बिहार में सफाई कर्मियों की हड़ताल पर आज फैसले की उम्‍मीद, पटना की सड़कों पर लगा कचरे का ढेर

Municipality Workers Strike in Bihar बिहार में आज नगर निकाय कर्मियों की हड़ताल पर हो सकता है फैसला नगर विकास एवं आवास विभाग के अफसरों के साथ दो बार हुई बैठक बातचीत सकारात्मक मगर हड़ताल जारी रखने का फैसला आज फिर बुलाई गई है वार्ता

Shubh Narayan PathakSun, 12 Sep 2021 06:21 AM (IST)
पटना सहित सभी शहरों में हड़ताल पर हैं नगर निकाय के कर्मी। प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर

पटना, जागरण टीम। Municipality Workers Strike in Bihar: बिहार के नगर निकायकर्मियों की हड़ताल पांचवें दिन भी जारी रही। शनिवार को हड़ताल तोडऩे को लेकर नगर विकास एवं आवास विभाग के अधिकारियों ने दो बार हड़ताली यूनियन के नेताओं के साथ वार्ता की मगर बात नहीं बनी। रविवार को फिर से हड़ताली यूनियन के साथ विभागीय अधिकारियों की बैठक बुलाई गई है। यूनियन नेताओं और विभागीय अधिकारियों दोनों ने माना कि वार्ता सकारात्मक माहौल में हुई। ऐसे में उम्मीद है कि रविवार को हड़ताल पर निर्णायक फैसला हो सकता है। इससे पूर्व, निकायकर्मियों की मांग पर विचार के लिए सचिवालय स्थित कार्यालय में पहले दोपहर 12 बजे और फिर छह बजे यूनियन नेताओं को बुलाया गया।

अब फैसले के मूड में सरकार

प्रधान सचिव आनंद किशोर ने भी यूनियन नेताओं से करीब ढाई घंटे तक गहन वार्ता की मगर हड़ताल तोडऩे पर सहमति नहीं बन पाई। प्रधान सचिव ने यूनियन के नेताओं से कहा कि आपकी विभिन्न मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जा रहा है। जल्द ही यथोचित निर्णय लिया जाएगा। उन्होंने जनहित को ध्यान में रखते हुए हड़ताल को अविलंब समाप्त करने की अपील भी की मगर यूनियन नहीं माना।

प्रधान सचिव ने बनाई तीन सदस्यीय कमेटी

वार्ता के दौरान यूनियन के नेताओं ने प्रधान सचिव से बातचीत के लिए कमेटी के गठन का अनुरोध किया। इसके बाद प्रधान सचिव ने तीन सदस्यीय कमेटी का गठन किया। इसमें विभाग के विशेष सचिव सह निदेशक सतीश कुमार सिंह, पटना नगर निगम के आयुक्त हिमांशु शर्मा और उप-निदेशक बुद्ध प्रकाश शामिल हैं। हड़ताली यूनियन के नेताओं के साथ शाम में कमेटी के सभी सदस्यों ने बैठक की। सौहार्दपूर्ण माहौल में हुई संघ के प्रतिनिधियों के साथ वार्ता में संघ के नेताओं की सहमति से रविवार को फिर से निर्णायक बैठक बुलाने का निर्णय लिया गया। हड़ताली यूनियन के साथ विभागीय अधिकारी हमारी मांगों पर मामला वित्त विभाग और नीतिगत होने का हवाला दे रहे हैं। ऐसे में रविवार को निर्णायक दौर की वार्ता होगी।

आमने-सामने यूनियन व विभाग

नगर विकास एवं आवास विभाग के प्रधान सचिव आनंद किशोर ने कहा कि हड़ताली कर्मियों की विभिन्न मांगों पर सहानुभूतिपूर्वक विचार किया जा रहा है। यूनियन की वैसी मांग जो नियमों के अनुकूल है, उस पर जल्द ही यथोचित निर्णय लिया जाएगा। जनहित को ध्यान में रखते हुए यूनियन के नेताओं से अपील है कि वह हड़ताल को अविलंब समाप्त कर लें। बिहार लोकल बॉडीज कर्मचारी संयुक्त मोर्चा के अध्यक्ष चंद्रप्रकाश सिंह ने कहा कि नगर विकास एवं आवास विभाग के अफसरों के साथ सकारात्मक वार्ता हुई। विभिन्न बिंदुओं पर विमर्श हुआ मगर बात नहीं बन पाई इसलिए फिलहाल हड़ताल जारी रखने का निर्णय लिया गया है। रविवार को फिर से वार्ता बुलाई गई है, जिसमें हड़ताल पर निर्णय लिया जाएगा।

इन मांगों पर अड़ा है कर्मचारी संगठन

29 जून 2018 के पहले तैनात दैनिक वेतनभोगी कॢमयों को आउटसोर्स से बाहर रखा जाए दैनिक कर्मियों को नियमित किया जाए, सफाई कॢमयों का मानदेय 18 से 21 हजार रुपये हो ग्रुप डी में पहले की तरह नियुक्ति का मार्ग प्रशस्त कर पदों को पुनर्जीवित करें नगर निकायों के स्तर पर अनुकंपा पर नियुक्ति प्रक्रिया शीघ्र प्रारंभ की जाए

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.