एनडीए से नाराज बिहार के मंत्री मुकेश सहनी को मिला असदुद्दीन ओवैसी की AIMIM का साथ

यूपी में फूलन देवी प्रतिमा प्रकरण के बाद मुकेश सहनी राजग से नाराज हैं। बिहार के मंत्री को असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम का साथ मिला है। अख्तरुल ईमान ने कहा है कि सहनी के साथ जो हुआ है वह बिहार का अपमान है।

Akshay PandeyWed, 28 Jul 2021 10:41 PM (IST)
एआइएमआइएम के अध्यक्ष और बिहार के मंत्री मुकेश सहनी। जागरण आर्काइव।

जागरण टीम, पटना। बिहार के मत्स्य एवं पशुपालन मंत्री व विकासशील इंसान पार्टी (वीआइपी) के अध्यक्ष मुकेश सहनी की नजर उत्तर प्रदेश पर है। सहनी पहले ही ऐलान कर चुके हैं कि वह यूपी में अगले साल होने वाला विधानसभा चुनाव लड़ेंगे और सरकार भी बनाएंगे। सहनी की नजर निषाद समाज पर है। इस बीच फूलन देवी प्रतिमा प्रकरण से बिहार के सियासी गलियारे में उबाल आ गया है। यूपी में फूलन देवी की प्रतिमा स्थापित करने से पहले पुलिस-प्रसाशन द्वारा मूर्तियां जब्त किए जाने से मुकेश नाराज हैं। यूपी में सख्ती के कारण सहनी को खुद भी वाराणसी एयरपोर्ट से वापस लौटना पड़ा था। घटना के बाद सहनी राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) से नाराज हैं। इस बीच बिहार के मंत्री को असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआइएमआइएम का साथ मिला है। AIMIM के प्रदेश अध्यक्ष व विधायक अख्तरुल ईमान ने कहा है कि सहनी के साथ जो हुआ है वह बिहार का अपमान है। 

एआइएमआइएम के प्रदेश अध्यक्ष अख्तरुल ईमान ने कहा कि लोकतंत्र बड़े बुरे दौर से गुजर रहा है। मुकेश सहनी के साथ जो किया गया है इसके लिए बिहार विधानसभा में निंदा प्रस्ताव लाया जाना चाहिए। बिहार के पशुपालन मंत्री के साथ जो यूपी में हुआ इससे पूरे बिहार की बेइज्जती हुई है। उन्होंने कहा उत्तर प्रदेश में ला एंड आर्डर का मसला हो सकता है मगर बिहार के मंत्री को वापस राज्य से भेज देना आपमानजनक है। 

जातीय जनगणना पर एआइएमआइएम नीतीश के साथ

अख्तरुल ने कहा कि केंद्र में केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की चलती है। बिहार में भी बार-बार सवाल उठाया जा रहा है कि मंत्री की बात चपरासी नहीं सुन रहा है। इसपर गंभीरत से सोचने की जरूरत है। विधायक को विधानसभा में पीटना अच्छी बात नहीं है। सदन को सुचारू ढंग से चलाने के लिए सदन के नेता को इस विषय को गंभीरत से लेना चाहिए। अख्तरुल ईमान ने कहा कि जातीय जनगणना के मुद्दे पर हम नीतीश कुमार के साथ हैं। उन्होंने कहा कि नौकरी से लेकर फार्म भरने तक में जब जात की बात आती है तो गिनती में क्या समस्या है। इससे पिछड़े लोगों के साथ इंसाफ होगा। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.