बिहार मुखिया चुनाव रिजल्ट: ढाई फुट के अनिल ने लंबाई का उठाया फायदा, निरक्षर ने स्नातक प्रतिद्वंद्वी को हराया

अनिल निरक्षर हैं और उन्होंने स्नातक पास अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी है। 2.5 फुट के अनिल पासी इंग्लिश पंचायत के वार्ड नंबर 12 का प्रतिनिधित्व नई पंचायत सरकार में करेंगे। स्थानीय लोगों का कहना है कि अनिल को लंबाई का फायदा मिला।

Akshay PandeyPublish:Mon, 25 Oct 2021 09:50 PM (IST) Updated:Tue, 26 Oct 2021 06:15 AM (IST)
बिहार मुखिया चुनाव रिजल्ट: ढाई फुट के अनिल ने लंबाई का उठाया फायदा, निरक्षर ने स्नातक प्रतिद्वंद्वी को हराया
बिहार मुखिया चुनाव रिजल्ट: ढाई फुट के अनिल ने लंबाई का उठाया फायदा, निरक्षर ने स्नातक प्रतिद्वंद्वी को हराया

संसू, मैरवा (सिवान): बिहार में गांव की सरकार बनाने के लिए पंचायत चुनाव चल रहा है। पांच चरणों का मतदान हो चुका है। इस बार 11 फेज में इलेक्शन होने हैं। वोटिंग के 72 घंटे में परिणाम भी जारी कर दिए जा रहे हैं। सिवान से एक रोचक परिणाम सामने आया है, जिसकी चर्चा चल रही है। नामांकन के बाद से ही मैरवा प्रखंड के इंग्लिश पंचायत के वार्ड 12 के अनिल पासी चर्चा में छाए रहे। चुनाव परिणाम भी उनके पक्ष में रहा। लोगों ने उन्हें अपने वार्ड की जिम्मेदारी सौंप दी। 276 मतदाताओं ने अपना मत देकर उन्हें ग्राम पंचायत का वार्ड सदस्य बनाया है। अनिल निरक्षर हैं और उन्होंने स्नातक पास अपने प्रतिद्वंद्वी को मात दी है। 2.5 फुट के अनिल पासी इंग्लिश पंचायत के वार्ड नंबर 12 का प्रतिनिधित्व नई पंचायत सरकार में करेंगे। स्थानीय लोगों का कहना है कि अनिल को लंबाई का फायदा मिला। कम ऊंचाई के कारण वह घर-घर के अंदर चाची, दीदी, भैया, बहन कहकर चले जाते थे। 

मैरवा प्रखंड के इंग्लिश पंचायत के वार्ड 12 के अनिल ने मतदाताओं को विकास का भरोसा चुनाव प्रचार के दौरान दिया था और भरोसे पर उतरने की कोशिश शुरू कर दी है। स्थानीय लोगों ने बताया कि जीत के बाद रविवार को अनिल ने अपने वार्ड के सभी 28 विद्युत पोल पर एलईडी बल्ब अपने खर्च पर लगा दिया है। यह देख स्थानीय लोग विकास को लेकर आश्वस्त हैं। बताते हैं कि अनिल पासी का पूर्व में राजनीतिक रिकार्ड नहीं रहा है। वार्ड नंबर 12 में शत-प्रतिशत मुस्लिम मतदाता हैं। चुनाव प्रचार के दौरान अनिल घर-घर जाते थे। ऊंचाई कम होने का उन्हें फायदा मिला। वह हर घर में बेधड़क प्रवेश कर जाते थे। चाची, दीदी, भैया, बहन कह कर महिलाओं और पुरुषों से वोट मांगते थे। अनिल पहले होटल में काम करते थे। उन्हें कामेडी करना पसंद है। इस क्षेत्र में भी उन्होंने लंबे समय तक काम किया है। जीत के बाद घोड़े पर सवार होकर उन्होंने अपने वार्ड में मतदाताओं का आभार व्यक्त किया।