Bihar Politics: राहुल गांधी की बात भी नहीं मान रहे बिहार कांग्रेस के नेता, 75 दिन बाद तक आदेश का पालन नहीं

Bihar Politics बिहार कांग्रेस के नेताओं को राहुल गांधी ने गांव-गांव जाकर पार्टी का जनाधार मजबूत करने का निर्देश दिया था। इसके 75 दिन बाद तक आलाकमान के आदेश का पालन नहीं हो सका है। अब पार्टी के नेता इस मामले में सफाइ दे रहे हैं।

Amit AlokTue, 21 Sep 2021 02:46 PM (IST)
कांग्रेस के पूर्व अध्‍यक्ष राहुल गांधी। फाइल तस्‍वीर।

पटना, राज्य ब्यूरो। Bihar Politics बिहार कांग्रेस पार्टी (Bihar Congress Party) आलाकमान (High Command) के आदेश को लेकर भी गंभीर नहीं दिख रही है। आलम यह है कि जिस काम का दायित्व खुद पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) ने दिया, उसका भी 75 दिन बीतने के बाद तक पालन नहीं हुआ है। इसे लेकर बिहार कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि निर्देश में विलंब का कारण कोरोनावायरस संक्रमण (CoronaVirus Infection) व बाढ़ (Bihar Flood) आदि हैं।

सात जुलाई को राहुल गांधी ने दिया था निर्देश

बीते सात जुलाई को राहुल गांधी ने दिल्ली में बिहार के नेताओं की एक बैठक बुलाई थी। बैठक में बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष, विधान मंडल दल के साथ नेता के साथ बिहार के प्रभारी और तमाम विधायक, विधान पार्षद और सांसद शामिल हुए थे। दो अलग-अलग पालियों में राहुल गांधी ने सभी नेताओं से बारी-बारी से मुलाकात की। इस दौरान राहुल गांधी ने बिहार के अमूमन सभी पार्टी नेताओं से बिहार में कांग्रेस के खराब प्रदर्शन, घटते जनाधार के साथ संगठन के अन्य मुद्दों पर बात की और उनकी राय जानी।

गांव-गांव में पार्टी को मजबूत करने का निर्देश

कांग्रेस के नेताओं के हवाले यह जानकारी सामने आई कि बिहार के पार्टी नेताओं को राहुल गांधी ने यह टास्क सौंपा कि वे गांव-गांव का दौरा करें। गांव में रुक कर वहां के लोगों की समस्याएं सुन उनके निदान की रणनीति बनाकर काम करें। इसके साथ ही पंचायत स्तर पर संगठन को मजबूत करने की जिम्मेदारी भी पार्टी नेताओं को दी गई।

75 दिनों बाद तक कार्यक्रम को लेकर अनिश्चितता

आलाकमान का निर्देश लेकर बिहार लौटे कांग्रेस के नेता उस दौरान आदेश अमल को लेकर काफी सजग और सक्रिय नजर आए। नेताओं ने इक्का-दुक्का बैठकें कर गांवों में डेरा डालने की योजना भी बनाई, लेकिन पहले प्रभारी भक्त चरण का समय ना मिल पाने, इसके बाद कोरोना के मामलों को देखते हुए गांव-गांव दौरे के कार्यक्रम बन नहीं पाए। इसके बाद बाढ़ का हवाला देकर यह कार्यक्रम टाला गया। इस बीच संगठन में बदलाव को लेकर भी पार्टी में उहापोह की स्थिति रही। नतीजा पार्टी संगठन को गांव में विस्तार देने की योजना टलती गई। राहुल गांधी के उक्त आदेश के अब 75 दिन हो गए हैं, लेकिन कार्यक्रम को लेकर अनिश्चितता बनी हुई है।

अब पार्टी नेताओं ने बताया विलंब का कारण

इस मसले पर बिहार कांग्रेस के अध्यक्ष डा. मदन मोहन झा कहते हैं कि पार्टी के नेता गांवों का दौरा कर रहे हैं। राहुल गांधी का निर्देश था कि पंचायत स्तर पर संगठन को मजबूती दी जाए। उसपर काम हो रहा है। वहीं पार्टी विधान मंडल दल के नेता अजीत शर्मा कहते हैं गांव-गांव दौरे का कार्यक्रम कई कारणों से प्रभावित रहा। फिलहाल बिहार में बाढ़ है। बरसात थमते और बाढ़ का पानी कम होते ही यह अभियान शुरू किया जाएगा। उन्होंने कहा अगले महीने से पार्टी नेता ग्रामीण क्षेत्रों का दौरा प्रारंभ करेंगे।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.