Bihar Politics: जब विधान परिषद में भावुक हो गईं राबड़ी देवी, मंत्री मुकेश सहनी की भी खोल दी पोल!

नीतीश कुमार, मुकेश सहनी एवं राबड़ी देवी। फाइल तस्‍वीरें।

Bihar Politics बिहार विधानसभा में राज्‍यपाल के अभिभाषण पर वाद-विवाद के दौरान एक वक्‍त ऐसा भी आया जब राबड़ी देवी भावुक हो गईं। परिषद में उन्‍होंने मंत्री मुकेश सहनी पर उपमुख्‍यमंत्री पद के लिए फोन करने का आरोप भी लगाया।

Publish Date:Sun, 29 Nov 2020 04:52 PM (IST) Author: Amit Alok

पटना, जेएनएन। Bihar Politics बिहार विधान सभा (Bihar Assembly) में मुख्‍यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) के तेजस्‍वी यादव (Tejashwi Yadav) पर गुस्‍से के एक दिन बाद विधान परिषद में नेता प्रतिपक्ष व पूर्व मुख्‍यमंत्री राबड़ी देवी (Rabri Devi) खुद को 'अनपढ़' (Illiterate) कह दिए जाने पर भावुक (Emotional) दिखीं। उन्‍होंने अपने संबोधन के दौरान राज्य की नीतीश सरकार में मंत्री मुकेश सहनी (Mukesh Sahani) की पोल भी खाेल कर रख दी।

विधान परिषद में हंगामे के बीच किसी ने कह दिया अनपढ़

विधान परिषद में राबड़ी देवी ने रोजगार के मुद्दे पर सरकार को घेरा। उन्‍होंने सरकार पर नौकरियां नहीं देने का आरोप लगाया तथा कहा कि लालू के काल को तो जंगल राज कहा जाता है, लेकिन आज किस पर आरोप नही है तथा कौन है जिस पर दाग नहीं लगा है? राबड़ी देवी की इस बात पर हंगामा हो गया। इसी बीच किसी ने राबड़ी देवी को 'अनपढ़' तक कह दिया।

राबड़ीं बोलीं: बाप-दादा ने नहीं पढ़ाया तो उनकी क्‍या गलती

खुद को अनपढ़ कहे जाने पर राबड़ी देवी भावुक हो गईं।उन्‍होंने कहा कि पहले स्कूल नहीं थे, इसलिए नहीं पढ़ सकीं। अगर उनके बाप-दादा ने उन्‍हें नहीं पढ़ाया तो इसमें उनकी क्या गलती है? लालू ने पा्रत्‍साहन दिया जो आज सभी लोग पढ़ रहे हैं। कहा कि वे पढ़ी-लिखी नहीं हैं, लेकिन सभी बातों की जानकारी रखती हैं।

मुकेश सहनी पर लगाया उपमुख्‍यमंत्री पद मांगने का आरोप

विधान परिषद में राज्यपाल के अभिभाषण पर वाद-विवाद के दौरान विकासशील इनसान पार्टी (VIP) के सुप्रीमो व राज्‍य सरकार में मंत्री मुकेश सहनी ने आरजेडी के सुबोध कुमार से बहस में कहा था कि आरजेडी की ओर से उन्‍हें उपमुख्यमंत्री बनाने के लिए फोन किया गया था। इसके बाद राबड़ी देवी ने कहा कि उपमुख्‍यमंत्री बनाने के लिए तो मुकेश सहनी ने फोन किया था। वे 25 सीटें व उपमुख्‍यमंत्री का पद मांग रहे थे। वे कितन लालची हैं, यह हमें पता है। इसपर मुकेश सहनी चुप होकर बैठ गए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.