धर्मांतरित दलितों के आरक्षण के पक्ष में नहीं है भाजपा, क्रीमी लेयर को आरक्षण का भी करेगी विरोध

भाजपा के वरिष्‍ठ नेता सुशील कुमार मोदी। फाइल फोटो

Bihar Politics भाजपा मुस्लिम व ईसाई धर्म को अपनाने वाले दलितों के लिए आरक्षण के पक्ष में नहीं है। इसको लेकर पार्टी पहले भी आधिकारिक तौर पर अपने विचार रखती रही है। भाजपा के वरिष्‍ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने एक बार फिर इस पर राय रखी है।

Shubh Narayan PathakSat, 27 Feb 2021 08:07 AM (IST)

पटना, राज्य ब्यूरो। देश का सबसे बड़ा राजनीतिक दल बन चुकी भाजपा मुस्लिम व ईसाई धर्म को अपनाने वाले दलितों के लिए किसी भी कीमत पर आरक्षण के पक्ष में नहीं है। इसको लेकर पार्टी पहले भी आधिकारिक तौर पर अपने विचार रखती रही है। भाजपा के वरिष्‍ठ नेता और बिहार के पूर्व उप मुख्‍यमंत्री सुशील कुमार ने मोदी ने एक बार फिर इस मसले पर पार्टी के रुख को स्‍पष्‍ट किया है। उन्‍होंने कहा कि विपक्षी दल साजिशन ईसाई व मुस्लिम धर्म में धर्मान्तरित दलितों के लिए भी आरक्षण की मांग करते हैं। मगर, संविधान में हिंदू, सिख व बौद्ध धर्मावलंबी दलितों के लिए ही आरक्षण का प्रावधान है। उन्‍होंने आरक्षण से संबंधित अन्‍य भी कई विषयों पर अपनी बात रखी।

क्रीमी लेयर को आरक्षण का लाभ देने का भी विरोध

राज्‍यसभा सदस्‍य सुशील मोदी ने भाजपा महादलित प्रकोष्ठ की ओर से पार्टी के प्रदेश कार्यालय के अटल सभागार में संत शिरोमणि रविदास महाराज की 644वीं जयंती के दौरान ये बातें कहीं। इस कार्यक्रम में मोदी ने यह भी कहा कि भाजपा एसएसी, एसटी की नौकरियों के आरक्षण में क्रीमी लेयर में पक्ष में नहीं है। इसीलिए नरेंद्र मोदी की सरकार ने इसका पुरजोर विरोध किया है। इसे सुप्रीम कोर्ट में 7 जजों की बेंच में भेजने की मांग की है। इसी प्रकार जब सुप्रीम कोर्ट ने एससी, एसटी अत्याचार निवारण अधिनियम के कुछ प्रावधानों को हटाया तो नमो सरकार ने संविधान में संशोधन कर उसे पुनर्स्‍थापित किया। यही नहीं, 23 नई धाराओं को जोड़ कर उसे और भी कठोर बनाया।

पंचायती राज में आरक्षण के लिए बिहार को सराहा

उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में एकल पदों पर 16 फीसद आरक्षण का प्रावधान किया। जबकि 15 साल तक बिहार में चली पति-पत्नी की सरकार ने एकल पदों पर आरक्षण दिए बिना पंचायत का चुनाव करा लिया था। स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडेय ने कहा कि संत रविदास  की वाणी से प्रेरणा लेते हुए हम सबों को समाज के आखिरी पायदान पर बैठे लोगों के विकास के लिए तत्पर रहना चाहिए। खान एवं भूतत्व मंत्री जनक राम और पीएचईडी मंत्री रामप्रित पासवान ने भी संबोधित किया।

दलितों को आगे बढ़ने के लिए शिक्षा से जुड़ने का आह्वान

महादलित प्रकोष्ठ के अध्यक्ष सुनील राम ने कहा कि दलित परिवार के आगे बढ़ने का एक ही रास्ता है कि वे शिक्षा ग्रहण करे। पूर्व मंत्री नंद किशोर यादव और प्रेम कुमार ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। समारोह में मुख्य रूप से भाजपा के प्रदेश संगठन महामंत्री नागेंद्र नाथ त्रिपाठी, सह संगठन महामंत्री शिवनारायण महतो, विधायक भागिरथी देवी, बथनाहा विधायक अनिल राम, दीघा विधायक व भाजपा के प्रदेश महामंत्री संजीव चैरसिया, पूर्व विधायक बेबी देवी, कन्हैया रजवार, राष्ट्रीय अनुसूचित आयोग के पूर्व सदस्य योगेंद्र पासवान भी उपस्थित थे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.