरी पाली में सामान्य अध्ययन के प्रश्न पत्रों में इतिहास से 16, भूगोल में 10 से 12 प्रश्न, भारतीय राजव्यवस्था से 10-12 प्रश्न, सामान्य विज्ञान में 18 से 20 प्रश्न, अर्थशास्त्र में 8 से 10 प्रश्न, सामान्य गणित में 10 और तर्कशास्त्र में 10 और विविध में चार से पांच प्रश्न पूछे गए।

गणित के प्रश्न थे थोड़े कठिन, एनसीईआरटी की पुस्तकें पढ़ने वालों को सहायता

एक विशेषज्ञ का कहना था कि परीक्षा में गणित के प्रश्न थोड़े कठिन थे। एनसीईआरटी की पुस्तकों का जिसने गहनता से अध्ययन किया होगा, उन्हें सफलता मिलेगी। सामान्य का कटऑफ 73 से 75, ओबीसी का 70 से 73, ईडब्ल्यूएस का 66 से 70, ईबीसी का 60-65, एससी /एसटी का 58 से 60 और महिलाओं का कटऑफ  55 से 60 के बीच रहने की उम्मीद है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.