बिहार मुखिया चुनाव रिजल्ट: आठवें चरण में भी परिवारवाद को जनता ने दी पटकनी

पिछले सात चरणों की तरह इस भी कई दिग्गजों के स्वजनों को जनता ने पटकनी दे दी। सिवान जिले में रघुनाथपुर से राजद के विधायक हरिशंकर यादव का बेटा सुरेंद्र यादव कुशहरा पंचायत में मुखिया का चुनाव हार गया। हरिशंकर स्वयं कई बार मुखिया रह चुके हैं।

Akshay PandeyFri, 26 Nov 2021 10:00 PM (IST)
बिहार पंचायत चुनाव के आठवें चरण का परिणाम आ गया है। सांकेतिक तस्वीर।

राज्य ब्यूरो, पटना : बिहार में 24 नवंबर को संपन्न हुए आठवें चरण के पंचायत चुनाव का परिणाम शुक्रवार को आ गया। पिछले सात चरणों की तरह इस भी कई दिग्गजों के स्वजनों को जनता ने पटकनी दे दी। सिवान जिले में रघुनाथपुर से राजद के विधायक हरिशंकर यादव का बेटा सुरेंद्र यादव कुशहरा पंचायत में मुखिया का चुनाव हार गया। हरिशंकर स्वयं कई बार मुखिया रह चुके हैं। चार दशक से हरिशंकर के परिवार का मुखिया के पद पर कब्जा था। वहीं, बक्सर जिले में पूर्व मंत्री छेदीलाल राम के भाई की पत्नी ऊषा देवी पलिया पंचायत में मुखिया का चुनाव हार गई। ऊषा लगातर तीन बार से मुखिया थीं। इससे साफ है कि दोनों के परिवार पर सत्ता विरोधी लहर भारी रही।

पार्टी ने नकारा, जनता ने बनाया सरताज

भाजपा के वैशाली जिले में दो बार महामंत्री रहे मनीष शुक्ला को पार्टी ने भले किनारे कर दिया लेकिन जनता ने जिला परिषद चुनाव में जीत का सेहरा बांध दिया। मनीष ने जिला परिषद क्षेत्र संख्या-16 परचम लहराया है।

रामा सिंह के भाई हारे

पूर्व सांसद रामा सिंह के भाई व राजद के महनार की विधायक वीणा सिंह के देवर श्याम किशोर सिंह सहदेई बुजुर्ग प्रखंड के चढ़तै पंचायत में मुखिया का चुनाव हार गए। इसी तरह वैशाली जिले में राजद के जिलाध्यक्ष वैद्यनाथ चंद्रवंशी महुआ के जलालपुरगंगती पंचायत में मुखिया का चुनाव हार गए। चंद्रवंशी निवर्तमान मुखिया थे।

नौवें चरण के पंचायत चुनाव में 42 हजार पुलिस बल तैनात

नौवें चरण के पंचायत चुनाव के लिए सोमवार को 35 जिलों के 53 प्रखंडों के 875 पंचायतों में मतदान होगा। इसके लिए 12 हजार 378 मतदान केंद्र निर्धारित किए गए हैं, जिसमें 554 नक्सल प्रभावित हैं। पुलिस मुख्यालय ने शांतिपूर्ण चुनाव के लिए 42 हजार पुलिस व सुरक्षाबलों की तैनाती की है। इसमें जिला पुलिस बल, गृह रक्षक बल, बिहार विशेष सशस्त्र पुलिस एवं सैप बलों की प्रतिनियुक्ति की गई है। मतदान वाले जिलों में पुलिस कार्रवाई भी लगातार जारी है। अभी तक 957 अवैध हथियारा व 4589 कारतूसों की बरामदगी की गई है। आचार संहिता लगने के बाद से अभी तक चुनाव वाले 35 जिलों में 11 लाख 84 हजार 834 लीटर शराब जब्त की जा चुकी है। जांच के दौरान 10 करोड़ 19 लाख 58 हजार 450 रुपये का जुर्माना वसूल किया गया है। इस दौरान पुलिस प्रशासन ने 5323 के विरुद्ध सीसीए का प्रस्ताव दिया था जिसमें 3312 के विरुद्ध निरुद्धादेश का प्रस्ताव पारित कर दिया गया है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.