Bihar Politics: लालू पर टिप्‍पणी से भड़के शिवानंद बाेले- झूठ पकड़े जाने के डर से भाग गए थे सुशील मोदी

शिवानंद तिवारी, लालू प्रसाद यादव और सुशील मोदी। फाइल फोटो

लालू पर टिप्‍पणी से नाराज शिवानंद तिवारी ने सुनाया सुशील मोदी का पुराना किस्‍सा कहा- हीन भावना से ग्रस्‍त हैं भाजपा नेता दावा किया- लालू प्रसाद यादव द्वारा झूठ पकड़े जाने के डर से सदन से भागना पड़ा था

Shubh Narayan PathakMon, 19 Apr 2021 08:06 AM (IST)

पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Politics: लालू प्रसाद यादव को झारखंड की रांची हाईकोर्ट से चारा घोटाले के मामले में जमानत मिलने के बाद राजद नेताओं और कार्यकर्ताओं के हौसले बुलंद हैं। यही वजह है कि लालू को जमानत मिलने पर राजद कार्यकर्ताओं को नसीहत देना भाजपा के वरिष्‍ठ नेता और बिहार के पूर्व मुख्‍यमंत्री सुशील मोदी को भारी पड़ रहा है। राजद नेताओं ने मोदी को निशाना बनाकर बयानबाजी का सिलसिला शुरू कर दिया है। राजद के वरिष्‍ठ नेता शिवानंद तिवारी ने तो कमाल ही कर दिया। उन्‍होंने कहा कि सुशील मोदी का कद लालू के सामने काफी छोटा है। उन्‍होंने मोदी को नौटंकीबाज बताते हुए कहा कि एक बार लालू ने विधानसभा में उनकी पोल खोल दी थी। इसके बाद खुद को फंसते देख मोदी किसी तरह सदन से निकल भागे थे।

शिवानंद तिवारी बोले- घायल होने का नाटक कर चुके हैं मोदी

राजद नेता शिवानंद तिवारी ने कहा कि एक बार सुशील मोदी ने विधानसभा में घायल होने का नाटक किया था। वे पट्टी बंधवाकर सदन में पहुंचे थे। तब लालू ने सदन में ही उन्‍हें पट्टी खोलकर दिखाने की चुनौती दी थी और नौटंकीबाज कहा था। शिवानंद से पहले लालू की बेटी रोहिणी आचार्य ने भी सुशील मोदी पर तंज कसा था।

छात्र राजनीति से ही हीन भावना का शिकार होने का जड़ा आरोप

राजद प्रमुख लालू प्रसाद की जमानत पर भाजपा सांसद सुशील कुमार मोदी की टिप्पणी पर शिवानंद तिवारी ने कड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा है कि सुशील कुमार मोदी छात्र राजनीति से ही लालू के मामले में हीन भावना के शिकार हैं। राजनीति में उनकी इतनी हैसियत नहीं बन पाई है कि वे लालू को राजनीति करने से रोक सकें। शिवानंद ने कहा कि लालू राजनीतिक जीव हैं। अदालत ने उन्हें बगैर किसी राजनीतिक बंधन के छोड़ा है। सुशील कुमार मोदी टिटहरी की तरह सपने देख रहे हैं।

केंद्र में वित्‍त मंत्री बनने के लिए दे रहे उल-जलूल बयान

शिवानंद तिवारी राजद के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष हैं। उन्होंने कहा कि सुशील कुमार मोदी अपने राजनीतिक मकसद के लिए किसी भी हद तक जा सकते हैं। राज्यसभा सदस्य बनने के बाद उन्होंने झूठी उम्मीद पाल रखी है कि निर्मला सीतारमण की जगह उन्हें वित्त मंत्री बनाया जा सकता है। इंतजार बर्दाश्त नहीं कर पा रहे हैं। इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को खुश करने के लिए लालू यादव के खिलाफ स्तरहीन बयान दे रहे हैं।

बिहार की राजनीति के विलेन हैं सुशील कुमार मोदी : राजद

पार्टी प्रमुख लालू प्रसाद की जमानत पर भाजपा नेता सुशील कुमार मोदी की टिप्पणी से भड़के राजद ने उन्हें राजनीति का विलेन बताया है। राजद के प्रदेश प्रवक्ता चित्तरंजन गगन ने कहा कि जमानत मिलना एक न्यायिक प्रक्रिया है, परंतु सुशील कुमार मोदी ने जो प्रतिक्रिया दी है, उससे लगता है कि अदालती प्रक्रिया से भी वे खुद को ऊपर मानते हैं। इससे यह भी साबित होता है कि राजद प्रमुख को साजिश के तहत फंसाया गया है।

लालू परिवार की चिंता की बजाय बिहार को संवारने में लगाएं ध्‍यान

राजद प्रवक्ता ने कहा कि सुशील कुमार मोदी ऐसे बोल रहे हैं जैसे वे आज भी उप मुख्यमंत्री ही हैं और पुलिस-प्रशासन से लेकर न्यायिक प्रक्रिया सब उन्हीं के नियंत्रण में है। राजद प्रवक्ता ने कहा कि सुशील कुमार मोदी की राजनीति लालू परिवार तक ही सीमित है। जितनी ऊर्जा वह इस परिवार की आलोचना में लगाते हैं, उसका थोड़ा हिस्सा भी अगर बिहार के लिए लगाए होते तो कोरोना के कारण आज त्राहिमाम की स्थिति नहीं रहती।

लालू प्रसाद की जमानत से कोई फर्क नहीं पड़ता : सुशील कुमार मोदी

इधर, भाजपा के राज्यसभा सदस्य सुशील कुमार मोदी ने रविवार को ट्वीट कर कहा कि लालू प्रसाद को जमानत मिलना या रद होना एक न्यायिक प्रक्रिया है। इससे बिहार की राजनीति और न्याय के साथ विकास की प्रशासनिक संस्कृति पर कोई असर नहीं पड़ेगा। सुशील कुमार मोदी ने कहा को राज्य सरकार का पूरा ध्यान फिलहाल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर से निपटने पर है। बिहार में अब तक 2.49 करोड़ से ज्यादा नमूनों की जांच हो चुकी है। जो तीन लाख लोग संक्रमित पाए गए, उनमें से 2. 75 लाख से ज्यादा स्वस्थ हो चुके हैं। राज्य में रिकवरी रेट 89.79 फीसद है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.